दैनिक भास्कर हिंदी: इंदिरा एकादशी 2018: इंदिरा एकादशी व्रत करने से दूर होगा पितृदोष

October 4th, 2018

डिजिटल डेस्क, भोपाल । अश्विन मास के कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को बहुत ही विशेष माना जाता है। इसे इंदिरा एकादशी के नाम से जाना जाता है। इंदिरा एकादशी पितृपक्ष में आती है, जो इस बार 5 अक्टूबर 2018 दिन शुक्रवार को पड़ रही है। यदि जाने अनजाने पितरों से कोई पाप हुआ हो, जिस कारण उन्हें पितृ लोक में दण्ड मिल रहा हो, तो इंदिरा एकादशी व्रत से उनके पाप नष्ट हो जाते हैं और पितृ का उद्धार होता है। इस दिन प्रातः स्नानादि कर भगवान विष्णु का ध्यान करते हुए हाथ में जल, पुष्प व दक्षिणा लेकर व्रत का संकल्प करें। दिन के समय में पितृ प्रसन्नता के लिए श्राद्ध करें। 

 

 

 

इंदिरा एकादशी पूजा का विशेष मूहूर्त क्या है?

 
एकादशी प्रारम्भ: 4 अक्टूबर की रात को 9 बजकर 49 मिनट
एकादशी समाप्त: 5 अक्टूबर की शाम को 7 बजकर 18 मिनट
पारण का समय: 6 अक्टूबर सुबह 6:20 से 8:39 मिनट पर होगा