लोहड़ी 2023: क्यों मनाई जाती है लोहड़ी, जानें क्या है इसकी पूरी कहानी

January 14th, 2023

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। आपको शाहरुख खान की फ़िल्म 'वीर जारा' तो याद ही होगी जिसमें किंग खान और डिंपल गर्ल प्रीति जिंटा खूब मस्ती में लोहड़ी के गाने पर भांगड़ा करते हैं। उत्तर भारत में लोहड़ी बहुत लोकप्रिय और बेहद खास फेस्टिवल है, क्योंकि इसके साथ जुड़ी होती है खुशियां ही खुशियां। इस बार लोहड़ी का पर्व 14 जनवरी 2023 को मनाया जाएगा। आइए जानते हैं इस पर्व के बारे में...

क्या होता है लोहड़ी में खास

लोहड़ी का पर्व हर साल 14 जनवरी को मनाया जाएगा। खरीफ की फसल आने की खुशी में किसान अपने परिवार और गांव वालों के साथ मिलकर उत्सव मनाते हैं। इस मौके पर लोकगीत गाए जाते हैं और  लोकनृत्य भी किया जाता है। इस दिन शाम ढलते ही पंजाब और आस पास के राज्यों में लोग आग जलाकर उसके आस पास नाचते और गाते हैं। जहां पुरुष भांगड़ा पर झूमते हैं तो वहीं महिलाएं गिद्दा कर थिरकती हैं। 

पंजाब के अलावा ये फेस्टिवल हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और जम्मू-कश्मीर  के कुछ हिस्सों में मनाया जाता है। नए शादीशुदा जोड़ों के लिए भी लोहड़ी बेहद खास माना जाता है। इस दिन नए शादीशुदा जोड़े अग्नि के फेरे लेते हैं और अपने दाम्पंत्य जीवन की नई शुरुआत करते हैं। सभी जानते हैं कि पंजाब में खाने पीने के बेहद शौकीन लोग होते हैं और जब बात किसी उत्सव की हो तो फिर मज़ा और बढ़ जाता है। इस दिन मूंग के पकोड़े और बड़े चाव से खाए जाते हैं।

लोहड़ी की मान्यता
ऐसा कहा जाता है कि पंजाब में दुल्ला भट्टा नाम का एक शख्स था जो हमेशा गरीबों की मदद करता था। दो बहने सुंदरी और मुंदरी जो कि अनाथ थी, उनकी भी दुल्ला भट्टा ने मुश्किल समय में मदद की। दोनों बहनों को उनके चाचा ने ज़मींदार को सौंप दिया था। दुल्ला भट्टा ने दोनों बहनों को उसके चंगुल से छुड़ाकर आजाद कराया था। इसके बाद आग जलाकर दोनों बहनों की शादी भी करवाई। साथ ही उन दोनों  के झोले में दुल्ला ने शक्कर भरकर उन्हें विदाई दे दी। तभी से लोग ये फेस्टिवल मनाते हैं और दुल्ला भट्टा को लोकगीत गाकर याद करते हैं।