महाशिवरात्रि 2022: आज शिव योग में करें भोलेनाथ की पूजा, जानें शुभ मुहूर्त व पूजन विधि

March 1st, 2022

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देवों के देव भगवान शिव की पूजा का सबसे बड़ा पर्व महाशिवरात्रि आज यानी कि 1 मार्च, मंगलवार को देशभर में बड़े ही धूम धाम से मनाया जा रहा है। मंदिरों और शिवालयों में शिवभक्तों का तांता लगा हुआ है। हर साल यह पर्व फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है। शिवरात्रि पर भगवान भोलेनाथ की पूजा करने और व्रत रखने का विशेष महत्व माना गया है।
माना जाता है कि इस दिन महादेव का व्रत रखने से सौभाग्य और समृद्धि की प्राप्ति होती है। 

इस बार महाशिवरात्रि पर भगवान भोलेनाथ की पूजा चार पहर में करने का प्रावधान माना गया है। वहीं शिवयोग का खास संयोग भी बन रहा है। शिव योग के दौरान किए गए कार्यों में सफलता प्राप्त होने की मान्यता है। मान्यता है कि शिव योग में भगवान शंकर की विधि-विधान के साथ पूजा करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं इस दिन कैसे करें भगवान भोलेनाथ की पूजा और क्या है शुभ मुहुर्त...

महा शिवरात्रि 2022: भगवान भोलेनाथ की पूजा में इन बातों का रखें ध्यान

शिव पूजा का महत्व
भगवान शिव की पूजा करते समय बिल्वपत्र, शहद, दूध, दही, शक्कर और गंगाजल से अभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने से व्यक्ति की सभी समस्याएं दूर होकर उसकी इच्छाएं पूरी होती हैं।

शुभ मुहुर्त -
मुहुर्त प्रारंभ: मंगलवार प्रातः 3:16 बजे से 
शिव योग: सुबह 11 बजकर 19 मिनट से 02 मार्च सुबह 08 बजकर 21 मिनट तक
अभिजीत मुहुर्त: सुबह 11 बजकर 47 मिनट से दोपहर 12 बजकर 34 मिनट तक  
विजय मुहुर्त: दोपहर 02 बजकर 07 से 02 बजकर 53 मिनट तक
वाला है। 
गोधूलि मुहूर्त:  शाम 05 बजकर 48 मिनट से 06 बजकर 12 मिनट तक 

शिवरात्रि 2022: जानें रुद्राक्ष का भगवान शिव से संबंध और इसके लाभ

पूजा विधि
1. इस दिन सबसे पहले शिवलिंग पर चन्दन का लेप लगाकर पंचामृत से शिवलिंग को स्नान कराएं।
2. दीप और कपूर जलाएं।
3. पूजा करते समय ‘ऊं नमः शिवाय’ मंत्र का जाप करें।
4. शिवलिंग पर रोली, मौली, अक्षत, यानी पुष्प (कनेर गुलाब) पान, सुपारी ,लौंग, इलायची, चंदन, कमलगटटा, धतूरा, बेलपत्र, आदि चढ़ाना बिलकुल ना भूलें।
5. पूजा के बाद गोबर के उपलों की अग्नि जलाकर तिल, चावल और घी की मिश्रित आहुति दें।
6. महाशिवरात्रि के दिन शिवपुराण का पाठ और महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना शुभ माना जाता हैं।