comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

अगस्त में बॉलीवुड धमाका : साल की सबसे ज्यादा 21 फिल्में होंगी रिलीज

July 30th, 2018 15:22 IST

डिजिटल डेस्क, मुंबई। इस साल अगस्त में सबसे ज्यादा फिल्में रिलीज होने वाली हैं। महीने के चार शुक्रवारों में 21 छोटी-बड़ी फिल्में आएंगी। आमतौर पर एक महीने में ज्यादा से ज्यादा 11 फिल्में प्रदर्शित होती हैं। 21 में से 14 फिल्में बड़े और जाने-पहचाने नामों वाली हैं। इनमें मसाला और ऑफबीट दोनों होंगी। ट्रेड पंडितों के मुताबिक, अगस्त और सितंबर महीने हर साल ही ‘क्राउडेड’ रहते हैं। पिछले साल तो सितंबर में 23 फिल्में आई थीं।

ट्रेड पंडित अतुल मोहन के मुताबिक हाल के वर्षों में सालाना 150 से ज्यादा हिंदी फिल्में रिलीज हो रही हैं, जबकि उपलब्ध शुक्रवारों की संख्या 52 ही है। ऐसे में रिलीज को लेकर मारामारी होती है। अगस्त-सितंबर महीने में ज्यादा फिल्में आती हैं। वजह यह है कि जनवरी से मार्च तक त्योहारों का सीजन रहता है। अप्रैल के बाद आईपीएल आ जाता है और मई-जून में गर्मी की छुट्टियां। सितंबर बाद फिर से त्योहार शुरू हो जाते हैं। ऐसे में छोटे व मध्यम बजट की और एक्सपेरिमेंटल जॉनर की फिल्मों के लिए अगस्त-सितंबर के महीने बचते हैं, जहां उनको ठीक-ठाक संख्या में स्क्रीन्स मिल जाती हैं।


अगस्त में आने वाली फिल्मों में गोल्ड, सत्यमेव जयते, अंधाधुंध, यमला पगला दीवाना फिर से और हैप्पी फिर भाग जाएगी से सबसे ज्यादा उम्मीदें हैं। सबकी अलग-अलग वजह है। गोल्ड पीरियड फिल्म है। इससे अच्छे प्रदर्शन की उम्मीदें हैं। अक्षय कुमार की देशभक्ति वाली इमेज का फायदा इसे मिल सकता है। इसकी शूटिंग एक दर्जन से ज्यादा स्टेडियमों में हुई है। साथ ही 150 कलाकारों की भारी-भरकम फौज इसमें है। ‘सत्यमेव जयते’ जॉन अब्राहम की एक्शन फिल्म है। कहानी देशभक्ति और भ्रष्टाचार के विषय पर है। ‘अंधाधुंध’ श्रीराम राघवन और आयुष्मान खुराना की जोड़ी की थ्रिलर फिल्म है।

अंधे के रोल में आयुष्मान के कारनामे देखना दिलचस्प होंगे। यमला पगला दीवाना... की लाउड कॉमेडी में पूरा देओल परिवार गुजराती कनेक्शन में है। इसे 15 अगस्त को रिलीज किया जाना था। पर यह खिसककर 31अगस्त तक पहुंच चुकी है। ‘हैप्पी फिर... फ्रेंचाइजी फिल्म की अगली कड़ी है। वह ट्राइड और टेस्टेड तौर पर सफल रही है। इस बार इसमें चाइनीज गैंगस्टर का प्लॉट है। सोनाक्षी सिन्हा व पंजाबी स्टार जस्सी गिल भी फिल्म में हैं। बजट के लिहाज से देखें तो गोल्ड, हैप्पी फिर, विश्वरूपम-2, और सत्यमेव जयते बड़े बजट की फिल्में हैं। गोल्ड और विश्वरूपम-2 का बजट 50 करोड़ रुपए के आसपास होने का अनुमान है। हैप्पी फिर... और सत्यमेव जयते का बजट 40 और 30 करोड़ के अंदर होने की संभावना है। कारवां, राजमा चावल और लष्टम पष्टम 4 से 12 करोड़ के अनुमानित बजट वाली फिल्में हैं।


कुछ फिल्मों को डार्क हॉर्स माना जा रहा है। इनमें स्त्री और अनिल शर्मा की जीनियस है। स्त्री में राजकुमार राव और पंकज त्रिपाठी की हिट जोड़ी है। श्रद्धा कपूर भी फिल्में हैं। ‘जीनियस’ से उस डायरेक्टर की बड़े दिनों बाद वापसी हो रही है, जिसने गदर बनाई थी। यह भारतीय फिल्म इतिहास में ‘शोले’ और ‘हम आप के हैं कौन’ के बाद सबसे ज्यादा बार सिनेमाघरों में देखी गई थी। ‘जीनियस’ से वे अपने बेटे को लॉन्च कर रहे हैं।

कमल हासन की ‘विश्वरूपम2’ में आतंकवाद के जियोपॉलिटिक्स को बैकड्रॉप में रखा गया है। उनके शब्दों में ‘मैं दर्शकों को ऐसी जासूसी फिल्म देना चाहता था, जो ग्लोबल पॉलिटिक्स पर बेस्ड हो। इसमें हमने तालिबान, पाकिस्तान और खाड़ी देशों में अमेरिकी ‘दिलचस्पी’ के ताने-बाने को कहानी की शक्ल दी है। वर्ल्ड पॉलिटिक्स पर इस तरह की फिल्में कम बनती रही हैं।’

विनोद कापड़ी की ‘पीहू’ में एक इनोवेटिव एक्सपेरिमेंट है। वह यह कि यह संभवत: पहली ऐसी फिल्म होगी, जिसमें महज दो साल की बच्ची के किरदार के इर्द-गिर्द कहानी बुनी गई है। यह चौथे इफ्फी के इंडियन पैनोरमा की ओपनिंग फिल्म बनी थी। अब इसे रॉनी स्क्रूवाला और सिद्धार्थ रॉय कपूर रिलीज कर रहे हैं।



‘मुल्क’ अपने टॉपिक की वजह से अलहदा है। अनुभव सिन्हा के मुताबिक, ‘इसने अपने किरदारों के जरिए एक बहस छेड़ी है। वह यह कि जब तक जाति, नस्ल और मजहब का अहंकार रहेगा, तब तक अपराधों को जात-पात और मजहब के रंग से देखा जाता रहेगा। साथ ही यह भी कि हर मुल्क में बहुसंख्यक समाज की जिम्मेदारी है कि वह अल्पसंख्यक समाज की हिफाजत करें।

कमेंट करें
asGyN
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।