comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

एक बार फिर दूरदर्शन पर 'मोगली', लेकिन फैंस हैं खासा नाराज, जाने क्या है वजह

April 09th, 2020 18:15 IST
एक बार फिर दूरदर्शन पर 'मोगली', लेकिन फैंस हैं खासा नाराज, जाने क्या है वजह

हाईलाइट

  • जंगल बुक की वापसी
  • गुलजार साहब के टाइटल ट्रैक को गया हाटाया
  • इस बात से फैंस हुए नाराज

डिजिटल डेस्त, मुबंई। कोरोनावायरस (Coronavirus) के कहर के मद्देनजर भारत में 21 दिन का लॉकडाउन (Lockdown) लागू है। जिसके चलते सभी टीवी शो (TV Show) और फिल्मों (Films) की शूटिंग बंद है। ऐसे में कुछ टीवी चैनल्स (TV Channels) अपने पुराने और पॉपुलर सीरियल्स (Serials) को री-टेलीकास्ट (Re-Telecast) कर रहे हैं।

90 के दशक की इस अभिनेत्री ने किया कुछ ऐसा कि शर्मिंदा हो गईं बेटी

    

दूरदर्शन की राह पर चला जी टीवी, सैटेलाइट चैनलों के इतिहास का ये पहला कॉमेडी शो होगा सोमवार से टेलिकास्ट

बीते दिनों पब्लिक डिमांड के चलते दूरदर्शन (Doordarshan) पर रामानंद सागर (Ramanand Sagar) की 'रामायण' (Ramayana) और बी.आर चौपड़ा ( B.R. Chopra) की  'महाभारत' (Mahabharata) की वापसी हुई। साथ ही इसके कुछ दिनों बाद ही 90 के दशक का सीरियल शक्तिमान (Shaktimaan) ने भी वापसी कर ली। यह सैटेलाइट (Satellite) की दुनिया का पहला सुपर हीरो (Superhero) वाला सीरियल है। इतना ही नहीं यहां पर भी दूरदर्शन (Doordarshan) रूका नहीं है, दूरदर्शन (Doordarshan) एक अन्य पुराने और पॉपुलर शो के साथ आया है। जिसका नाम है 'जंगल बुक' (Jungle Book)।

इस बॉलीवुड एक्ट्रेस के भाई ने पत्नी के साथ शेयर की ऐसी हॉट तस्वीरें, जिन्हें देखकर आप...

    

Super Pink Moon 2020: लॉकडाउन के बीच दिखेगा साल का सबसे बड़ा सुपरमून, जानें भारत में समय, कब देखें

लॉकडाउन (Lockdown) के चलते घरों में बंद लोगों का मनोरंजन (Entertainment) करने का जिम्मा अब दूरदर्शन (Doordarshan) ने पूरी तरह से अपने कंधों पर ले लिया है। बात की जाए 'जंगल बुक'  (Jungle Book) की तो यह शो बच्चों को बेहद पसंद था और आज भी है। 90 के दशक में 'मोगली' (Mogli) बच्चों का पसंदीदा किरदार हुआ करता था। ऐसा कोई नहीं है आज जो मोगली (Mogli) को ना जानता हो। बच्चों का चहेता प्रोग्राम 'जंगल बुक' (Jungle Book) एक बार फिर से दूरदर्शन (Doordarshan) पर प्रसारित होने लगा है। हालांकि इस प्रोग्राम का पहला एपीसोड (Episode) देखने के बाद फैंस खासा नाराज हुए हैं। अब आप सोच रहे होंगे भला ऐसा क्यूं। क्योंकि आज की अपेक्षा में पहले के सीरियल काफी रीयल और वास्तविकता का बोध कराने वाले होते थे। 

Photos: इस कंपनी की मालकिन चाहती है 7 बच्चे, इन हॉट तस्वीरों से सोशल मीडिया पर मचाया तहलका

   

पहले कभी नहीं देखा होगा सनी लियोन का ऐसा बिकनी फोटोशूट, यहां देखें हॉट तस्वीरें

दरअसल जब फैंस (Fans) ने इसका पहला एपीसोड (Episode) देखा तो उन्हें अनुमान हुआ कि इस शो (Show) में कुछ बदलाव किए गए हैं। जिसको लेकर दर्शक (Viewers) खासा नाराज हैं। इस बार यह शो (Show) एक नए टाइटल सॉन्ग (Title Song) और दूसरी डबिंग (Dubbing) में दर्शकों (Viewers) के सामने आया है।

Coronavirus: जानिए आखिर क्यों इस मॉडल ने पहनी मास्क वाली बिकनी? देखे फोटो

लॉकडाउन: बोरियत के चलते इस एक्टर ने खुद को किया गंजा, देखें तस्वीर

आसिम रियाज के गाने पर शेफाली जरीवाला का कांटा लगा स्टाइल, देखें वीडियो

यह सीरियल (Serial) 90 के दशक में 'जंगल जंगल बात चली' टाइटिल सॉन्ग  (Title Song) के साथ शुरू होता था और यह इतना फेमस हो चुका था कि बच्चों के साथ साथ बड़ों को भी यह गाना भा गया। इतना ही नहीं आज भी इस गाने के बोल लोगों के मुंह पर रहते हैं। मोगली (Mogli) का किरदार और जंगल बुक (Jungle Book) की कहानी इस एक गाने से ही विश्व विख्यात है। जंगल बुक (Jungle Book) को बुधवार 8 अप्रैल दोपहर एक बजे से शूरू किया गया है। लेकिन जब फैंस को पुराना टाइटिल सॉन्ग (Title Song) नहीं मिला तो उनकी रूचि इस प्रोग्राम  (Program) को देखने में खत्म हो गई। बता दें कि टाइटल ट्रैक (Title Track) गुलजार (Gulzar) साहब का था।

Coronavirus: मास्क पहनने को लेकर गलत जानकारी दे रहा है WHO? जानें क्या है सच

इन 5 आदतों से हो सकता है कोरोनावायरस, जाने कैसे बचें

लोगों की नाराजगी ट्वीटस (Tweets) के जरिए सामने आई। दरअसल एक फैन ने लिखा कि इस प्रोग्राम ने अपने टाइटल सॉन्ग (title song) और बेहतरीन डबिंग (dubbing) के कारण लोगों में एक अलग पहचान बनाई थी। जिसे अब हटा दिया गया है। जिसके वजह से अब इसमें वो बात नहीं रही। 

रणवीर सिंह ने खोले दीपिका के राज, आधी रात को इस चीज की होती है तलब, जानें क्या है वो

बॉलीवुड: अंधकार के बावजूद दीपों से रोशन हुआ देश, बी-टाउन सेलेब्स ने जलाए दीए

कमेंट करें
e1gUx
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।