दैनिक भास्कर हिंदी: जानिए कैसे थलाइवा 'रजनीकांत' बने साऊथ के GOD, पढ़िए अनसुने किस्से

December 12th, 2017

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बॉलीवुड और टॉलीवुड के लीजेंड एक्टर और स्टाइल आइकन रजनीकांत आज अपना 67 वां जन्मदिन मना रहे हैं। रजनीकांत का पूरा नाम शिवाजी राव गायकवाड़ है। एक्टर बनने से पहले रजनीकांत एक बस कंडक्टर थे। दक्षिण भारतीय लोगों के लिए रजनीकांत सुपरस्टार के अलावा भगवान की तरह मानते हैं। 12 दिसंबर, 1950 को उनका जन्म मैसूर (बेगंलूरू) के एक मराठा परिवार में हुआ था। उनके पिता पुलिस कॉनस्टेबल थे। रजनीकांत फिल्मों में अपनी एक्टिंग और यूनिक स्टाइल के लिए फेमस हैं। रजनीकांत का चश्मा पहनने से लेकर, सिगरेट पीने, वॉकिंग हर स्टाइल उनके फैंस कॉपी करते हैं।

1973 में रजनीकांत ने मद्रास फिल्म संस्थान में शामिल हो गए। रजनीकांत ने अपनी फिल्मी करियर की शुरुआत तमिल फिल्म 'अपूर्वा रागंगल (1975)' से की। इस फिल्म में उनका बहुत ही छोटा रोल था। थलाइवा की आज भी भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में तूती बोलती है। रजनीकांत को लेकर हर साल इतने जोक्स बनाए जाते हैं जितना शायद ही किसी स्टार की खासियत को लेकर बनाया जाता हो। रजनी साऊथ सिनेमा के सबसे बड़े स्टार हैं। फिल्मों में उनकी नाम के आगे भी सुपरस्टार लगाया जाता है। 


 

(थलाइवा) रजनीकांत के बारे में कुछ खास बातें...
 
रजनीकांत को एक्टिंग का शौक रामकृष्ण परमहंस मिशन मठ से हुआ। एक बार 'एकलव्य' नाटक में उन्होंने हिस्सा लिया जिसके बाद से उन्हें हीरो बनने का शौक लग गया।  

रजनीकांत ने शिक्षा के लिए कारपेंटर और कुली जैसे काम भी किए थे। साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत और कमल हासन ने लगभग 18 फिल्मों में काम किया है। 

कमल हासन का उनके करियर में बहुत बड़ा योगदान है। कमल की वजह से ही रजनीकांत को लंबे-लंबे रोल मिलने लगे।

रजनीकांत के फेवरेट एक्‍टर कमल हासन हैं, उनके साथ रजनी कई फिल्‍मों में काम भी कर चुके हैं।


 
तेलुगु फिल्म चिलकम्मा चेप्पिंडी (1977) बतौर मेन लीड रजनीकांत की पहली फिल्म थी। 

रजनीकांत ने अमिताभ बच्चन की कई फिल्मों के रीमेक किए हैं, जिसमें 'अमर अकबर एंथनी' और 'रोटी कपड़ा और मकान' शामिल है।

शिवाजी की सफलता के बाद रजनीकांत ने अपनी फीस 26 करोड़ रुपए कर दी थी, इसी के साथ वह जैकी चैन के बाद सबसे महंगे सितारे बन गए।


 

खलनायक बनकर की करियर की शुरुआत

रजनीकांत तमिल फिल्मों में खलनायक की भूमिकाएं निभाने के बाद वह धीरे-धीरे मुख्य अभिनेता के तौर स्थापित हुए। फिल्म 'छिलाकाम्मा चेप्पिनडी' (1975) में उन्हें पहली बार हीरो का रोल मिला। इसके बाद देखते ही देखते रजनीकांत तमिल सिनेमा पर छा गए। रजनीकांत ने कई बॉलीवुड फिल्‍मों में भी काम किया। इनमें 'मेरी अदालत', 'जान जॉनी जनार्दन', 'भगवान दादा', 'दोस्ती दुश्मनी', 'इंसाफ कौन करेगा', 'असली नकली', 'हम', 'खून का कर्ज', 'क्रांतिकारी', 'अंधा कानून', 'चालबाज', 'इंसानियत का देवता' जैसी बेहतरी फिल्में शामिल हैं।

रजनीकांत के नाम ये अवार्ड


2014 में रजनीकांत को छह तमिलनाडु स्टेट फिल्म अवॉर्ड मिले। इनमें चार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और दो स्पेशल अवार्ड फॉर बेस्ट एक्टर के लिए मिले। वर्ष 2000 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

 
नहीं फिल्माया गया मौत का सीन

रजनीकांत ने पिछले कई सालों से स्‍क्रीन पर मौत के सीन नहीं किए हैं, डायरेक्‍टर्स को लगता है कि अगर उन्‍होंने रजनी को मरते हुए दिखाया तो फिल्‍म फ्लॉप हो जाएगी। रजनीकांत पहले एक ऐसे अभिनेता है जिनको CBSE ( Central board of secondary Education ) के सिलेबस में जगह मिली है। रजनीकांत के बारे में एक नया पाठ “ From Bus Conductor to Superstar “ किताबों में जोड़ा गया।

 

 

इन दिनों वे अपनी सबसे सुपरहिट फिल्म रोबोट के अगले पार्ट 2.0 के प्रोजेक्ट में बिजी हैं। यह फिल्म अगले साल 18 अप्रैल 2018 को रिलीज की जाएगी। इस फिल्म में उनके साथ बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार भी नजर आएंगे। 2.0 को सिनेमा की अब तक की सबसे महंगी फिल्म बताया जा रहा है।