comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

उप्र में कोरोना के 480 नए मरीज, 12088 लोग संक्रमित, अब तक 345 मौतें

June 12th, 2020 00:00 IST
 उप्र में कोरोना के 480 नए मरीज, 12088 लोग संक्रमित, अब तक 345 मौतें

हाईलाइट

  • उप्र में कोरोना के 480 नए मरीज, 12088 लोग संक्रमित, अब तक 345 मौतें

लखनऊ, 11 जून (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस का प्रकोप लगातार बढ़ता चला जा रहा है। गुरुवार को 480 नए मरीजों का पता चला। इसके साथ संक्रमितों की संख्या 12,088 तक जा पहुंची। कुल 7292 लोग संक्रमण से मुक्त चुके हैं। वायरस की चपेट में आकर अब तक 345 लोग दम तोड़ चुके हैं।

संक्रामक रोग विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ़ विकासेंदु अग्रवाल ने बताया कि आगरा में 999, मेरठ में 585, गौतमबुद्धनगर में 788, लखनऊ में 512, कानपुर शहर में 604, कानपुर देहात में 40, गजियाबाद में 554, सहारनपुर में 277, फिरोजाबाद में 337, मुरादाबाद में 287, वाराणसी में 257, रामपुर में 242, जौनपुर में 372, बस्ती में 249, बाराबंकी में 195, अलीगढ़ में 236, हापुड़ में 203, बुलंदशहर में 272, सिद्धार्थनगर में 153, अयोध्या में भी 153, गाजीपुर में 169, अमेठी में 215, आजमगढ़ में 164, बिजनौर में 174, प्रयागराज में 136, संभल में 160, बहराइच में 108, संत कबीर नगर में 156, प्रतापगढ़ में 91 और मथुरा में 124 लोग कोरोना के मरीज बन चुके हैं।

इसी तरह सुल्तानपुर में 108, गोरखपुर में 149, मुजफ्फरनगर में 137, देवरिया में 138, रायबरेली में 104, लखीमपुर खीरी में 81, गोंडा में 109, अमरोहा में 75, अंबेडकर नगर में 94, बरेली में 91, इटावा में 99, हरदोई में 142, महराजगंज में 89, फतेहपुर में 86, कौशांबी में 54, कन्नौज में 123, पीलीभीत में 74, शामली में 54, बलिया में 60, जालौन में 81, सीतापुर में 45, बदायूं में 48, बलरामपुर में 51, भदोही में 81, झांसी में 67, चित्रकूट में 65, मैनपुरी में 103, मिर्जापुर में 41, फरु खाबाद में 59, उन्नाव में 75 और बागपत में 119 लोग वायरस से संक्रमित हो चुके हैं।

इतना ही नहीं, औरैया में 52, श्रावस्ती में 47, एटा में 53, बांदा में 31, हाथरस में 47, मऊ में 64, चंदौली में 39, शाहजहांपुर में 53, कासगंज में 30, कुशीनगर में 57, महोबा में 24, सोनभद्र में 26, हमीरपुर में 22 और ललितपुर में 4 लोग कोरोना पॉजटिव मरीज हो गए हैं।

कमेंट करें
iEc5a
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।