comScore

उप्र : कोरोना की दहशत के बीच पटरी पर लौटनी शुरू हुई जिंदगी

June 01st, 2020 22:31 IST
 उप्र : कोरोना की दहशत के बीच पटरी पर लौटनी शुरू हुई जिंदगी

हाईलाइट

  • उप्र : कोरोना की दहशत के बीच पटरी पर लौटनी शुरू हुई जिंदगी

लखनऊ, 1 जून (आईएएनएस)। कोरोनावायरस को रोकने के लिए लागू रहे लॉकडाउन के चार चरण समाप्त होने के बाद अब सोमवार से अनलॉक-1 शुरू हो गया। इसके साथ उत्तर प्रदेश में जिंदगी पटरी पर लौटनी शुरू हो गई। हालांकि लोगों में कोरोना का दहशत बना हुआ है, जिसके कारण लोग सारी सावधानियां बरतते नजर आए।

सरकारी कार्यालय खुल गए, और सड़कों पर कुछ जगह जाम भी देखा गया। बसों और टैम्पो में लोगों को मास्क और सैनिटाइजर के साथ देखा गया।

लॉकडाउन की लंबी अवधि बाद अनलॉक-1 की व्यवस्था लागू होने से लोग घरों से निकल कर बाजारों में पहुंचे। इस दौरान दुकानदार पूरी सावधानी बरत रहे हैं। शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में मास्क पहनने के बाद ही प्रवेश की अनुमति दी जा रही है।

बस सेवा प्रारंभ होने के पहले दिन उत्तर प्रदेश राज्य परिवहन सेवा के मंत्री अशोक कटारिया और प्रबंध निदेशक राजशेखर ने हालात का जायजा लिया।

परिवहन मंत्री ने कहा कि यह प्रथम चरण है, और दूसरे चरण में अंतरराज्यीय सेवाओं का संचालन शुरू किया जाएगा।

यात्रियों की जांच और सैनिटाइजर की उपलब्धता चेक करने के बाद परिवहन मंत्री ने बस अड्डे से निकल रही गोंडा-बलरामपुर रूट की बस में प्रवेश किया। यात्रियों के चेहरे पर मास्क लगा देख उन्होंने सवाल किया कि क्या सैनिटाइजर से हाथ धुलवाया गया था। यात्रियों के हामी भरने के बाद मंत्री ने वाया बरेली दिल्ली जा रही बस में प्रवेश किया। यात्रियों से फीडबैक लेने के बाद मास्क और सैनिटाइजेशन की व्यवस्था देखी। इस दौरान मंत्री ने एक यात्री का खुद सैनिटाइजर से हाथ धुलवाया। साथ ही कहा कि बिना मॉस्क के वह सफर न करें।

लखनऊ से कानपुर जाने वाले यात्रियों के लिए सिर्फ चारबाग से बसों का संचालन शुरू हुआ। वहीं, कैसरबाग बस स्टेशन पर बाराबंकी, सीतापुर, लखीमपुर, हरदोई, बहराइच, गोंडा व रायबरेली, लालगंज, फतेहपुर, सुल्तानपुर, आजमगढ़, गाजियाबाद जाने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग के बाद उन्हें बसों में सवार होने दिया गया।

राजधानी लखनऊ में चारबाग और आलमबाग, कैसरबाग में सिटी बस और ऑटो-टेम्पो चलते हुए दिखाई दिए। लखनऊ ऑटो ओनर्स-चालक वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष पंकज दीक्षित ने बताया कि अभी 50 प्रतिशत ऑटो चलाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि सोमवार सुबह से ही रवींद्रालय, चारबाग में प्रत्येक ऑटोरिक्शा को सैनिटाइज किया जा रहा है। सभी को मास्क पहनने के लिए अनिवार्य किया गया है।

सिटी बसों में बैठे लोगों की जेब में सैनिटाइजर और चेहरे पर मास्क लगा हुआ नजर आ रहा था। एक यात्री रामकुमार चारबाग से हजरतगंज कुछ खरीदारी करने निकले थे। वह वायरस को लेकर डरे थे। उनके साथ उनका बेटा था, जो मास्क लगाए और लोगों को वायरस के बारे में सचेत कर रहा था।

सोमवार को चारबाग रेलवे स्टेशन से तीन ट्रेनों का भी संचालन हुआ। सुबह छह बजे गोमती एक्सप्रेस रवाना हुई। इस पर चढ़ने के लिए यात्री एक घंटे पहले ही स्टेशन पर आ चुके थे। यात्रियों को बताया जा रहा था कि केवल कन्फर्म टिकट वाले ही प्लेटफॉर्म पर जाएं। वहीं प्लेटफॉर्म एक के मेन गेट से पहले यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग की गई और हाथों को सेनिटाइज किया गया। छह बजे तय समय पर 283 यात्रियों के साथ ट्रेन रवाना हुई। हर यात्री को रेलवे के कर्मचारियों के द्वारा बताया जा रहा था कि ट्रेन में क्या करना, क्या नहीं।

अपर मुख्य सचिव, गृह, अवनीश अवस्थी ने कहा, मुख्यमंत्री ने स्टेशन पर आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की स्क्रीनिंग के लिए कहा है। रेलवे स्टेशन पर हर यात्री को कोरोना से बचाव के संबंध में हैंडबिल उपलब्ध कराया जाएगा। आज से रेल सेवा प्रारम्भ होने के ²ष्टिगत सभी रेलवे स्टेशनों पर थर्मल स्कैनिंग की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। स्टेशन पर प्रशासन, पुलिस तथा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को अनिवार्य रूप से तैनात रहने को मुख्यमंत्री ने कहा है।

कमेंट करें
PZqsT