दैनिक भास्कर हिंदी: 11 वां विश्व हिंदी सम्मेलन मॉरिशस में, हिंदी के विद्वानों का होगा सम्मान

August 18th, 2018

हाईलाइट

  • 11 वां विश्व हिंदी सम्मेलन मॉरिशस में
  • सम्मेलन का विषय "हिंदी विश्‍व और भारतीय संस्‍कृति" है।
  • हिंदी के विद्वानों का होगा सम्मान

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। 11 वें विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन विदेश मंत्रालय द्वारा मॉरीशस सरकार के सहयोग से 18 से 20 अगस्त को मॉरीशस में हो रहा है। विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन 4 सालों में एक बार किया जाता है। इस सम्मेलन में मुख्य रूप से  हिंदी साहित्य के विकास और इसके गौरवशाली इतिहास पर चर्चा होती है। 11 वें विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन मॉरीशस में करने का निर्णय भोपाल में आयोजित 10 वें हिन्दी विश्व हिन्दी सम्मेलन के दौरान ही ले लिया गया था। मॉरिशस में सम्मेलन का आयोजन "स्वामी विवेकानंद अंतर्राष्ट्रीय सभा केंद्र" में होगा। इस सम्मेलन में दुनियाभर से हिंदी के विद्वान और हिंदी प्रेमी शामिल होंगे। पहला विश्व हिंदी सम्मेलन 1975 में नागपुर में आयोजित किया गया था।
 

 

 

 

 

 

 


विदेश मंत्रालय को जिम्मेदारी 
11वें विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन विदेश मंत्रालय की देखरेख में होगा। सम्मेलन में होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों को ध्यान में रखते हुए आयोजकों ने विभिन्न समितियाँ का गठन कर जिम्मेदारियां सौंपी हैं। 11 वे विश्व हिंदी सम्मेलन का मुख्य विषय "हिंदी विश्‍व और भारतीय संस्‍कृति" है।

दिन में होंगे बौध्दिक सत्र
विश्व हिदी सम्मेलन के दौरान दिन में बौध्दिक और शैक्षणिक सत्र आयोजित होंगे जिनको हिंदी भाषा के विकास में विशेष योगदान देने वाले अतिथी संबोधित करेंगे। इन सत्रों में हिंदी भाषा के भारतीय संस्‍कृति में योगदान के साथ अबतक के विकास और भविष्य में हिंदी भाषा को और आगे पहुंचाने पर चर्चा की जाएगी।

सम्मेलन के दौरान होंगे सांस्कृतिक कार्यक्रम
11 वें हिन्दी सम्मेलन के दौरान शाम को भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद, नई दिल्ली द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों और कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। वहीं सम्मेलन स्थल पर हिंदी भाषा की विकास यात्रा बयां करती कई प्रदर्शनियां लगाई जाएंगी।

हिंदी के विद्वानों का होगा सम्मान
मॉरिशस में आयोजित हो रहे 11 वें हिन्दी सम्मेलन में  हिंदी विद्वानों को हिंदी के क्षेत्र में उनके विशेष योगदान के लिए "विश्व हिंदी सम्मान” से सम्मानित किया जाएगा। विदेश मंत्रालय ने सम्मेलन से जुड़ी तमाम जानकारियां उपलब्ध कराने के लिए एक वेबसाइट भी डिजाइन करवाई है। 

 

 

खबरें और भी हैं...