comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

कर्ज के जाल में फंस रहा पाकिस्तान, चीन बोला- इसमें हमारा कोई हाथ नहीं

September 08th, 2018 20:36 IST
कर्ज के जाल में फंस रहा पाकिस्तान, चीन बोला- इसमें हमारा कोई हाथ नहीं

हाईलाइट

  • कर्ज के जाल में फंसे पाकिस्तान की हालत दिन-ब-दिन बिगड़ती ही जा रही है।
  • इसका एक बड़ा कारण पेइचिंग के बेल्ट ऐंड रोड इनिशटिव (BRI) के उस कर्ज को भी माना जा रहा है।
  • चीन ने कहा कि उसके प्रॉजेक्ट ने कभी भी पाकिस्तान पर कर्ज नहीं थोपा।

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। कर्ज के जाल में फंसे पाकिस्तान की हालत दिन-ब-दिन बिगड़ती ही जा रही है। इसका एक बड़ा कारण पेइचिंग के बेल्ट ऐंड रोड इनिशटिव (BRI) के उस कर्ज को भी माना जा रहा है, जिसके चक्कर में पाकिस्तान पर महंगा कर्ज बढ़ता ही चला गया। ऐसा कहा भी जा रहा है कि चीन लगातार पाक को अपने कर्ज के जाल में फंसाता जा रहा है। इसके विपरीत चीन ने इन सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि उसके प्रॉजेक्ट ने कभी भी पाकिस्तान पर कर्ज नहीं थोपा।

बता दें कि चीन के विदेश मंत्री वांग यी इन दिनों तीन दिवसीय यात्रा पर पाकिस्तान पहुंचे हैं। वांग यी का यह दौरा अपने आप में महत्वपूर्ण है, क्योंकि पाकिस्तान में नई सरकार बनने के बाद दोनों देशों के बीच यह पहली टॉप-लेवल की मुलाकात है। पाकिस्तान की चीन से करीबी ऐसे समय में बढ़ रही है, जब आतंकवाद पर दोहरे रवैये के चलते अमेरिका के साथ उसके संबंध तनावपूर्ण होते जा रहे हैं।

बता दें कि चीन ने BRI पहल के तहत पाकिस्तान को 57 अरब डॉलर का लोन देने का वादा किया है। चीन के विदेश मंत्री ने कहा कि BRI पहल के पाकिस्तानी हिस्से (चीन-पाक आर्थिक गलियारा यानी CPEC) ने आर्थिक विकास को 1-2 फीसदी बढ़ाने में मदद की है और इसकी वजह से 70,000 नौकरियों के अवसर पैदा हुए हैं।

पाक मूल के लोगों से मदद मांग रहे इमरान
पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था काफी खस्ताहाल है और विकास की रफ्तार तो एकदम सुस्त पड़ी हुई है। इन सभी को देखते हुए चीन पर ऐसे आरोप लग रहे हैं कि वो पाकिस्तान को कर्ज के जाल में फंसा रहा है। पाकिस्तान के हालात इतने खराब हो गए हैं कि नए प्रधानमंत्री इमरान खान ने विदेश में बसे पाक मूल के लोगों से मदद की अपील की है।

इससे पहले अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भी जुलाई महीने में एक बयान जारी कर आगाह किया था। पोम्पियो ने कहा था कि पाकिस्तान की बदहाल अर्थव्यवस्था के लिए संभावित अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष बेलआउट पैकेज का इस्तेमाल किसी भी तरह से चीन के कर्ज को चुकाने में नहीं होना चाहिए।

कमेंट करें
U8B1d