दैनिक भास्कर हिंदी: WHO की चेतावनी, डेल्टा अब यूरोप के अधिकांश हिस्सों में कोविड-19 का डॉमिनेंट वैरिएंट

July 27th, 2021

हाईलाइट

  • यूरोप के अधिकांश हिस्सों में कोविड-19 का डॉमिनेंट वैरिएंट बना डेल्टा
  • WHO ने कहा- डेल्टा वैरिएंट को रोकने के प्रयासों को मजबूत किया जाना चाहिए

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने सोमवार को चेतावनी दी कि डेल्टा अब यूरोप के अधिकांश हिस्सों में कोविड-19 का डॉमिनेंट वैरिएंट है। यूरोपियन सेंटर फॉर डिजीज प्रिवेंशन एंड कंट्रोल (ईसीडीसी) के साथ WHO ने कहा कि डेल्टा वैरिएंट को फैलने से रोकने के प्रयासों को मजबूत किया जाना चाहिए। 

डब्ल्यूएचओ के यूरोप के रीजनल ऑफिस के अनुसार 28 जून और 11 जुलाई के बीच की अवधि के सर्विलांस डेटा से पता चलता है कि डेल्टा 28 यूरोपीय देशों में से कम से कम 19 में SARS-CoV-2 का डॉमिनेंट वैरिएंट था। इन 19 देशों में जेनेटिक सिक्वेंसिंग के लिए भेजे गए सैंपलों में पाए गए डेल्टा वेरिएंट का औसत अनुपात 68.3 प्रतिशत था। इसकी तुलना में, पहले का डॉमिनेंट वैरिएंट अल्फा केवल 22.3 प्रतिशत सैंपलों में पाया गया।

यह डेटा इंडिकेट करता है कि डेल्टा अब अधिकांश यूरोप में कोविड-19 के डॉमिनेंट वैरिएंट के रूप में अल्फा से आगे निकल गया है। एक्सपर्ट पहले ही लगभग सभी यूरोपीय देशों में हाईली ट्रांसमिसिबल डेल्टा वैरिएंट की उपस्थिति की पुष्टि कर चुके हैं। रिपोर्टों के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में भी, सभी नए कोविड-19 संक्रमणों में डेल्टा वैरिएंट का लगभग 83 प्रतिशत हिस्सा है। यदि मौजूदा रुझान जारी रहता है, तो डेल्टा आने वाले हफ्तों में SARS-CoV-2 के विश्व स्तर पर डॉमिनेंट वैरिएंट के रूप में उभरेगा। 

डेल्टा वैरिएंट (बी.1.617.2) का पहली बार अक्टूबर 2020 में भारत में पता चला था। इस वैरिएंट को भारत में तबाही मचाने वाली दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार माना जाता है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने माइक्रोबायोलॉजिस्ट शेरोन पीकॉक के हवाले से बताया, इस समय दुनिया के लिए सबसे बड़ा जोखिम सिर्फ डेल्टा है। शेरोन पीकॉक ने कहा डेल्टा अभी तक का सबसे फिटेस्ट और सबसे फास्टेस्ट वैरिएंट है।

खबरें और भी हैं...