अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहा चीन: अरुणाचल प्रदेश से सटी सीमा पर गांव बसा रहा ड्रैगन, जबाव में भारत भी बढ़ा रहा अपनी ताकत

May 18th, 2022

हाईलाइट

  • भारत ने भी तेजी से अपने इंफ्रास्ट्रकचर को बढ़ाने का काम किया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारत और चीन की अंतराष्ट्रीय सीमा एलएसी (लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल) पर फिर से हलचल बढ़ गई है। दरअसल, चीन भारत के अरुणाचल प्रदेश से सटी सीमा के पास अपनी गतिविधियां बढ़ा रहा है। चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी यहां गांव बसाने के साथ सड़क व रेलमार्ग बनाने का काम तेजी से कर रही है।

इसके जबाव में भारत की सेना ने भी एलएसी सीमा पर अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है। साथ ही सीमा के समीप बुनियादी ढ़ांचे के निर्माण में तेजी से लगा हुआ है। भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट जनरल ऑफिसर आरपी कालिता ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए यह जानकारी दी। 

चीनी सेना को जबाव देने के लिए हम भी तैयार

जनरल आरपी कलिता ने कहा कि चीनी सेना अपनी ताकत को बढ़ाने के लिए सीमा के उस पार अपने बुनियादी ढ़ांचे को मजबूत करने की जुगत में तेजी से लगा है। चीन वहां सड़क, रेलवे ट्रेक और रनवे का निर्माण कर रहा है। उनहोंने कहा कि, चीन ने सीमा के पास गांव विकसित कर लिए ताकि अपने लक्ष्यों की पूर्ती में उनका इस्तेमाल कर सके। 

मेजर कलिता ने कहा कि चीन की इस चुनौती से निपटने के लिए भारत ने भी तेजी से अपने इंफ्रास्ट्रकचर को बढ़ाने का काम किया है। हमने भी सीमा के समीप सड़क, रेल व हवाई संपर्कों के साधनों को बढ़ाने का काम किया है, ताकि हम भी जरुरत पड़ने पर इसका इस्तेमाल कर सकें। उन्होंने कहा कि चीन के इस एक्शन के बाद भारत ने सेना के जवानों तैनाती अरुणाचल प्रदेश से लेकर लद्दाख से सटी सीमा पर बढ़ा दी गई है।  

भारत-चीन सीमा पर नहीं हो रही कोई घुसपैठ

जनरल कलिता से जब सीमा पर चीनी सेना द्वारा घुसपैठ करने से जुड़ा सवाल किया तो उन्होंने इससे साफ इनकार कर दिया। उनके अनुसार चीन से सटी बॉर्डर पर किसी भी प्रकार की कोई घुसपैठ नहीं हुई है।  गौरतलब है कि अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन की एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया था कि चीन ने अरुणाचल प्रदेश से सटी सीमा पर गांव का निर्माण कर लिया है। नवंबर 2021 में आई इस रिपोर्ट के अनुसार, यह गांव अरुणाचल के सुबनसिरी जिले में बसाया गया, साथ ही यहां चीनी सेना द्वारा चौकी की निर्माण भी किया गया है।