comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

फीफा : 32 साल बाद सेमीफाइनल में बेल्जियम, 5 बार की विजेता ब्राजील बाहर

July 07th, 2018 12:49 IST

डिजिटल डेस्क, कजान । फीफा वर्ल्ड कप में जर्मनी, अर्जेंटीना, स्पेन और पुर्तगाल के बाद अब पांच बार की विश्व विजेता ब्राजील भी क्वार्टर फाइनल से हारकर बाहर हो गई है। इस जीत के बाद बेल्जियम को 32 साल बाद सेमीफाइनल में जगह मिली है। बेल्जियम ने पांच बार की विश्व विजेता ब्राजील के सफर को रोक दिया है। शुक्रवार देर रात खेले गए क्वाटर्र फाइनल मुकाबले में बेल्जियम ने ब्राजील को 2-1 से शिकस्त दी।

बेल्जियम ने ब्राजील को हराकर 1986 यानी 32 साल बाद वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है, जबकि पांच बार की विश्व विजेता ब्राजील का सफर यही थम गया है। अब सेमीफाइनल में बेल्जियम का मुकाबला फ्रांस से होगा। 

Image result for FIFA World Cup quarterfinals 2018 : Belgium Beat Brazil 2-1

क्वार्टर फाइनल मुकाबले में बेल्जियम की टीम शुरू से ही ब्राजील पर हावी रही। पहले हाफ के शुरुआती 10 मिनटों में ब्राजील ने ताबड़तोड़ कई हमले बोले। 13वें मिनट में ब्राजीली खिलाड़ी की गलती बेल्जियम के लिए काम कर गई। ब्राजीली खिलाड़ी फर्नांडिन्हो ने ओन गोल कर दिया, जिससे ब्राजील 1-0 से पिछड़ गया। वर्ल्ड कप इतिहास में यह दूसरा मौका था, जब ब्राजील की टीम ने ओन गोल किया। वहीं मैच के 31वें मिनट में बेल्जियम ने केविन डि ब्रूयना ने शानदार गोल दागकर 2-0 की बढ़त बनाई। इस बार केविन डि ब्रूयना ने लुकाकू की मदद से गोल कर किया। हाफ टाइम तक बेल्जियम 2-0 से आगे रहा। 

Belgium's midfielder Kevin De Bruyne controls the ball during the Russia 2018 World Cup quarter-final football match between Brazil and Belgium at the Kazan Arena in Kazan on July 6, 2018. / AFP PHOTO


दूसरे हाफ में ब्राजील ने भले ही शानदार खेल दिखाया। लेकिन बेल्जियम के डिफेंस के सामने ब्राजील टीक न सकी। ब्राजील की तरफ से एक गोल हुआ। मैच के 76वें मिनट में ब्राजील ने ऑगस्टो ने शानदार हेडर के जरिए गोलकर स्कोर को 1-2 कर दिया। इंजुरी टाइम में तो ब्राजील ने बराबरी हासिल कर ही ली थी लेकिन कौर्टोइस नेमार की कोण बनाती किक को गोल पोस्ट के ऊपर धकेल कर ब्राजील के मंसूबों पर पानी फेर दिया। पूरे मैच में ब्राजील की टीम सिर्फ एक ही गोल कर पाई।  

Image result for FIFA World Cup quarterfinals 2018 : Belgium Beat Brazil 2-1

कमेंट करें
WiIlC
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।