comScore

I Can't Breathe: अमेरिका के 40 शहरों में फैली जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के विरोध की आग, व्हाइट हाउस तक पहुंचे प्रदर्शनकारी

I Can't Breathe: अमेरिका के 40 शहरों में फैली जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के विरोध की आग, व्हाइट हाउस तक पहुंचे प्रदर्शनकारी

हाईलाइट

  • पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर पेपर बुलेट्स का इस्तेमाल किया
  • व्हाइट हाउस के पास विरोध प्रदर्शन के बाद वाशिंगटन में कर्फ्यू
  • मियामी के विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए कैमिला कैबेलो, शॉन मेंडेस

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत को लेकर विरोध प्रदर्शन अमरीका के कई शहरों में फैल गया है। बीते 6 दिन से जारी इस प्रदर्शन की आग 40 शहरों में फैल गई है और यहां कर्फ्यू लगाया जा चुका है। रविवार रात को प्रदर्शनकारियों ने व्हाइट हाउस के सामने हिंसक प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव भी किया। कई शहरों में कर्फ्यू होने के बावजूद लोगों ने अनदेखी की और सड़कों पर उतर आए और हिंसक प्रदर्शन किया। इस कारण तनाव काफी बढ़ गया है।

न्यूयॉर्क, शिकागो, फिलाडेल्फिया और लॉस एंजेलेस में दंगा पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच संघर्ष हुआ, लिहाजा सुरक्षाबलों को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। वहीं अब तक चार हजार लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। न्यूज चैनल सीएनएन के मुताबिक, वॉशिंगटन समेत 15 शहरों में करीब 5 हजार नेशनल गार्ड्स की तैनाती की गई है। जरूरत पड़ने के पर 2 हजार गार्ड्स को मुस्तैद रहने को कहा गया है।

मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं, मुझे छोड़ें
गौरतलब है कि एक श्वेत पुलिस अधिकारी डेरेक चाउविन ने 25 मई को 46 वर्षीय फ्लॉयड को उसकी गर्दन पर घुटना रखकर पकड़ा। इस दौरान वह बार-बार निवेदन कर कहता रहा, मैं सांस नहीं ले सकता..प्लीज, मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं। मुझे छोड़ें। हालांकि, बाद में पुलिस अधिकारी को थर्ड डिग्री देने और हत्या के आरोप में शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया गया था।

पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर पेपर बुलेट्स का इस्तेमाल किया
बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक लोगों को तितर बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और पेपर बुलेट्स का भी इस्तेमाल किया। कई शहरों में पुलिस की गाड़ियों में आग लगा दी गई और दुकानों को लूट लिया गया। अमरीका में घरेलू आपात स्थिति से निपटने के लिए रिजर्व मिलिटरी द नेशनल गार्ड के मुताबिक उसके 5 हजार जवान वॉशिंगटन के अलावा 15 प्रांतों में लगाए गए हैं। 

व्हाइट हाउस के पास विरोध प्रदर्शन के बाद वाशिंगटन में कर्फ्यू    
व्हाइट हाउस के पास विरोध प्रदर्शन को देखते हुए वाशिंगटन डीसी में कर्फ्यू लगा दिया गया है। वाशिंगटन की मेयर मूरियल बोसर ने कहा कि मिनियापोलिस की पुलिस हिरासत में एक निहत्थे अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद व्हाइट हाउस के बाहर रविवार रात को प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर वह शहरव्यापी कर्फ्यू लगा रही हैं। उन्होंने बयान जारी कर कहा कि कर्फ्यू (अमेरिकी समयानुसार) 31 मई रविवार रात 11 बजे से 1 जून सोमवार सुबह 6 बजे तक लागू रहेगा। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि उन्होंने स्थानीय पुलिस के समर्थन के लिए डीसी नेशनल गार्ड को भी बुलाया है। अमेरिका की राजधानी में फ्लॉयड की मौत के विरोध में रविवार को लगातार तीसरे दिन प्रदर्शन हुआ। वाशिंगटन डीसी के चीफ ऑफ पुलिस पीटर न्यूजहैम ने कहा, मेट्रोपॉलिटन पुलिस डिपार्टमेंट ने शनिवार रात 17 लोगों को गिरफ्तार किया और विरोध-प्रदर्शन के दौरान 11 पुलिस अधिकारी घायल हो गए हैं।

पूरे लॉस एंजेलिस में नए कर्फ्यू की घोषणा    
लॉस एंजेलिस ने स्थानीय समयानुसार रविवार रात 8 बजे से सोमवार सुबह 5:30 बजे तक के लिए एक और कर्फ्यू घोषित कर दिया गया है। संयुक्त राज्य अमेरिका के इस दूसरे सबसे बड़े शहर में एक और दिन अशांति और संभावित हिंसक विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए ये घोषणा की गई। ये प्रदर्शन मिनियापोलिस में जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के विरोध में हो रहे हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, लॉस एंजेलिस के मेयर एरिक गासेर्टी ने रात में शहर की शॉपिंग स्ट्रीट में हुई लूटपाट और बर्बरता की घटनाओं के बाद रविवार को एक संवाददाता सम्मेलन में इस आदेश की घोषणा की।

कई क्षेत्रों से लूटपाट की ख​बर
फिलाडेल्फिया में स्थानीय टीवी स्टेशनों ने दिखाया कि कैसे लोग पुलिस की कार को तोड़ रहे थे और एक स्टोर में लूटपाट हो रही थी। इस बीच अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया है कि फिलाडेल्फिया में लोग स्टोर्स में लूटपाट कर रहे हैं। उन्होंने नेशनल गार्ड को तैनात करने की बात भी कही है। सैंटा मोनिका और कैलिफोर्निया से भी लूटपाट की खबरें आ रही हैं। मिनियापोलिस में एक लॉरी ड्राइवर को उस समय गिरफ़्तार कर लिया गया, जब वो कथित रूप से रोड बैरियर को तोड़कर प्रदर्शनकारियों की भीड़ की ओर बढ़ने की कोशिश की। दक्षिणी कैलिफोर्निया के अन्य शहरों, जिनमें सांता एना, कल्वर सिटी और वेस्ट हॉलीवुड में भी लॉस एंजेलिस की तरह कर्फ्यू लगा हुआ है।

मियामी के विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए कैमिला कैबेलो, शॉन मेंडेस
गायिका कैमिला कैबेलो और शॉन मेंडेस जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद मियामी में हो रहे एक विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए। 46 वर्षीय मिनियापोलिस व्यक्ति की मौत पिछले सोमवार को तब हो गई, जब एक पुलिस अधिकारी ने उसके गर्दन को अपने घुटने से सात मिनट से अधिक समय तक दबोचे रखा। ईटीऑनलाइन डॉट कॉम की रिपोर्ट के अनुसार, कैबेलो और मेंडेस जो एक साथ क्वारंटीन में थे उनको रविवार को प्रदर्शनकारियों के साथ घूमते हुए देखा गया। मेंडेस ने पूरे कपड़े काले रंग के पहने हुए थे, वहीं उन्होंने अपने सिर के ऊपर ब्लैक लाइव्स मैटर साइन बनाया था। कैबेलो को अपने साइन के साथ उनके आगे चलते देखा गया था। कैबेलो ने जॉर्ज की मौत पर लिखा था, मेरे पास उस वीडियो को देखने के बाद कहने के लिए सही शब्दों नहीं हैं, जहां जॉर्ज फ्लोयड की जि़ंदगी बदतमीजी से ली जा रही है .. मुझे जॉर्ज फ्लॉयड के परिवार और अहमद अरीबे के परिवार और ब्रायो टेलर के परिवार से गहरी संवेदना है।

नस्लभेद सिर्फ फुटबाल में नहीं है, क्रिकेट में भी है: गेल
वेस्टइंडीज के क्रिकेट खिलाड़ी क्रिस गेल ने सोमवार को कहा कि नस्लभेद सिर्फ फुटबाल में नहीं है बल्कि क्रिकेट में भी है। गेल ने यह बात अमेरिका में अश्वेत शख्स जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में हुई मौत के बाद हो रहे विरोध प्रदर्शन के बीच कही है। गेल ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी में लिखा कि अश्वेत लोगों की जिंदगी भी दूसरों की जिंदगी की तरह मयाने रखती है। अश्वेत लोग मायने रखते हैं (ब्लैक लाइव्स मैटर)। नस्लभेदी लोग भाड़ में जाएं। उन्होंने कहा कि मैंने पूरा विश्व घूमा है और नस्लभेदी बातें सुनी हैं क्योंकि मैं अश्वेत हूं। विश्वास मानिए..यह फेहरिस्त बढ़ती चली जाएगी। उन्होंने कहा कि नस्लभेद सिर्फ फुटबाल में नहीं है.. यह क्रिकेट में भी है। यहां तक कि टीमों के अंदर भी एक अश्वेत होने के तौर पर मुझे अहसास हुआ है। मैनचेस्टर युनाइटेड और इंग्लैंड के फुटबाल खिलाड़ी मार्क्‍स रशफोर्ड ने भी फ्लॉयड की मौत के बाद कहा था कि यह समाज पहले से ज्यादा बंटा हुआ लगता है।

पिकं ने ब्लैक मूवमेंट को समर्थन देने के लिए ट्रोल होने पर ट्रोलर को लगाई फटकार
अमेरिकी पॉप स्टार पिंक ने ब्लैक लाइव्स मैटर मूवमेंट को समर्थन देने पर उन्हें ट्रोल करने वालों को लताड़ लगाई है। यूएसमैगजीन डॉट कॉम के मुताबिक, बिली ईलिश के बयान का स्क्रीनशॉट शेयर करने के बाद 40 वर्षीय गायिका को ट्रोल किया जाने लगा, जिसमें उन्होंने श्वेत होने से अपनेआप ही मिल जाने वाले फायदों और ऑल लाइव्स मैटर मूवमेंट को लेकर अपने मतभेद पर अपने इंस्टाग्राम फीड पर बात की थी। एक यूजर ने लिखा, पूरी तरह से समझ गया कि आप कहां से आई हो। हालांकि, एक वकील मस्तिष्क वाले व्यक्ति के रूप में, मुझे कहना होगा.. आप स्पष्ट रूप से कह रही हैं कि अन्य नस्ल मायने नहीं रखते हैं। यह खुद ब खुद अनुमान लगाया गया है। मेरा मानना है कि यह इस स्थिति को ब्लैक लाइव्स मैटर श्रेणी में डालकर अन्याय करता है। यह हममें से किसी के साथ भी हो सकता है। यह अत्याचार है। यह वास्तविक मुद्दा है। यह नस्ल के बारे में नहीं है। पिंक ने नकारात्मक टिप्पणी पर पलटवार करते हुए कहा कि आप श्वेत विशेषाधिकार के प्रतीक हैं और सबसे दुखद बात यह है कि आप खुद की भी नहीं सुनते हैं और शायद ऐसा कभी नहीं करेंगे। एक यूजर ने पिंक को मूर्ख कहा जिस पर उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि कितनी गहरी और लाभदायक टिप्पणी है।    
 

कमेंट करें
gkKFt