रूस-यूक्रेन विवाद: यूक्रेन में विफल होने पर पुतिन के दिन गिने चुने बचेंगे

February 27th, 2022

हाईलाइट

  • रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन यूक्रेन में असफल होते हैं तो उनके दिन गिने चुने ही बचेंगे

डिजिटल डेस्स, नई दिल्ली। ब्रिटेन के सशस्त्र सेनाओं के मंत्री जेम्स हैप्पी ने कहा है कि अगर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन यूक्रेन में असफल होते हैं तो उनके दिन गिने चुने ही बचेंगे क्योंकि उनका अभियान अपनी निर्धारित समय-सीमा से काफी पीछे है और यह कई गंभीर बाधाओं का सामना कर रहा है। डेली मेल की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।

रिपोर्ट में उनके हवाले से कहा गया है कि पुतिन की सेनाएं लड़ाई के पहले कुछ दिनों में प्रमुख शहरों पर कब्जा करने में असमर्थ रही हैं। डेली मेल की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस अभियान में एक बेतरतीब और अव्यवस्थित आक्रमण के प्रयास की एक तस्वीर उभर रही है जिसमें बख्तरबंद वाहनों को ईंधन की कमी का सामना करना पड़ रहा है और कुछ को नष्ट कर दिया गया है। इनमें से कुछ को बिना हवाई कवर के आगे बढ़ना पड़ रहा है।

हैप्पी ने टेलीग्राफ में लिखा है कि तीन दिनों की जबर्दस्त लड़ाई के बाद, यूक्रेन के भयानक प्रतिरोध के कारण रूस अपनी नियोजित समय-सीमा से काफी पीछे है। उन्होंने कहा कि यूक्रेन को फतेह करने की रूसी योजना उम्मीद से बहुत धीमी रही है और रूसी सेनाएं प्रमुख शहरों को अपने कब्जे में लेने में असमर्थ साबित हुई हैं। रक्षा मंत्री ने कहा कि इसी उसी समय, यूक्रेनियन सैन्य भर्ती केंद्रों पर लोगों की लंबी कतारें देखी जा रही है जिनमें लोग अपने देश के लिए जान की बाजी लगाने के लिए तैयार हैं।

(आईएएनएस)