इटली : इटली को प्रवासी संकट में फ्रांस, जर्मनी से मिली मदद

August 6th, 2022

हाईलाइट

  • प्रवासियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का वादा

डिजिटल डेस्क, रोम। रोम में आंतरिक मंत्रालय ने कहा कि नाव से आने वाले प्रवासियों को वितरित करने पर यूरोपीय संघ (ईयू) के समझौते के लगभग दो महीने बाद अफ्रीका से भूमध्य सागर को पार करने वाले प्रवासियों से निपटने में इटली को फ्रांस और जर्मनी से सहायता मिल रही है।

समाचार एजेंसी डीपीए ने शुक्रवार को मंत्रालय का हवाला देते हुए बताया कि एक फ्रांसीसी प्रतिनिधिमंडल ने हाल के दिनों में फ्रांस में पुनर्वास के लिए दक्षिण-पूर्वी शहर बारी में प्रवासियों के एक समूह का चयन किया था, और जर्मनी इस महीने इसी तरह के मिशन की योजना बना रहा था।

इटली, उत्तरी अफ्रीकी तट से खतरनाक क्रॉसिंग का प्रयास करने वाले प्रवासियों के लिए मुख्य पहला गंतव्य, वर्षो से यूरोपीय संघ के अन्य सदस्य राज्यों से अधिक सहायता की मांग करता रहा है और 10 जून को 21 सदस्य दक्षिणी यूरोपीय सदस्यों की सहायता के लिए एकजुटता तंत्र पर सहमत हुए।

इस सप्ताह यूरोपीय आयोग के एक प्रवक्ता ने कहा, आज तक 13 सदस्य देशों ने 8,000 से अधिक लोगों को शामिल करने की अपनी इच्छा व्यक्त की है। इटली के आंतरिक मंत्री लुसियाना लामोर्गेस ने संघ के लिए ऐतिहासिक कदम का उल्लेख किया।

इतालवी अधिकारियों ने इस वर्ष अब तक नाव से आने वाले 42,000 से अधिक प्रवासियों को पंजीकृत किया है, जो पिछले वर्ष के लगभग 30,000 के तुलनीय आंकड़े से काफी अधिक है। यदि 25 सितंबर के चुनाव में दक्षिणपंथी राजनीतिक गठबंधन जीतता है, जैसा कि चुनाव पूर्व मत सर्वेक्षण में भविष्यवाणी की गई है, उन्होंने प्रवासियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का वादा किया है।

समूह में दक्षिणपंथी लीग (लेगा) के प्रमुख माटेओ साल्विनी ने शुक्रवार को ट्यूनीशियाई तट से दूर लैम्पेडुसा के इतालवी द्वीप की यात्रा के दौरान कहा कि वह प्रवासियों के प्रवाह को रोकने के लिए एक विशेष आयुक्त नियुक्त करना चाहेंगे। चरम दक्षिणपंथी फ्रेटेली डीईटालिया (ब्रदर्स ऑफ इटली) पार्टी की नेता जियोर्जिया मेलोनी, जो चुनावों में आगे चल रही हैं, का कहना है कि वह उत्तरी अफ्रीका में शिविरों रह रहे प्रवासियों को नजरबंद करने की योजना बना रही हैं।

 

आईएएनएस

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.