comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

जानिए, कौन हैं अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस के पति,  19 साल की उम्र में गई थीं US 

जानिए, कौन हैं अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस के पति,  19 साल की उम्र में गई थीं US 

हाईलाइट

  • कमला के पति एमहॉफ अपनी नई भूमिका में एक बैरियर ब्रेक्र होंगे।
  • पत्नी कमला हैरिस के करियर को उड़ान भरने में मदद की
  • कमला हैरिस उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेंगी

न्यूयॉर्क (आईएएनएस)। दिसंबर 2020 में, ओपरा मैगजीन ने अमेरिका के पहले सेकेंड जेंटलमैन डग एमहॉफ को द अल्टीमेट हाइप मैन, हम सभी, जैसा कि हम सब साथी के रूप में डिजर्व करते हैं के रूप में वर्णित किया, जिस तरह से उन्होंने पत्नी कमला हैरिस के करियर को उड़ान भरने में मदद की, इससे इस बात में कोई शक नहीं कि वह उनके अल्टीमेट हाइप मैन हैं।उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेने जा रहीं कमला के पति एमहॉफ अपनी नई भूमिका में एक बैरियर ब्रेक्र होंगे। एमहॉफ की यह दूसरी शादी है, उन्होंने 2014 में कमला से शादी की थी। 

नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इस विषय पर संक्षेप में बात की, जब उन्होंने हैरिस का नाम उपराष्ट्रपति पद के लिए चुना, लेकिन उनकी टिप्पणी टैक्नीकैलिटीज के बारे में थी। इस तथ्य के बारे में कि एमहॉफ पहले सेकेंड जेंटलमैन होंगे, जिन्हें अमेरिका जानेगा।

कमला और उनके पति के बीच रिश्तों में ऐसी गार्महट है कि दोनों सार्वजनिक डोमेन में इसे साझा करने को लेकर काफी सहज महसूस करते हैं। 7 नवंबर, 2020 को एमहॉफ की पिक्चर पोस्ट को ही ले लीजिए। उन्होंने हरे घास के मैदान की पृष्ठभूमि में कमला को गले लगाए तस्वीर पोस्ट की साथ में दो हॉर्ट और दो अमेरिकी झंडे वाली इमोजी भी पोस्ट कर लिखा, मुझे तुमपर बहुत गर्व है।

एमहॉफ दूसरा (या पहला) जीवनसाथी बनने वाले पहले यहूदी व्यक्ति भी होंगे। हैरिस और एमहॉफ की राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति पद के लिए पहली अंतर-नस्लीय जोड़ी होगी, और जिल बाइडेन की तरह एमहॉफ पढ़ाएंगे, जबकि हैरिस उपराष्ट्रपति पद पर काबिज होकर अपने कर्तव्यों का निर्वहन करेंगी।

एमहॉफ जॉर्जटाउन विश्वविद्यालय में आगामी वसंत सेमेस्टर में एंटरटेनमेंट लॉ विवाद पर व्याख्यान के साथ इसकी शुरुआत करेंगे। इसके अतिरिक्त, एमहॉफ प्रतिष्ठित जॉर्जटाउन लॉज इंस्टीट्यूट फॉर टेक्नोलॉजी लॉ एंड पॉलिसी में एक प्रतिष्ठित फेलो के रूप में काम करेंगे। साल 2020 के चुनाव के ठीक पहले एमहॉफ ने इंटरनेशनल लॉ फर्म डीएलए पाइपर की पार्टनरशिप छोड़ने की घोषणा की थी।

कमला हैरिस : एक माहिर मुसाफिर के व्हाइट हाउस पहुंचने का सफर

 अमेरिका की नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ओकलैंड, कैलिफोर्निया, अर्बाना शैम्पेन, इलिनॉय, बर्कले, क्यूबेक, कनाडा, वाशिंगटन, डी.सी. के बाद दो बार कैलिफोर्निया का सफर कर चुकी हैं, और अब व्हाइट हाउस पहुंचने जा रही हैं। जब कमला हैरिस आखिरकार देश के बेहद प्रभावशाली ओहदे पर पहुंची हैं तो यह अमेरिका में उनके लंबे सफर का एक परमोत्कर्ष है।

कमला हैरिस ने अपने संस्मरण द ट्रथ्स वी होल्ड में लिखा है, मैं 12 साल की थी और फरवरी में कैलिफोर्निया से दूर स्कूल के साल के मध्य में, 12 फीट बर्फ से ढके एक फ्रांसीसी भाषी विदेशी शहर में जाने का विचार परेशान कर देने वाला था।

अमेरिका की पहली महिला उपराष्ट्रपति के रूप में हैरिस का आगमन पहियों की कहानी है, जो रुक-रुक कर चलती है, और नई दिशाओं में निकलती है। सबसे पहले, उनके माता-पिता अकादमिक उपलब्धि की तलाश में आए और फिर हैरिस ने अपने राजनीतिक करियर में चार चांद लगाया।

उन्होंने 2019 के एक साक्षात्कार के दौरान पत्रकार डैना गुडइयर को बताया था, मेरे बचपन की बहुत ज्वलंत स्मृति मेफ्लावर ट्रक थी। मेफ्लावर अमेरिका की सबसे बड़ी पूर्ण सेवा वाली मूविंग कंपनियों में से एक है। हैरिस ने गुडइयर से कहा, हम बहुत आगे बढ़ गए। लेकिन अमेरिकी शहरों के बीच हैरिस की यात्रा लगभग एक महिला यात्री के बाद आता है और हैं उनकी मां श्यामला गोपालन, जो तमिलनाडु की हैं। 

जब श्यामला 1958 में अमेरिका आई थीं तो तब वह 19 साल की थीं और अपने परिवार से विदेश में पढ़ने जाने वाली पहली शख्स थीं। उन्होंने एक ऐसी यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया, जिसे उन्होंने पहले कभी नहीं देखा था, एक ऐसे देश में थीं, जहां पहले वह कभी नहीं गई थीं।

कमला के पिता डोनाल्ड हैरिस का भी कुछ ऐसा ही सफर रहा था। वर्ष 1961 में कमला के माता-पिता से मुलाकात हुई और 1963 में शादी हुई। कुल मिलाकर कमला हैरिस की कहानी एक मंजी हुई यात्री की है। जब वह उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेंगी, तब यह उनकी मां की मातृभूमि मद्रास और पिता की मातृभूमि ब्राउन्स टाउन (जमैका) के लिए एक सर्वश्रेष्ठ उपहार होगा।

कमेंट करें
WGNdr
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।