comScore

पाक मैगजीन का दावा, इमरान से नाराज थे सऊदी प्रिंस, बीच यात्रा में वापस बुला लिया था विमान

पाक मैगजीन का दावा, इमरान से नाराज थे सऊदी प्रिंस, बीच यात्रा में वापस बुला लिया था विमान

हाईलाइट

  • पाकिस्तानी साप्ताहिक पत्रिका 'फ्राइडे टाइम्स' ने एक चौंकाने वाला खुलासा किया है
  • UNGA में दिए इमरान के भाषण से नाराज थे सऊदी प्रिंस
  • बीच यात्रा में वापस बुला लिया था अपना प्राइवेट एयरक्राफ्ट

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। पाकिस्तानी साप्ताहिक पत्रिका 'फ्राइडे टाइम्स' ने एक चौंकाने वाला खुलासा किया है। पत्रिका का दावा है कि न्यूयॉर्क से वापस लौटते वक्त पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान के प्लेन में खराबी नहीं आई थी। सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में दिए गए इमरान खान के भाषण से नाराज थे। इसलिए क्राउन प्रिंस ने बीच यात्रा में ही इमरान से अपना प्राइवेट प्लेन वापस ले लिया। हालांकि पाकिस्तानी सरकार के एक प्रवक्ता ने पत्रिका के दावों को खारिज कर दिया है।

UNGA का दौरा करने से पहले, इमरान दो दिन के लिए सऊदी अरब गए थे और एक कमर्शियल एयरलाइन से अमेरिका के लिए उड़ान भरना चाहते थे। लेकिन सऊदी क्राउन प्रिंस ने इमरान को अमेरिका की यात्रा के लिए अपना प्राइवेट एयरक्राफ्ट दे दिया। इसके बाद, सऊदी प्रिंस के एयरक्राफ्ट से जब इमरान न्यूयॉर्क की यात्रा के बाद पाकिस्तान लौट रहे थे तो यह बताया गया कि एयरक्राफ्ट में तकनीकी गड़बड़ी आ गई है और एयरक्राफ्ट को वापस न्यूयॉर्क में लैंड कराया गया। इसके बाद, पाकिस्तान के पीएम एक कमर्शियल एयरक्राफ्ट पर सवार होकर पाकिस्तान लौटे थे।

अब, फ्राइडे टाइम्स ने कहा है कि वास्तव में, एयरक्राफ्ट में कोई तकनीकी गड़बड़ी नहीं आई थी। एयरक्राफ्ट के लौटने का कारण सऊदी क्राउन प्रिंस की पाकिस्तान के पीएम से नाराजगी थी। द फ्राइडे टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है, 'हर हाल में इमरान खान के प्रशंसक बने रहने वालों ने न्यूयॉर्क से लौटने पर उनका विजेता हीरो जैसा स्वागत किया। यहां तक कि एक समर्थक की तरफ से यह भी सुझाव आया कि जिस कमर्शियल फ्लाइट से इमरान जेद्दा से इस्लामाबाद लौट रहे हैं, उसका एफ 7 थंडर जेट के एक बेड़े से सम्मान के तौर पर एस्कॉर्ट किया जाना चाहिए।

'फ्राइडे टाइम्स' ने अपनी रिपोर्ट में कहा, 'इन समर्थकों को लगता है कि इमरान ने कश्मीर, इस्लामोफोबिया, क्लाइमेट चेंज जैसे सभी मुद्दों पर धारदार तरीके से बात रखी। उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि जब इमरान बोल रहे थे तब हॉल आधा खाली पड़ा था। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि पाकिस्तान अलकायदा आतंकियों को प्रशिक्षित करता था। उन्हें इससे फर्क नहीं पड़ता कि भारत-पाकिस्तान संवाद की उम्मीद पहले से कहीं कम हो गई है और एक क्षेत्रीय मुद्दा इस्लामी पाकिस्तान और हिंदू भारत का मुद्दा बना दिया गया है।'

पाकिस्तान सरकार प्रत्रिका के इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि 'सऊदी क्राउन प्रिंस की तरफ से इमरान के विमान को कनाडा से वापस अमेरिका बुलाने की खबर मनगढ़ंत है। पाकिस्तान और सऊदी अरब के शासकों के बीच बेहतरीन संबंध है। रिपोर्ट में प्रधानमंत्री की विश्व के नेताओं के साथ सफल बातचीत को कमजोर करने की कोशिश की गई है। इस रिपोर्ट का मकसद राजनैतिक लाभ के लिए भाईचारे वाला संबंध रखने वाले दो देशों के बीच के रिश्तों पर हमला करना है। हम इसे सिरे से खारिज करते हैं।'  

कमेंट करें
ydnr9