मोदी यूएस यात्रा: ग्लोबल कोविड-19 समिट में बोले पीएम, भारत ने मानवता को हमेशा एक परिवार की तरह देखा

September 22nd, 2021

हाईलाइट

  • पीएम मोदी ने कहा, कोविड-19 महामारी अभी भी खत्म नहीं हुई
  • दुनिया की ज्यादातर आबादी अभी भी वैक्सीनेटेड नहीं हुई
  • भारत ने एक दिन में 2.5 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई

डिजिटल डेस्क, वाशिंगटन। देश के प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को अमेरिका दौरे पर निकले हैं। पीएम मोदी ने ग्लोबल कोविड-19 समिट को भी संबोधित किया, मोदी ने कहा कि भारत में वैक्सीन का सबसे बड़ा अभियान चलाया जा रहा है। जो दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन अभियान है। भारत लगातार वैक्सीन की क्षमता बढ़ाने कि लिए प्रयासरत है। भारत में कई कंपनियां मिलकर वैक्सीन बना रहीं हैं। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जो बाइडेन के राष्ट्रपति बनने के बाद ये पहली अमेरिकी यात्रा है। पीएम मोदी की ये विदेश यात्रा बेहद खास और व्यस्तताओं से भरी रहने वाली है। इसी कड़ी में पीएम मोदी ने ग्लोबल कोविड समिट में शामिल हुए थे और भारतीय कोरोना वैक्सीन अभियान के बारे में बताया। 

पीएम मोदी ने कहा, कोविड-19 महामारी अभी भी खत्म नहीं हुई है।  दुनिया की ज्यादातर आबादी अभी भी वैक्सीनेटेड नहीं हुई है। इसलिए राष्ट्रपति जो बाइडेन की ये की ये पहल समय पर शुरू की गई है, जो स्वागत योग्य है। उन्होंने कहा, 'भारत ने मानवता को हमेशा एक परिवार की तरह देखा है। भारत की फार्मा इंडस्ट्री ने कम लागत की डायग्नोस्टिक किट्स, दवाएं, मेडिकल डिवाइस और पीपीई किट का उत्पादन किया है। ये कई विकासशील देशों को किफायती विकल्प प्रदान कर रहे हैं।

मोदी ने कहा कि भारत ने हाल ही में एक दिन में 2.5 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई थी। मोदी ने बताया कि अब तक 80 करोड़ से ज्यादा को डोज दी जा चुकी है और 20 करोड़ से ज्यादा पूरी तरह वैक्सीनेट हो चुके हैं। ग्लोबल कोविड समिट में पीएम मोदी ने कहा, हमने 150 से ज्यादा देशों से दवाएं और मेडिकल सप्लाई साझा की है। स्वदेशी रूप से विकसित दो वैक्सीन को भारत में  विकसित दो वैक्सीन को भारत में इमरजेंसी यूज की मंजूरी दी गई है, जिसमें दुनिया का पहली डीएनए बेस्ड वैक्सीन भी शामिल है। उन्होंने बताया कि और भी भारतीय कंपनियां वैक्सीन को वैक्सीन के प्रोडक्शन का लाइसेंस मिला है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, इस साल की शुरुआत में हमने अपनी वैक्सीन 95 देशों समेत यूएन शांति सैनिकों के साथ साझा की  और जब भारत दूसरी लहर से जूझ रहा था, तो दुनिया एक परिवार की तरह हमारे साथ खड़ी थी। भारत के लिए एकजुट होने और समर्थन करने के लिए मैं आप सबका धन्यवाद करता हूं।

 

खबरें और भी हैं...