comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

पाकिस्तान में लॉकडाउन के बाद हिंदू व सिख धर्मस्थलों की मरम्मत व साज-सज्जा

May 20th, 2020 19:30 IST
 पाकिस्तान में लॉकडाउन के बाद हिंदू व सिख धर्मस्थलों की मरम्मत व साज-सज्जा

हाईलाइट

  • पाकिस्तान में लॉकडाउन के बाद हिंदू व सिख धर्मस्थलों की मरम्मत व साज-सज्जा

इस्लामाबाद, 20 मई (आईएएनएस)। पाकिस्तान सरकार ने कोरोना महामारी के कारण लगे लॉकडाउन के पूरी तरह से हटने के बाद प्रमुख हिंदू मंदिरों व सिख गुरुद्वारों की मरम्मत व इनकी साज-सज्जा का काम शुरू करने के फैसला किया है।

एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत विभाजन के समय हिंदू व सिख समुदाय द्वारा छोड़े गए शिक्षण, धर्मार्थ व धार्मिक न्यासों की जिम्मेदारी संभालने वाले सरकारी एवेक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड के सूत्रों ने कहा कि यह काम सियालकोट स्थित शवाला तेजा सिंह मंदिर की मरम्मत से शुरू किया जाएगा जिसे 70 सालों के बाद फिर से हिंदू श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया है।

इसके बाद बोर्ड ने खैबर पख्तूनख्वा के पेशावर स्थित एक हजार साल पुराने पंज तीर्थ मंदिर के जीर्णोद्धार का फैसला किया है। इसी के साथ लाहौर स्थित गुरुद्वारे डेरा साहिब की साज-सज्जा का काम भी हाथ में लिया जाएगा।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान में सालों से बंद पड़े कई मंदिरों व गुरुद्वारों की मरम्मत करा इन्हें फिर से श्रद्धालुओं के खोलने की कवायद चल रही है और बीते कुछ सालों में ऐसे 14 मंदिर और 20 गुरुद्वारों की मरम्मत कर उन्हें खोला जा चुका है।

इनमें लाहौर का कृष्ण मंदिर, चकवाल में कटास राज के कई मंदिर, रावलपिंडी स्थित कृष्ण मंदिर, सक्खर स्थिति साधु बेला मंदिर, हैदराबाद स्थित गुरु गुरुपत मंदिर और कराची स्थित दरया लाल मंदिर शामिल हैं।

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इनके अलावा पंजाब के सियालकोट और सिंध के दादू जिले में कई मंदिरों की साज-सज्जा कर इन्हें फिर से खोला गया है।

एवेक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड के उप सचिव (धर्मस्थल) सैयद फराज अब्बास ने बताया कि लॉकडाउन खत्म होने के तुरंत बाद सियालकोट के शवाला तेजा सिंह मंदिर की साज-सज्जा के दूसरे चरण की शुरुआत कर दी जाएगी। इसी तरह पेशावर के तीर्थ मंदिर का काम पूरा कर इसे जल्द से जल्द श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने एवेक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड के साथ मिलकर सात गुरुद्वारों, जनम स्थान सहित ननकाना साहिब, पट्टी साहिब, टांबो साहिब, बाल लीला, पंजा साहिब और कियारा साहिब की मरम्मत व साज सज्जा का काम पूरा कर दिया और यह सभी श्रद्धालुओं के लिए खुले हैं। इनके अलावा भी देश में कई गुरुद्वारे श्रद्धालुओं से गुलजार हैं।

अधिकारियों ने बताया कि कुछ अन्य बंद पड़े गुरुद्वारों की मरम्मत और साज सज्जा कर इन्हें जल्द खोला जाएगा।

कमेंट करें
DWdOa
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।