विश्व निकाय: संयुक्त राष्ट्र में मजबूत स्थिति के साथ चीन की मुखर राजनीति ने बढ़ाई चिंता

October 6th, 2021

हाईलाइट

  • संयुक्त राष्ट्र में मजबूत स्थिति के साथ चीन की मुखर राजनीति ने बढ़ाई चिंता

डिजिटल डेस्क, न्यूयॉर्क। दुनिया समानता की व्यवस्था को जीवित रखने के लिए संघर्ष कर रही है, चाहे वह छोटे राष्ट्रों के अस्तित्व और भूमिकाओं को स्वीकार करके हो या वैश्विक मंचों को बराबर करके हो, ताकि सभी का उचित प्रतिनिधित्व सुनिश्चित हो सके। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) एक ऐसा निकाय है, जो यह सुनिश्चित करता है कि समानता की इस प्रणाली को बरकरार रखा जाए और जो राष्ट्र अंतरराष्ट्रीय आचार संहिता का पालन नहीं कर रहे हैं, इसकी ओर से उन्हें अंतिम उपाय के रूप में आलोचना या प्रतिबंधों के माध्यम से फटकार लगाई जाती है।

लेकिन इन अंतरराष्ट्रीय निकायों के भीतर भी कुछ मजबूत दिग्गज होते हैं, जो निर्णय लेने वालों और परिवर्तन लाने वालों की भूमिका निभाते हैं। ये बड़े राष्ट्र न केवल महान शक्ति के साथ सामने आते हैं, बल्कि पर्यावरण के प्रति और वैश्विक समुदाय के प्रति भी बड़ी जिम्मेदारी लेते हैं। हालांकि, कई बार जिम्मेदारियों और कर्तव्यों की सत्यता पर सवाल खड़े हो जाते हैं, जब बड़े राष्ट्र इसे अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था द्वारा निर्धारित जनादेश का लगातार उल्लंघन करने के लिए एक बिंदु बनाते हैं। वहीं से चीन प्रवेश करता है।

राष्ट्रपति शी जिनपिंग की अधिक मुखर विदेश नीति के कारण संयुक्त राष्ट्र के अंदर चीन का बढ़ता प्रभाव अपरिहार्य है और विश्व निकाय में चीन का मूल्यांकन योगदान वर्तमान में संयुक्त राज्य अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है। परंपरागत रूप से संयुक्त राष्ट्र के विकास अभ्यासों के आसपास केंद्रित, चीन वर्तमान में संयुक्त राष्ट्र के मूल में अपनी ताकत, अपने शांति और सुरक्षा कार्यों का उपयोग करता है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चीनी-रूसी रणनीतिक व्यवस्था जुलाई 2020 में प्रदर्शित मानवाधिकारों और मानवीय पहुंच की रक्षा को चुनौती देती है, जब चीन और रूस ने सीरिया के संबंध में दो प्रस्तावों को वीटो कर दिया और दोनों ने सूडान के लिए विशेष दूत के रूप में एक फ्रांसीसी नागरिक की नियुक्ति में बाधा उत्पन्न की।

चीन ने महत्वपूर्ण गैर-संयुक्त राष्ट्र बहुपक्षीय निकायों में अपना प्रभाव बढ़ाया और अब यह अंतरराष्ट्रीय दूरसंचार संघ (आईटीयू) और संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन (यूएनआईडीओ) सहित कर्मियों और वित्त पोषण के मामले में ऐसे कई संगठनों में प्रमुख स्थिति में है। मुंबई स्थित विदेश नीति थिंक टैंक गेटवे हाउस की समीक्षा में कहा गया है कि इन प्रयासों के लिए चीन की प्रतिबद्धता उन निकायों पर रही है जो चीनी संगठनों के भाग्य का समर्थन करने और बीजिंग के कार्यों जैसे बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव को बढ़ावा देने के लिए अंतरराष्ट्रीय मानदंडों और मानकों को स्थापित करने में सहायता करते हैं।

चीन के व्यापक प्रभाव को दिखाने के लिए संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों की समीक्षा को विश्व निकाय में राष्ट्र के बढ़े हुए वित्तीय योगदान द्वारा सशक्त बनाया गया है - संयुक्त राष्ट्र के सदस्य के रूप में इसका अनिवार्य योगदान 2010 और 2019 के वर्षों के बीच 1,096 प्रतिशत बढ़ गया, जबकि स्वैच्छिक दान का विस्तार भी काफी हुआ है। स्वैच्छिक दान की बात करें तो यह वर्ष 2010 में जहां 5.1 करोड़ डॉलर था, वहीं 2019 में यह 346 प्रतिशत बढ़कर 17.2 करोड़ डॉलर पर पहुंच गया था। अनिवार्य योगदान और स्वैच्छिक दान ने संयुक्त रूप से चीन को संयुक्त राष्ट्र का पांचवां सबसे बड़ा दाता बना दिया है और देश की कुल फंडिंग 2010 में 19 करोड़ डॉलर से बढ़कर 2019 में 1.6 अरब डॉलर हो गई है।

अध्ययन (स्टडी) में कहा गया है, स्वैच्छिक योगदान संयुक्त राष्ट्र के धन और कार्यक्रम एजेंसियों को अपनी विशेष परियोजनाओं को चलाने में सक्षम बनाता है, क्योंकि केवल प्रशासनिक, दैनिक खर्च संयुक्त राष्ट्र के मुख्य बजट द्वारा कवर किया जाता है। इसलिए, जब चीन यूएनडीपी में 75 लाख डॉलर का योगदान देता है, तो यह विकास परियोजनाओं को लागू करने के तरीके को प्रभावित कर सकता है। अध्ययन में कहा गया है कि आईटीयू दूरसंचार के लिए वैश्विक मानक तय करता है, जहां चीन की हुआवे एक प्रमुख दिग्गज है। आईटीयू में चीनी प्रतिनिधि भी हैं जो दो कार्यकालों की सेवा कर रहे हैं।

स्टडी में आगे कहा गया है, यह सुनिश्चित करता है कि हुआवे और उसके मानकों जैसे चीनी राष्ट्रीय चैंपियन अफ्रीकी महाद्वीप, प्रशांत और दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया जैसे दुर्लभ रूप से प्रवेश किए गए बाजारों में विकास कार्यों में लगी संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों द्वारा एम्बेडेड और कार्यान्वित हो जाएं। अध्ययन ने यह भी निष्कर्ष निकाला कि संयुक्त राष्ट्र निकायों में चीन की भागीदारी वर्षों के दौरान और अधिक परिष्कृत हो गई है।

(आईएएनएस)