मकर संक्राति 2022: इन खास मैसेज से अपने खास लोगों को दें मकर संक्रांति की शुभकामनाएं, इन नामों से भी प्रसिद्ध है ये पर्व

January 12th, 2022

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारत देश में मकर संक्रान्ति का त्यौहार काफी अहम होता है। इस त्यौहार को भारत में काफी धूम-धाम से मनाते हैं। पौष मास में मनाए जाने वाले इस पर्व को विशेष माना गया है। मकर संक्रांति में 'मकर' शब्द मकर राशि को बताता है, जबकि 'संक्रांति' का अर्थ प्रवेश करना है। मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। यह त्यौहार मुख्यतः जनवरी माह के 14 या 15 तारीख को मनाया जाता है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, मकर संक्रांति से ही भगवान सूर्य उत्तरायण में प्रवेश करते हैं। इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते हैं, इसलिए इसे मकर संक्रांति कहा जाता है। मकर संक्राति के पर्व को कहीं-कहीं उत्तरायण भी कहा जाता है। मकर संक्राति के दिन गंगा स्नान, व्रत, कथा, दान और भगवान सूर्य देव की उपासना करने का विशेष महत्व है। इस दिन शनि देव के लिए प्रकाश का दान करना भी बहुत शुभ होता है। देश भर में हर साल की तरह इस साल भी मकर संक्रांति 14 जनवरी को मनाई जाएगी। पहले लोहड़ी और अगले दिन मकर संक्रांति आने से यह उत्साह दोगुना हो जाता है। 

इस त्यौहार का ऐतिहासिक महत्व

ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उनके घर जाते हैं। क्योंकि शनिदेव मकर राशि के स्वामी हैं, अत: इस दिन को मकर संक्रान्ति के नाम से जाना जाता है। मकर संक्रान्ति के दिन ही गंगाजी भगीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होती हुई सागर में जाकर मिली थीं। अन्य त्योहारों की तरह लोग अब इस त्यौहार पर भी छोटे-छोटे मोबाइल संदेश एक दूसरे को भेजते हैं। इसके अलावा सुन्दर व आकर्षक बधाई-कार्ड भेजकर इस परम्परागत पर्व को और अधिक प्रभावी बनाने का प्रयास करते हैं। आप भी मकर संक्रांति पर इन खास बधाई संदेशों के जरिए अपनों को शुभकामनाएं दे सकते हैं। 

पल पल सुनहरे फूल खिले,
कभी न हो काँटों से सामना,
जिंदगी आपकी खुशियो से भरी रहे,
यही है संक्रांति पर हमारी शुभकामना!

काट ना सके कभी कोई पतंग आपकी,
टूटे ना कभी डोर विश्वास की,
छू लो आप ज़िन्दगी की सारी कामयाबी,
जैसे पतंग छूती है ऊँचाइयाँ आसमान की।
मकर सक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें

ऊँची पतंग से मेरी ऊँची उड़ान होंगी।
इस जहाँ में मेरे लिए मंजिले तमाम होंगी।
जब भी आसमान की और देखोगे तुम दोस्तों।
तुम्हारे ही हाथों मेरी डोर के साथ जान होंगी।
तिल्ली भी पीली और गुड़ में मिठास होंगी।
मकर सक्रांति पर्व पर मेरी तरफ से बधाइयाँ बार बार होंगी।

मोहब्बत एक कटी पतंग है साहब
गिरती वही है जिसकी छत बड़ी होती है


सूरज की राशी बदलेगी,
कुछ का नसीब बदलेगा,
यह साल का पहला पर्व होगा,
जब हम सब मिल कर खुशियाँ मनाएंगे
हैप्पी मकर संक्रांति 2022

फिर पूछना कि कैसे भटकती है ज़िंदगी
पहले किसी पतंग की मानिंद कट के देख

बंदे हैं हम देश के,
हम पर किसका ज़ोर?
मकर संक्रान्ति में उड़े,
पतंगे चारो और
लंच में खाएं फिरनी गोल,
अपना मांझा खुद सूतने,
चले हम छत की और,
हैप्पी मकर सक्रांति 2022

कल पतंग उस ने जो बाज़ार से मँगवा भेजा
सादा माँझे का उसे माह ने गोला भेजा

बिन बादल बरसात नहीं होती,
सूरज के उगे बिना दिन की शुरुआत नहीं होती!
हम जानते है हमारे बिना विश किए आपके
किसी त्यौहार शुरुआत नहीं होती,
आप सभी को मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामना !!

ये पतंग भी बिल्कुल तुम्हारी तरह निकली
मेरे दोस्त ज़रा सी हवा क्या लग गई हवा में उड़ने लगी

हो आपके जीवन में खुशहाली,
कभी भी न रहे कोई दुख देने वाली पहेली,
सदा खुश रहें आप और आपकी फेमली,
हैप्पी मकर संक्रांति 2022

सारी दुनिया भूला के रूह को मेरे संग कर दो
मेरे धागे से बंध जाओ खुद को पतंग कर दो

मुंगफली की खुश्बु
और गुड़ की मिठास,
दिलों में खुशी और
अपनो का प्यार,
मुबारक हो आपको
मकर संक्रांति का त्योंहार

भी लोगों को मिले सन्मति,
आज है मकर संक्रांति,
मित्रों उठ गया है दिनकर,
चलो उडाये पतंग मिलकर

चढ़े हैं काटने वालों पे लूटने वाले
इसी हुजूम-ए-बला में पतंग उड़ती है

ठण्ड की एक सुबह पड़ेगा हमे नहाना
क्योंकि संक्रांति का पर्व कर देगा मौसम सुहाना
कही पतंग, कही दही, कही खिचड़ी
सब मिलकर ख़ुशी मनना
हैप्पी सक्रांति

मीठे गुड़ में मिल गए तिल उड़ी पतंग और खिल गए दिल हर पल सुख और हर दिन शांति सबके लिए ऐसी हो मकर संक्रांति

S- Santosh संतोष
A- Anand आनंद
N- Nayavinayate नयाविनायते
K- Keerti कीर्ति
R- Roshni रौशनी
A- Atmiyate अत्मियते
N- Naturity नयी शुरुवात
T- Trupti तृप्ती
I- Iswarya ईश्वरीय
Happy Makar Sankranti 2022


पतंगों का नशा,

मांझे की धार

सर्दी की मार,

फिर भी दिल है बेकरार,

मुबारक हो आपको पतंगों का त्योहार.

हैप्पी मकर संक्रांति 2022

चिंटू मुन्नू जल्दी आओ,

तिल्ली के लड्डू गब-गब खाओ,

लूटेंगे खूब पतंग इस बार,

आया है मकर संक्राति का त्‍योहार.

हैप्पी मकर संक्रांति 2022

बिन सावन बरसात नहीं होती,

सूरज डूबे बिना रात नहीं होती,

अब ऐसी आदत हो गई है कि,

आपको विश किए बिन किसी,

त्योहार की शुरुआत नहीं होती.

हैप्पी मकर संक्रांति 2022

पल पल सुनहरे फूल खिले,

कभी न हो कांटों से सामना,

जिंदगी आपकी खुशियों से भरी रहे,

यही है संक्रांति पर हमारी शुभकामना.

हैप्पी मकर संक्रांति 2022

तिलकुट की खुशबू

दही-चिवड़ा की बहार,

मुबारक हो आपको

नया साल का पहला त्योहार.

हैप्पी मकर संक्रांति 2022

इस वर्ष की मकर संक्रांति,

आपके लिए हो तिल लड्डू जैसी मीठी,

मिले कामयाबी पतंग जैसी उंची,

इसी कामना के साथ हैप्पी मकर संक्रांति

हैप्पी मकर संक्रांति 2022