दैनिक भास्कर हिंदी: समर वेकेशन पर है विदेश यात्रा पर जाने का मन तो जरूर जानिए सबसे सुरक्षित देशों के बारे में  

September 3rd, 2018

 

डिजिटल डेस्क। कई ट्रेवल प्रोग्राम्स में उन देशों की खूबसूरती देख वहां जाने का दिल भी करता होगा, लेकिन न्यूज चैनल या इंटरनेट के जरिए दूसरे देशों के में होने वाली घटनाओं को लेकर आप कहीं बाहर जाने से डरने लगे होंगे। ये जायज सी बात है क्योंकि आज कल माहौल इतना खराब हो गया है कि कही भी अचानक आतंकवादी हमला हो जाता है। वहीं कई देश गृह युद्ध से जूझ रहे हैं और कईयों में हालात खराब बने हुए हैं।  इन घटनाओं ने लोगों को एक दूसरे से दूर कर दिया है, लेकिन फिर भी आप इन गर्मियों में विदेश यात्रा का मन बना रहे हैं और ऐसे देश जाना चाहते हैं जहां अपराध, आतंक और अशांति ना हो और महंगाई भी ज्यादा ना हो। इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे देशों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां आप अपनी फैमिली के साथ आराम से घूम सकते हैं और परिवार समेत सुरक्षित भी लौट सकेंगे। 


आइसलैंड

सेफ्टी इंडेक्स में लगातार दसवें साल आइसलैंड टॉप पर है।

 

 


पुर्तगाल

1.258 सेफ्टी स्कोर के साथ पुर्तगाल में महंगाई का कम होना और यहां का सौंदर्य इसे खास स्थान बनाता है।

 

 

 


ऑस्ट्रिया

ऑस्ट्रिया को हथियारों के कम आयात और शांतिपूर्ण चुनावों के लिए 1.265 रैंक मिला है।

 

 


 

डेनमार्क

डेनमार्क नियमित रूप से दुनिया के सबसे प्रसन्न देशों में अपना स्थान बनाता है और इसका रैंक 1.337 है जिसका मतलब यह सबसे सुरक्षित देशों में से एक है।

 

 


 

चेक गणराज्य

यहां खतरनाक अपराध अन्य देशों के मुकाबले बहुत कम है।

 

 


 

स्लोवेनिया

स्लोवेनिया में किसी तरह की आतंकी गतिविधि नहीं है और देश के अंदर अपराध भी ना के बराबर है। पीस इंडेक्स में इसको 1.364 रैंक्स मिली है।

 

 

 


कनाडा

पीस इंडेक्स में कनाडा का 1.371 रैंक्स है। सुरक्षा के मामले में यह संयुक्त राष्ट्र से भी बहुत ऊपर है।

 

 

 


स्विटजरलैंड

धरती के स्वर्ग पर तो सब शांति-शांति है। न आतंक का डर, न लूटे जाने का भया, बिल्कुल आराम से घूमिए।

 


जापान

अगर आप जापान जा रहे हैं तो सुरक्षा की चिंता यहीं छोड़ दीजिए। इसके अलावा वहां के नियम भी आसान हैं, जिससे आपको देश घूमने में कोई दिक्कत नहीं होगी।

 

 

न्यूजीलैंड

ये दुनिया विकसित देशों में से एक है। न्यूजीलैंड का एक स्थिर लोकतंत्र है और वो किसी भी बड़े विश्व के संघर्षों में शामिल नहीं है।