दैनिक भास्कर हिंदी: बिना किसी डॉक्टरी सलाह के फिर से बिकेगी वायग्रा

August 31st, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। आज से 25 साल पहले ब्रिटेन में एक दवा की ईजाद की गई थी। जिसे सेक्स करने से पहले खाने से यौन संबंधों में अपनी शक्ति दिखाने में मदद मिलती है। अमेरिकी कंपनी फाइजर ऐन्जाइन (कंठ-शूल) के लिए दवा विकसित करने में जुटी थी, उसी समय वायग्रा सामने आई। बता दें कि इस दवा को पहले इसे यूके-92480 के नाम से जाना गया था। यह दवा अगले साल मार्च में अपने 20 साल पूरे करने जा रही है। 

 

हालांकि ब्रिटेन में इसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई थी, जबकि, अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने करीब छह साल बाद 27 मार्च 1998 में इसके दवा के इस्तेमाल को अपनी मंजूरी दी थी। खबरों के अनुसार बताया जा रहा है कि, पिछले हफ्ते ही ब्रिटेन ने बिना किसी डॉक्टरी सलाह के वायग्रा बेचने की व्यवस्था को फिर से मंजूरी दे दी है। यही नहीं बल्कि, ऐसा करने वाला वह पहला देश हो गया है।

एक समय अमेरिका में वायग्रा गोली के इस्तेमाल से 130 लोगों की मौत होने की बात सामने आई थी। जिसके बाद से वायग्रा को सबसे खराब माना जाता था। हाल ही में फाइजर की वायग्रा टीम के पूर्व प्रमुख डेविड ब्रिंकले ने बताया कि, "यौन संबंधों में इसकी उपयोगिता सामने आने से लोग आश्चर्यचकित हैं।   

 

हालांकि ब्रिटेन एक समय इस दवा पर प्रतिबंध इसलिए लगाया था कि इसके दुरुपयोग को रोका जा सकेगा। वायग्रा को लेकर ताइवान में भी एक विचित्र घटना सामने आई थी। एक वेश्या को 74 वर्षीय ग्राहक की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। बताया जाता है कि बुजुर्ग ने वायग्रा खाने के तुरंत बाद वेश्या को दोबारा यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर किया था। बाद में उस बुजुर्ग की मौत भी हो गई। जिसका आरोप वैश्या पर लगा था। 

इस दवा की काफी समय तक कालाबाजारी भी हुई। जानकारी के अनुसार, ब्रिटेन में पिछले 5 सालों में 5 करोड़ पौंड यानि कि 434 करोड़ रुपए मूल्य की वायग्रा जब्त की जा चुकी है। हालांकि शुरुआत में फाइजर का पेटेंट होने की वजह से इसकी कीमत बेहद ज्यादा थी। साल 2015 में पेटेंट की मियाद खत्म होने के बाद वायग्रा की कीमतों में भारी कमी देखने को मिली है। वहीं अमेरिकी खाद्य सुरक्षा एजेंसी द्वारा वायग्रा की बिक्री की अनुमति देने के बाद इसके इस्तेमाल में बढ़ोतरी दर्ज की गई है।