comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

ईटानगर: ITBP जवानों की बस पर गिरी चट्टान, 4 की मौत

June 30th, 2018 13:56 IST

हाईलाइट

  • अरुणाचल प्रदेश के ईटानगर में भारत तिब्बत सीमा पुलिस के चार जवानों की भूस्खलन में मौत हो गई।
  • 4 मौतों के अलावा करीब दस जवान इस हादसे में घायल भी हुए हैं।
  • इन्हें अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।

डिजिटल डेस्क, ईटानगर। अरुणाचल प्रदेश के ईटानगर में भारत तिब्बत सीमा पुलिस के चार जवानों की भूस्खलन में मौत हो गई। दरअसल, ये जवान जिस पुलिस वाहन में सवार थे, उस पर लोअर सिआंग जिले में बसर-अकाजन मार्ग से गुजरने के दौरान पहाड़ से एक बड़ी चट्टान टूटकर गिर पड़ी। 4 मौतों के अलावा करीब दस जवान इस हादसे में घायल भी हुए हैं, जिन्हें अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।


चार जवानों की मौके पर ही मौत
लोअर सिआंग के पुलिस अधीक्षक सिंगजतला सिंगफो ने बताया कि ये हादसा देर रात करीब ढाई बजे हुआ। ITBP के 20 कर्मियों को लेकर मिनी बस पश्चिमी सिआंग जिले के बसर से निचले सिआंग जा रही थी। तभी पहाड़ से लुढ़कता विशाल पत्थर मिनी बस पर आ गिरा। बल के चार जवानों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही राहत और बचाव दल मौके पर पहुंच गया और घायलों को अस्पताल पहुंचाया। सिंगफो ने बताया कि हादसे में घायल हुए जवानों में से दो की हालत गंभीर है। गंभीर रूप से घायल जवानों को लिकाबली स्थित सेना अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

पांच दिनों में दूसरी घटना
बता दें कि जिस जगह ये हादसा हुआ वो लोअर सिआंग के जिला मुख्यालय लिकाबली से करीब पांच किलोमीटर दूर है। अरुणाचल प्रदेश में पांच दिनों के अंदर बारिश से संबंधित ये दूसरी घटना है। शनिवार को ईटानगर के दोनी कॉलोनी इलाके में भारी बारिश के कारण जमीन धस गई थी। इस हादसे में 5 लोगों की मौत हो गई थी। भूस्खलन में बैंबू से बने कैंप को भी तबाह कर दिया था। मानसून में भूस्खलन की घटनाओं में मरने वालों की संख्या अब 9 तक पहुंच गई है।

एहतियात बरतने की सलाह
दोनी में हुई घटना को लेकर एक स्थानीय नेता ने कहा था कि हमने सरकार को बताया था कि यहां की जमीन रेतीली है, जो ऐसी स्थितियों में खतरनाक साबित हो सकती है। ये प्राकृतिक आपदा है इस पर किसी का भी कंट्रोल नहीं है। पहारनगर और निर्जली के लोगों उन्होंने एहतियात बरतने की सलाह दी थी। उन्होंने कहा था कि प्राकृतिक आपदा से बचने का सिर्फ यही एक तरीका है।  

कमेंट करें
FcvBa
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।