दैनिक भास्कर हिंदी: Bihar: तब्लीगी जमात की मीटिंग में शामिल हुए 40 विदेशियों को भेजा जेल, वीजा नियमों का किया था उल्लंघन

April 14th, 2020

हाईलाइट

  • तब्लीगी जमात की मीटिंग में शामिल होने वाले 40 विदेशी नागरिकों को भेजा जेल
  • बिहार पुलिस ने वीजा उल्लंघन के मामले में भेजा जेल
  • इन सभी का कोरोनावायरस का टेस्ट भी किया गया था जो नेगेटिव आया है

डिजिटल डेस्क, पटना। पिछले महीने दिल्ली में तब्लीगी जमात की मीटिंग में शामिल होने वाले 40 विदेशी नागरिकों को वीजा नियमों का उल्लंघन करने के मामले में जेल भेज दिया गया है। पटना, बक्सर और अररिया पुलिस ने इन लोगों पिछले महीने हिरासत में लिया था और इनके खिलाफ मामला दर्ज किया था। ये सभी लोग टूरिस्ट वीजा लेकर भारत आए थे और निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात के कॉग्रेगेशन में शामिल हुए थे। इन सभी का कोरोनावायरस का टेस्ट भी किया गया था जो नेगेटिव आया है।

पटना पुलिस ने तब्लीगी जमात से जुड़े 17 लोगों को हिरासत में लिया था। इनमें से एक कजाकिस्तान और 16 लोग किर्गिस्तान के थे। जबकि अररिया पुलिस ने कुल 18 विदेशी नागरिकों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इनमें से नौ बांग्लादेश से, आठ मलेशिया से और एक ऑस्ट्रेलिया से था। इन 18 विदेशी नागरिकों में से 9 लोग तब्लीगी जमात से जुड़े हैं। बक्सर पुलिस ने भी कार्रवाई करते हुए इंडोनेशिया के सात और मलेशिया से चार लोगों को गिरफ्तार किया था। पिछले महीने हिरासत में लिए जाने के बाद सभी को क्वारनटीन में रखा गया था।

तब्लीगी जमात के कई लोग पाए गए कोरोना पॉजिटिव
बता दें कि देश में कोरनावायरस का संक्रमण फैलने के बावजूद दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज में मार्च महीने में तब्लीगी जमात के देश-दुनिया के हजारों लोग शामिल हुए थे। बाद में इनमें से कई लोग अपने-अपने घर लौट गए और कछ वहीं रुक गए। जब तेलंगाना में जमात से जुड़े लोगों की कोरोनावायरस संक्रमण से मौत की खबर मिली तो पुलिस निजामुद्दीन मरकज पहुंची। यहां पर लॉकडाउन के बावजूद करीब 2300 लोग मौजूद थे। इनमें के कई लोगों में कोरोनावायरस के लक्षण भी थे। पुलिस ने कोरनावायरस के लक्षण वाले लोगों को अलग-अलग अस्पताल में भर्ती कराया जिनमें से कई लोग कोरना पॉजिटव पाए गए। वहीं अन्य लोगों को क्वारनटीन किया गया।

इस घटना के सामने आने के बाद देश में अचानक कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ गई। जो लोग मरकज से अलग-अलग राज्यों में गए थे उनके बारे में भी पता लगाया गया और उन्हें भी क्वारनटीन किया गया। मीडिया ने इस पूरे मामले को रिपोर्ट किया था और जमातियों को उनकी लापरवाही पर घेरा था। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने 4 अप्रैल को मीडिया को बताया था कि तब्लीगी जमात के कारण कोरोना के मामलों में 30 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है। 

खबरें और भी हैं...