मुंबई: आर्यन खान को ड्रग्स केस में छोड़ने के लिए 8 करोड़ रूपए मांगी गई थी रिश्वत , जानकर रह जाएंगे हैरान!

October 24th, 2021

हाईलाइट

  • मुंबई क्रूज ड्रग्स केस में चौंकाने वाला खुलासा हुआ
  • आर्यन को मामले में छोड़ने के लिए 8 करोड़ की मांग की गई थी

डिजिटल डेस्क,  मुंबई। मुंबई ड्रग्स मामले में सुपरस्टार शाहरूख खान के बेटे आर्यन खान को लेकर एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। बता दें कि किरण गोसावी के बॉडीगार्ड रहे प्रभाकर सैल ने एक हलफनामे में कई चौकानें वाले दावे किए हैं। प्रभाकर ने आजतक टीवी चैनल से बातचीत में कहा कि गोसावी ने आर्यन को छोड़ने के लिए 25 करोड़ की मांग की थी। सैल के हलफनामे के मुताबिक ये मांग गोसावी ने एनसीबी चीफ समीर वानखेड़े की ओर से की थी। बता दें कि प्रभाकर इस क्रूज ड्रग्स केस में एनसीबी के गवाह भी है। प्रभाकर सैल ने अपने नोटरीकृत हलफनामे में बताया है कि वह क्रूज रेड के बाद हुए ड्रामे के समय मौजूद थे। उन्होंने किरण गोसावी और सैम नाम के एक शख्स को एनसीबी के दफ्तर के पास मिलते देखा था। सैल ने दावा किया है कि गोसावी और सैम लोअर परेल गए थे, जहां एक ब्लू कलर की गाड़ी वहां आई। प्रभाकर ने यह भी दावा किया कि उन्होंने शाहरुख खान की मैनेजर पूजा डडलानी को उस ब्लू गाड़ी में बैठे देखा था।

वानखेड़े को मिलने थे 8 करोड़ रूपए

इस पूरे मामले को लेकर गोसावी और सैम ने अपनी बातचीत में 25 करोड़ रूपए की मांग की थी। लेकिन 18 करोड़ में मामला सेटल करने को राजी हो गए थे। गोसावी ने कथित रूप से कहा था कि इस 18 करोड़ में से 8 करोड़ समीर वानखेड़े को जाएगा और बाकी बचे पैसे दूसरों में बंटेंगे। इसकी अगली सुबह प्रभाकर सैल को टोरेडो भेजा गया था। जहां एक सफेद गाड़ी से 50 लाख रूपए लिए थे। 
 
सादे कागज पर करवाया गया था हस्ताक्षर 

आपको बता दें कि क्रूज ड्रग्स मामलें में अपने हलफनामे में प्रभाकर सैल ने बताया है कि उससे पंचनामा पेपर बताकर खाली कागज पर जबरन साइन करवाया गया था। उसे गिरफ्तारी के बारे में नहीं पता था। प्रभाकर ने एक हलफनामा तैयार किया था जिसमें दावा किया गया कि वो इस क्रूज रेड के बाद ड्रामे का गवाह है। इस ड्रग्स में पंच प्रभाकर का दावा है कि वो किरण गोसावी के पास बॉडीगार्ड के रूप में काम करता था।

  

 

खबरें और भी हैं...