दैनिक भास्कर हिंदी: FBI खोलेगा बाबा का काला चिठ्ठा, रिकवर की जाएगी हार्ड डिस्क

January 4th, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के राज उजागर करने के लिए अब पुलिस अमेरिकी खुफिया एजेंसी FBI की मदद लेगी। सिरसा के डेरा सच्चा सौदा में नष्ट करने का प्रयास की गई 85 हार्ड डिस्क हरियाणा पुलिस ने सर्च ऑपरेशन के दौरान बरामद की थी। अब FBI की मदद से इन हार्ड डिस्क को रिकवर किया जाएगा जो राम रहीम के राज उगलेगी। अधिकारियों का कहना है कि डेरा के गर्ल्स होस्टल के पास से बरामद की गई इन आधी जली हुई हार्ड डिस्क में कई महत्वपूर्ण जानकारियां हो सकती हैं। जांच एजेंसियों को राम रहीम के अपराधों की जानकारी इस हार्ड डिस्क से मिलने की उम्मीद है।

Image result for fbi


हरियाणा पुलिस की फॉरेंसिक लैब में एसी डिस्क को रिकवर करने के इंतजाम नहीं है। इसी वजह से हरियाणा पुलिस ने CBI और CFSL की मदद मांगी थी, लेकिन हार्ड डिस्क की स्थिति बेहद खराब है। यहीं कारण है कि अमेरिकन खुफिया एजेंसी से भी सहयोग मांग गया है। पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने मौखिक रूप से इसकी जानकारी दी है।

 

पंजाब के रिटायर्ड DGP डॉ. शशि भूषण के मुताबिक ऐसा पहली बार नहीं है जब किसी मामले में भारतीय पुलिस और एजेंसियों ने अमेरिकन खुफिया एजेंसी FBI की मदद ली हो। इससे पहले भी कई मामलों में FBI से मदद ली जा चुकी है। आजकल टेक्नोलॉजी के जमाने में नई से नई तकनीक लगातार सामने आ रही है और FBI के पास ऐसी तकनीक हो सकती है जिसके जरिए वो इन हार्ड डिस्क से डाटा निकालकर हरियाणा पुलिस की मदद कर सके।

Related image


गौरतलब है कि डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को रेप को दो मामलों में सीबीआई की विशेष अदालत ने 10-10 साल की सजा सुनाई है। इसके अलावा कोर्ट ने 30 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। इसमें से दोनों पीड़िताओं को 14-14 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा और दो लाख रुपये में कोर्ट में जमा होंगे।  डेरा प्रमुख के खिलाफ दायर रेप के दोनों मामलों में सुनाई गई जेल की दोनों सजाएं एक के बाद एक लगातार कुल 20 साल तक चलेंगी।

 

दरअसल 2002 में एक साध्वी ने गुमनाम चिट्ठी लिखी थी। इसमें बताया गया था कि कैसे डेरा सच्चा सौदा के अंदर लड़कियों का सेक्सुअल हरेसमेंट होता था। यह चिट्ठी पंजाब और हरियाणा कोर्ट को भी भेजी गई थी। इसके बाद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के खिलाफ यौन शोषण का केस शुरू हुआ और सीबीआई ने जांच शुरू की। 15 साल बाद सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने गुरमीत राम रहीम सिंह को दोषी करार दिया। माना जाता है कि ये चिट्ठी राम रहीम के 20 साल ड्राइवर रहे रणजीत सिंह की बहन ने लिखी थी। बाद में रणजीत का मर्डर हो गया था। इसका शक भी बाबा समर्थकों पर जताया गया। यह केस भी पंचकूला की सीबीआई अदालत में चल रहा है।