comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Cyclone Amphan Tracking: अम्फान तूफान ने पकड़ी रफ्तार, बंगाल में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू, सिक्किम और मेघालय के लिए भी अलर्ट जारी

Cyclone Amphan Tracking: अम्फान तूफान ने पकड़ी रफ्तार, बंगाल में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू, सिक्किम और मेघालय के लिए भी अलर्ट जारी

हाईलाइट

  • सुपर साइक्लोन में बदला चक्रवाती तूफान अम्फान
  • बंगाल-ओडिशा के साथ कई तटीय राज्यों में अलर्ट
  • तटीय इलाकों में एनडीआरएफ की टीमें तैनात

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवाती तूफान अम्फान सुपर साइक्लोन (Super Cyclone) में बदल चुका है। तूफान पश्चिम बंगाल और ओडिशा की ओर तेजी से बढ़ रहा है। जानकारी अनुसार बंगाल में तेज हवा के साथ बंगाल में बारिश शुरू हो गई है। 21 सालों के बाद कोई सुपर साइक्लोन भारत के तटीय इलाके से टकराने जा रहा है। इसे देखते हुए राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन बल (NDRF) की 41 टीमों को ओडिशा और पश्चिम बंगाल में तैनात किया गया है। एनडीआरएफ तट से लोगों को हटाने के काम में जुट गई हैं।

मौसम विभाग कि अनुसार उफान पर पहुंचकर सुपर साइक्लोन तबाही मचा सकता है। पश्चिम बंगाल के दीघा में मंगलवार शाम से तेज हवाएं चलने लगी हैं। साथ ही बारिश भी शुरू हो गई है। बुधवार को इसी इलाके में अम्फान तूफान के आने का अनुमान है। बंगाल में अम्फान के चलते बुधवार को भूस्खलन की आशंका भी जताई जा रही है। मौसम विभाग के अनुसार बुधवार दोपहर बाद यह तूफान बंगाल और बांग्लादेश के बीच सुंदरबन के पास तट से 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से टकराएगा। इस दौरान तटीय क्षेत्रों में 185 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा के साथ ही सिक्किम और मेघालय के लिए भी अलर्ट जारी किया है।

शाह ने बंगाल, ओडिशा के मुख्यमंत्रियों से की बात, मदद का आश्वासन
साइक्लोन के खतरे को देखते हुए राज्य सरकारों के साथ-साथ केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार भी एक्टिव हो गई है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल और ओडिशा के मुख्यमंत्रियों के साथ टेलीफोन पर चक्रवात अम्फान को लेकर अलग-अलग बातचीत की। गृह मंत्री शाह ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के साथ चर्चा की। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, शाह ने मुख्यमंत्रियों से बात करते हुए दोनों राज्यों में इस बाबत तैयारियों का जायजा लिया और सभी प्रकार से केंद्रीय सहायता प्रदान करने का आश्वासन भी दिया। केंद्रीय गृह मंत्री ने टेलीफोन पर बातचीत के दौरान पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को सभी अपेक्षित मदद की पेशकश की। इसके बाद शाह ने ओडिशा में तैयारियों की समीक्षा करने के बाद दोहराया कि केंद्र सरकार राज्य को हर प्रकार से समर्थन देने के लिए तैयार है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा के तटों के लिए एक ताजा चक्रवात अलर्ट जारी किया है। आईएमडी ने कहा है कि एक अत्यंत भयंकर चक्रवाती तूफान अम्फान बंगाल की दक्षिण और मध्य खाड़ी से सटे मध्य भागों पर है, जो 20 मई को सुंदरवन के करीब बांग्लादेश में दीघा और हटिया के बीच टकराएगा।

NDRF की कुल 41 टीमें को ओडिशा और पश्चिम बंगाल में तैनात
राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन बल के प्रमुख एसएन प्रधान ने कहा कि NDRF की कुल 41 टीमों को ओडिशा और पश्चिम बंगाल में तैनात किया गया है। ये टीम जागरूकता फैलाने और जानकारियां पहुंचाने के साथ लोगों को बाहर निकालने का काम कर रही हैं। बंगाल में दो टीम बैकअप में हैं। उन्होंने कहा कि हम इस समय दोहरी चुनौती का सामना कर रहे हैं। प्रधान ने कहा कि हमने अतिरिक्त बैकअप रखा है। एनडीआरएफ की छह बटालियन (11, 9, 1, 10, 4, 5) को इसमें शामिल की हैं। इसमें से 11वीं बटालियन वाराणसी में है, 9वीं पटना में, 1 गुवाहाटी में, 10वीं विजयवाड़ा में, चौथी अरक्कोनम में और 5वीं पुणे में है। उनके पास मिलिट्री एयरपोर्ट है और उन्हें तुरंत लाया जा सकता है। हर बटालियन में चार टीम हैं, ऐसे में हमारे पास 24 अतिरिक्त टीम हैं। 

ओडिशा के तटीय जिलों में हाई अलर्ट 
तूफान के भीषण रूप के मद्देनजर मौसम विभाग ने पूर्वी तटों के राज्य- तमिलनाडु और पुडुचेरी से लेकर ओडिशा, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, त्रिपुरा, मणिपुर, मिजोरम और आस-पास के तटीय इलाकों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। ओडिशा के तटीय जिले हाई अलर्ट पर हैं।

अम्फान अपने केंद्र में 220 से 230 किमी. प्रति घंटे की गति से घूम रहा
भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने बताया, बंगाल की खाड़ी में बने ताकतवर चक्रवाती तूफान अम्फान से पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय जिलों में व्यापक नुकसान हो सकता है। महापात्रा ने कहा, 700 किलोमीटर तक फैले और लगभग 15 किमी. ऊंचाई वाला चक्रवात अम्फान अपने केंद्र में 220 से 230 किमी. प्रति घंटे की गति से घूम रहा है। यह सात किमी. प्रति घंटा की रफ्तार से उत्तर की ओर बढ़ रहा है और यह ओडिशा के पारादीप से 730 किमी. दक्षिण में, पश्चिम बंगाल के दीघा से 890 किमी. दक्षिण-दक्षिण पश्चिम और बांग्लादेश के खेपुरा से 1,010 किमी. दक्षिण-दक्षिण-पश्चिम में केंद्रित है।

बंगाल और ओडिशा के लिए ऑरेंज अलर्ट
सुपर साइक्लोन के 20 मई को सुंदरबन के करीब दीघा द्वीप और बांग्लादेश के हटिया द्वीप के बीच टकराने की आशंका है। मौसम विभाग ने तटीय पश्चिम बंगाल और ओडिशा के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है, जहां इससे व्यापक नुकसान होने की आशंका है।

कमेंट करें
4CkaA
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।