दैनिक भास्कर हिंदी: विपक्षी दलों की बैठक टली, ममता बोलीं- हर कोई महागठबंधन का चेहरा

November 20th, 2018

हाईलाइट

  • आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कोलकाता में मुलाकात की।
  • इस मुलाकात के बाद 22 नवंबर को नई दिल्ली में होने वाली विपक्षी दलों की बैठक को स्थगित कर दिया गया।
  • चंद्रबाबू नायडू ने 10 नवंबर को विपक्ष के कई नेताओें से मिलने के बाद 22 नवंबर को दिल्ली में बैठक का ऐलान किया था।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कोलकाता में मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद 22 नवंबर को नई दिल्ली में होने वाली विपक्षी दलों की बैठक को स्थगित कर दिया गया। बता दें कि चंद्रबाबू नायडू ने 10 नवंबर को विपक्ष के कई नेताओें से मिलने के बाद 22 नवंबर को दिल्ली में विपक्षी दलों की बैठक का ऐलान किया था।

तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता के साथ संवाददाताओं से संबोधित करते हुए टीडीपी प्रमुख ने कहा कि मीटिंग की नई तारीख जल्द ही घोषित की जाएगी। "हम चुनावों के कारण 22 नवंबर को मिलना चाहते थे ... हम चाहते हैं कि संसद के शीतकालीन सत्र से पहले ये बैठक हो। जो लोग भाजपा का विरोध कर रहे हैं वे इसमें शामिल होंगे और चर्चा करेंगे।" वहीं उन्होंने कहा कि बीजेपी का विरोध करने वाली पार्टियां  "राष्ट्र की रक्षा" करने के लिए शामिल होंगी क्योंकि "लोकतंत्र खतरे में"।

नायडू ने कहा कि देश में अल्पसंख्यकों के प्रति "असहिष्णुता" है और सीबीआई, ईडी, आयकर विभाग, आरबीआई और सीएजी जैसे संस्थान "गंभीर दबाव" में हैं। जब पूछा गया कि 201 9 में महा गठबंधन का चेहरा कौन होगा तो ममता ने कहा, "हर कोई महागठबंधन का चेहरा होगा" और कहा कि सभी विपक्षी दल भाजपा के खिलाफ लड़ाई में "एक साथ" हैं। बाद में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने नायडू को मुलाकात के लिए कोलकाता आने के लिए धन्यवाद दिया।

22 नवंबर को नई दिल्ली में होने वाली विपक्षी दलों की एक बैठक स्थगित कर दी गई है, टीडीपी प्रमुख ने कहा कि नई तारीख जल्द ही घोषित की जाएगी। "हम चुनावों के कारण 22 नवंबर को मिलना चाहते थे ... हम इसे संसद (सर्दी) सत्र से पहले बनाना चाहते थे। जो लोग भाजपा का विरोध कर रहे हैं वे शामिल होंगे और चर्चा करेंगे। उन्होंने आगे बढ़ने के लिए एक कार्यक्रम तैयार किया है ताकि देश की रक्षा के लिए एजेंडा पर इस गति को आगे बढ़ाया जा सके।

नायडू जो पहले बीजेपी के सहयोगी थे अब विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने में अग्रणी भूमिका निभा रहे है।  इसके लिए वह कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी, पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारुक अब्दुल्ला समेत कई नेताओं से मुलाकात कर चुके हैं।

इससे पहले नायडू ने कहा था कि 'यह व्यापक रूप से एंटी-बीजेपी मंच है। यह देश के हित में है। सेव डिमॉक्रेसी, सेव नेशन, सेव इंस्टिट्यूशन ही इस समय हमारा और देश का एजेंडा है। यह राष्ट्रीय एजेंडा है, एक अत्यंत महत्वपूर्ण एजेंडा है।' उन्होंने कहा था कि अब मैंने सबको आश्वस्त किया है। हर कोई सहयोग करने को तैयार है।

खबरें और भी हैं...