comScore

सावधान: चेन्नई में रखा है 697 टन अमोनियम नाइट्रेट, बेरूत को इस केमीकल ने 12 सेकंड में बना दिया दिया था खंडहर 


हाईलाइट

  • साउथ कोरिया से आया 697 टन विस्‍फोटक जब्‍त किया गया था
  • 48 घंटे के अंदर मांगी केमीकल भंडारण की रिपोर्ट
  • 234 किलोमीटर दूर सुनाई दी बेरूत धमाके की आवाज

डिजिटल डेस्क, चेन्नई। लेबनान की राजधानी बेरूत शहर को जिस केमीकल ने 12 सेकंड में खंडहर बना दिया था, वहीं केमीकल चेन्नई के बंदरगाह पर भी भारी मात्रा में रखा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चेन्नई सीपोर्ट कस्टम में वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि यहां मनाली में करीब 697 टन अमोनियम नाइट्रेट एक कंटेनर फ्रेट स्टेशन में रखा है। जानकारी के अनुसार अमोनियम नाइट्रेट की इस खेप को साल 2015 में सलेम की एक कंपनी से जब्त किया था, जिसने इसका आयात किया था। 

बता दें कि चार अगस्त की शाम को लेबनान की राजधानी बेरूत में ऐसा विस्फोट हुआ जिसने पूरे शहर को खंडहर में तब्दील कर दिया। यह धमाका बंदरगाह पर स्थित एक गोदाम में आग लगने की वजह से हुआ जहां साल 2013 से करीब 2750 टन अमोनियम नाइट्रेट असुरक्षित तरीके से रखा था। इस धमाके में 150 से ज्यादा लोगों की जान गई है, वहीं 5 हजार से ज्यादा लोग घायल हुए हैं।

Chennai port: bidders shun auction for container facility

कस्‍टम अधिकारी ने बताया कि साल 2015 में इस विस्‍फोटक ग्रेड के अमोनियम नाइट्रेट को तमिलनाडु के एक इंपोर्टर से जब्‍त किया गया था। इसकी कीमत लगभग 1.8 करोड़ रुपए के आसपास है। इस इंपोर्टर ने इसे फर्टिलाइजर के इस्‍तेमाल के लिए बताया था, लेकिन जांच में इसे विस्‍फोटक स्‍तर का पाया गया। चेन्‍नै के कस्‍टम अधिकारियों ने कहा है कि चेन्‍नै के बंदरगाह में स्‍टोर लगभग 697 टन अमोनियम नाइट्रेट को लेकर डरने की जरूरत नहीं है। 

साउथ कोरिया से आया था 
अधिकारियों का कहना है कि साउथ कोरिया से आयात किया गया अमोनियम नाइट्रेट का भंडार फिलहाल सुरक्षित है और इसके ई-ऑक्‍शन की प्रक्रिया चल रही है। नवंबर 2015 में 697 टन विस्‍फोटक जब्‍त किया गया था इसके बाद दिसंबर 2015 की बाढ़ में इसमें से 7 टन बेकार हो गया। अभी 690 टन बाकी है। इसी की नीलामी की कोशिशें की जा रही हैं।

48 घंटे के अंदर मांगी केमीकल भंडारण की रिपोर्ट
दूसरी ओर तमिलनाडु पुलिस ने इस संबंध में एक अलर्ट भी जारी किया है। इसमें कहा गया है कि यह अमोनियम नाइट्रेट रसायन 37 कंटेनर में रखा गया है। इसके साथ ही खुफिया अधिकारियों को इस संबंध में तत्काल फैसले लेने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही सीमा शुल्क बोर्ड ने एन्नोर, तूतीकोरिन और कराईकाल समेत देश के सभी बंदरगाहों और गोदामों को 48 घंटे के अंदर अगर उनके पास विस्फोटकों का भंडार है तो उसकी जानकारी देने के लिए कहा है। 

बेरूत धमाके के बाद पीएमके ने जताई थी चिंता
इस घटना के बाद ही पीएमके के संस्‍थापक एस रामदॉस ने राज्‍य सरकार से अनुरोध किया था कि चेन्‍नै बंदरगाह में रखे अमोनियम नाइट्रेट को सुरक्षित तरीके से ठिकाने लगा दिया जाए ताकि बेरूत जैसी किसी भी घटना से बचा जा सके। 

क्या है अमोनियम नाइट्रेट
बताया जा रहा है कि गोदाम में रखे अमोनियम नाइट्रेट में आग लगने की वजह से विस्फोट हुआ है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर यह अमोनियम नाइट्रेट क्या है, जिसने एक पूरे शहर को खंडहर में तब्दील कर दिया। अमोनियम नाइट्रेट एक गंधहीन रसायनिक पदार्थ है, जिसका उपयोग कई कामों में होता है। सामान्यत इसे दो कार्यों में सर्वाधिक उपयोग किया जाता है। पहला, खेती के लिए बनने वाले उर्वरक में और दूसरा निर्माण या खनन कार्यों में विस्फोटक के तौर पर।

Know what is ammonium nitrate that spoiled the Lebanese capital ...

फर्टिलाइजर इंडस्ट्री पिछले 80 साल से अमोनियम नाइट्रेट का इस्तेमाल कर रही हैं। सामान्य वातावरण में ये रसायन स्थिर होता है, लेकिन 40 डिग्री से ज्यादा के तापमान में इसके फटने का खतरा हो जाता है। इस तरह का हादसा 1947 में हुआ था। तब एक जहाज करीब 2300 टन अमोनियम नाइट्रेट लेकर अमेरिका के टेक्सस जा रहा था। जहाज पर आग लगी जो केमिकल तक जा पहुंची। इसके असर से समंदर में 15 फीट ऊंची लहरे उठीं। इस हादसे में पांच सौ लोग मारे गए थे। इसके बाद इस केमीकल को लेकर कई तरह की गाइडलाइन्स भी बनीं, लेकिन अब भी हादसे होते हैं। 

अमोनियम नाइट्रेट और इसकी वजह से हुईं दुर्घटनाएं
1995 में अमेरिका के ओक्लाहोमा में भीषण बम विस्फोट हुआ था। इन धमाकों के लिए बम में अमोनियम नाइट्रेट का उपयोग किया गया था।
2001 में फ्रांस के टुलूज के एक रसायनियक कारखाने में धमाका हुआ था जिसमें 31 लोग मारे गए थे।
2013 में अमेरिका के ही टेक्सस राज्य में एक उर्वरक कारखाने में धमाका हुआ था जिसमें 15 लोगों की मौत हुई थी।
2004 में इस केमिकल को लेकर जा रही ईरानी मालगाड़ी में धमाका हुआ, जिससे समूचा गांव खत्म हो गया। इसके बाद 2015 में चीन के तियांचिंग में भी ऐसा ही एक विस्फोट हुआ था, जिसके कारण आग लग गई। आग इतनी जबदस्त थी कि बुझाने आए दमकलकर्मियों में से 104 की झुलसकर मौत हो गई। इस घटना के पीछे 800 टन अमोनियम नाइट्रेट जिम्मेदार था।

234 किलोमीटर दूर सुनाई दी धमाके की आवाज
4 अगस्त 2020 को बेरूत पोर्ट पर हुए हादसे का जिम्मेदार 2750 टन अमोनियम नाइट्रेट था। यह विस्फोट इतना जबदस्त था कि बेरूत से 234 किलोमीटर दूर मौजूद साइप्रस देश में न केवल भूकंप के झटके महसूस किए गए, बल्कि लोगों को इस ब्लास्ट की आवाज भी सुनाई दी। विस्फोट इतना भीषण था कि बेरूत का 10 किलोमीटर का इलाका पूरी तरह से तबाह हो गया है। रेडक्रॉस टीम का कहना है कि हर तरफ क्षतिग्रस्त वाहनों और इमारतों का मलबा पड़ा हुआ है। धमाके के बाद जो तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया और विभिन्न समाचार एजेंसियों पर जारी हुए उनमें न केवल धुएं के गुब्बार दिख रहे हैं, बल्कि कई किलोमीटर तक तबाही के मंजर भी देखे जा सकते हैं।

लेबनान की राजधानी बेरूत में भीषण ...


 

कमेंट करें
sCfxH
कमेंट पढ़े
bhaskarhindi.com August 08th, 2020 12:30 IST

आपकी प्रतिक्रिया के लिए ध्यानवाद

YATIPRAKASH SHARMA August 08th, 2020 05:23 IST

अब किसी को नही पता हो तो तो भी हो गया है कि इंडिया ने कहां रखा है ,अमोनियम नाइट्रेट ।प्रिय एडिटर्स इतनी TRP भी मत लो यर जो सुरक्षा को ही खतरा हो जाये।

NEXT STORY

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। भारत के घरेलु वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम ने आज घोषणा की है कि इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी पेटीएम मनी ने देश में सभी के लिए स्टॉकब्रोकिंग की सुविधा शुरू कर दी है। कंपनी का लक्ष्य इस वित्त वर्ष में 10 लाख से अधिक निवेशकों को जोड़ना है, जिसमें अधिकतर छोटे शहरों और कस्बों से आने वाले फर्स्ट टाइम यूजर्स होंगे। इस प्रयास का उद्देश्य उत्पाद के आसान उपयोग, कम मूल्य निर्धारण (डिलीवरी ऑर्डर पर जीरो ब्रोकरेज, इंट्राडे के लिए 10 रुपये) और डिजिटल केवाईसी के साथ पेपरलेस खाता खोलने के साथ निवेश को प्रोत्साहित करना तथा अधिक-से-अधिक लोगों तक पहुंचना है। कंपनी भारत में सबसे व्यापक ऑनलाइन वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनने के लिए प्रयासरत है, जो वित्तीय समावेशन के लक्ष्य के तहत आम लोगों तक आसानी से पहुंच सके।

पेटीएम मनी को अपने शुरुआती प्रयास में ही लोगों से भारी प्रतिक्रिया मिली और उसने 2.2 लाख से अधिक निवेशकों को अपने साथ जोड़ लिया। इनमें से, 65% उपयोगकर्ता 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में हैं, जो दर्शाता है कि नई पीढ़ी अपनी वेल्थ पोर्टफोलियो का निर्माण कर रही है। टियर-1 शहरों जैसे मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, जयपुर और अहमदाबाद में इस प्लेटफार्म को बड़े स्तर पर अपनाया गया है। ठाणे, गुंटूर, बर्धमान, कृष्णा, और आगरा जैसे छोटे शहरों में भी लोगों का भारी झुकाव देखने को मिला है। यह सेवा सुपर-फास्ट लोडिंग स्टॉक चार्ट्स, ट्रैक मार्केट मूवर्स एंड कंपनी फंडामेंटल्स सुविधाओं के साथ अब आईओएस, एंड्रॉइड और वेब पर उपलब्ध है। पेटीएम मनी ऐप शेयरों पर निवेश, व्यापार और सर्च के लिए प्राइस अलर्ट और एसआईपी सेट करने के लिए आसान इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

इस अवसर पर पेटीएम मनी के सीईओ, वरुण श्रीधर ने कहा, "हमारा उद्देश्य वेल्थ मैनेजमेंट सेवाओं को आबादी के बड़े हिस्से तक पहुंचाना है, जो आत्मानिर्भर भारत के लक्ष्य में योगदान करेगी। हमारा मानना है कि यह मिलेनियल और नए निवेशकों को उनके वेल्थ पोर्टफोलियो के निर्माण में सक्षम बनाने का समय है। प्रौद्योगिकी पर आधारित हमारे समाधान शेयर में निवेश को सरल और आसान बनाता है। हम वर्तमान उत्पादों को चुनौती देते रहेंगे और भारत के सर्वश्रेष्ठ उत्पाद का निर्माण करते रहेंगे। हम पेटीएम मनी को सभी भारतीय के लिए एक व्यापक वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। "

इतने कम समय में पेटीएम मनी पर स्टॉक ट्रेडिंग को व्यापक रूप से अपनाया जाना काफी महत्व रखता है। यह हर भारतीय के लिए डिजिटल निवेश को आसान बनाने के कंपनी के प्रयासों की सराहना को भी दर्शाता है। शेयरों में आसान निवेश के साथ, प्लेटफॉर्म उपयोगकर्ता को बाजार के बारे में शोध करने, मार्केट मूवर्स का पता लगाने, अनुकूल वॉचलिस्ट तैयार करने और 50 से अधिक शेयरों के लिए प्राइस अलर्ट सेट करने के अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा, उपयोगकर्ता स्टॉक के लिए साप्ताहिक / मासिक एसआईपी सेट कर सकते हैं, और स्टॉक में निवेश को आॅटोमेट कर सकते हैं। बिल्ट-इन ब्रोकरेज कैलकुलेटर के साथ, निवेशक लेनदेन शुल्क का पता लगा सकते हैं और शेयरों को लाभ पर बेचने के लिए ब्रेक-इवेन प्राइस जान सकते हैं। इसके अलावा, स्टॉक ट्रेडिंग के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए एडवांस्ड चार्ट और अन्य विकल्प जैसे कवर चार्ट तथा ब्रैकेट ऑर्डर भी जोड़े गए हैं। इन सुविधाओं के अलावा बैंक-स्तरीय सुरक्षा के साथ निवेशकों के व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित रखते हुए अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी।


पेटीएम मनी के बारे में
पेटीएम मनी वन97 कम्युनिकेशंस की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है। वन97 कम्युनिकेशंस भारत की घरेलू वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम का स्वामित्व भी रखता है। यह देश का सबसे बड़ा ऑनलाइन इंवेस्टमेंट प्लेटफार्म है, और अब इसने उपयोगकर्ताओं के लिए डायरेक्ट म्यूचुअल फंड्स और एनपीएस के अपने वर्तमान आॅफर में स्टॉक्स को भी जोड़ दिया है। पेटीएम मनी का लक्ष्य एक पूर्ण-स्टैक इंवेस्टमेंट और वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनना और लाखों भारतीयों तक धन सृजन के अवसरों को पहुंचाना है। बेंगलुरु स्थित मुख्यालय से संचालित इस कंपनी की टीम में 300 से अधिक सदस्य हैं।