comScore

VHP नेता साध्वी प्राची की अपील- मुस्लिमों की बनाई कांवड़ न खरीदें कांवड़िए

VHP नेता साध्वी प्राची की अपील- मुस्लिमों की बनाई कांवड़ न खरीदें कांवड़िए

हाईलाइट

  • विश्व हिंदू परिषद की नेता साध्वी प्राची का विवादित बयान
  • हरिद्वार में 99 प्रतिशत मुस्लिम भगवान शिव के भक्तों के लिए कांवड़ बनाते हैं, उनका बहिष्कार किया जाना चाहिए

डिजिटल डेस्क, बागपत (उत्तर प्रदेश)। विवादित बयानों को लेकर अक्सर ही चर्चा में रहने वाली विश्व हिंदू परिषद (VHP) की नेता साध्वी प्राची ने एक और भड़काऊ बयान दिया है। इस बार साध्वी प्राची ने कांवड़ियों से अपील की है कि, वे मुस्लिमों द्वारा बनाई गई कांवड़ न खरीदें। दरअसल साध्वी प्राची ने कैराना से सपा विधायक नाहिद हसन को अपने निशाने में लिया है। नाहिद ने अपनी विधानसभा के लोगों से बीजेपी से जुड़े लोगों की दुकानों से सामान ना खरीदने की अपील की थी। इसी मुद्दे पर उत्तर प्रदेश के बागपत में साध्वी प्राची ने भी विवादित बयान दे डाला है। साध्वी ने मुस्लिम कारीगरों के हाथ से बनी कांवड़ को ना खरीदने की अपील की है।

साध्वी प्राची कांवड़ शिविर का उद्घाटन करने बागपत पहुंची थीं। अपने भाषण में नाम लिए बिना साध्वी प्राची ने कहा, आजादी के बाद जो लोग हिंदुस्तान में रह गए, वो इंसानियत से रहें। अगर गुर्राए तो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। बुधवार को यहां एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, 99 प्रतिशत मुस्लिम हरिद्वार में भगवान शिव के भक्तों के लिए कांवड़ बनाते हैं। उनका बहिष्कार किया जाना चाहिए। उन्हें वहां से चले जाने के लिए कहा जाना चाहिए। 'कांवर यात्रा' भगवान शिव के भक्तों का एक वार्षिक तीर्थ है। कांवड़िया उत्तराखंड के हरिद्वार, गौमुख और गंगोत्री जैसे स्थानों पर जाते हैं और बिहार के सुल्तानगंज में गंगा नदी के पवित्र जल को लाने और उसी जल से सर्वशक्तिमान की पूजा करते हैं।

विहिप नेता साध्वी प्राची ने ये भी दावा किया कि मदरसों में पैदा होने वाले लोग मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड और लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक हफीज सईद के संगठन की तरह हैं। भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे जैसे लोग कभी भी मदरसों में पैदा नहीं हो सकते।

उन्होंने कहा, नाथूराम गोडसे और साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जैसे लोग मदरसों में पैदा नहीं हुए हैं। देश के सभी बुद्धिजीवी इस पर चुप रहे। किसी ने भी कुछ नहीं कहा, लेकिन मैं उन्हें बताना चाहती हूं कि अगर मुझे फांसी दी जाती है तो भी मैं सच बोलूंगी। गोडसे और प्रज्ञा ठाकुर जैसे लोग मदरसे में कभी पैदा नहीं हो सकते, मदरसों में पैदा होने वाले लोग हाफिज सईद की तरह बड़े होते हैं।

कमेंट करें
VJBzg