comScore

पाक की घुसपैठ रोकने BSF खरीदेगा एंटी-ड्रोन सिस्टम, 360 डिग्री निगरानी की क्षमता


हाईलाइट

  • BSF ग्राउंड आधारित 'एंटी-ड्रोन सिस्टम' खरीदेगा जिसमें 360 डिग्री निगरानी क्षमता होगी
  • सिस्टम में जीपीएस जैमिंग सिस्टम भी होगा जो ड्रोन का पता लगाने में सक्षम होगा
  • इसे पाक की ओर से ड्रोन घुसपैठ से निपटने के लिए सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थापित किया जाएगा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। BSF ग्राउंड आधारित 'एंटी-ड्रोन सिस्टम' खरीदेगा जिसमें 360 डिग्री निगरानी क्षमता होगी। सिस्टम में जीपीएस जैमिंग सिस्टम भी होगा और सभी प्रकार के ड्रोन का पता लगाने में सक्षम होगा। यह पाकिस्तान की ओर से ड्रोन की घुसपैठ से निपटने के लिए सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थापित किया जाएगा।

न्यूज एजेंसी पीटीआई के एक्सेस किए गए एक आधिकारिक दस्तावेज के अनुसार, बॉर्डर गार्डिंग फोर्स ने एक फुल ड्रोन डिटेक्शन सिस्टम मांगा है जिसमें सभी मानव रहित एरियल व्हीकल (यूएवी) को बेअसर करने के लिए रडार, रेडियो फ्रीक्वेंसी रिसीवर, जैमर और सिस्टम कंट्रोलर होंगे। 

स्पेसिफिकेशन के अनुसार, फोर्स ने स्टैंड-अलोन प्लेटफ़ॉर्म में ग्राउंड-आधारित ड्रोन प्रणाली की मांग की है जिसे जमीन पर या किसी वाहन पर फिक्स किया जा सकता है। बीएसएफ ने कहा है कि इसे हार्श बॉर्डर क्षेत्रों में तैनात किया जाएगा जिसमें घने जंगल, रेगिस्तान, नदियां और अन्य शामिल हैं।

इससे पहले रविवार को खबर आई थी कि अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात सुरक्षा बलों को 1,000 फीट या उससे नीचे उड़ान भरने वाले ड्रोन को मार गिराने की मंजूरी दी गई है। सरकारी सूत्रों ने न्यूज एजेंसी एएनआई को यह जानकारी दी थी। दरअसल, पाकिस्तान समर्थित आतंकी समूहों ने भारत में हथियारों और नशीले पदार्थों की तस्करी के लिए नया रास्ता अपनाया है। वह छोटे ड्रोन का उपयोग कर हथियारों और नशीले पदार्थं की तस्करी कर रहे हैं।

सूत्रों ने कहा कि 1,000 फीट से अधिक ऊंचाई पर उड़ान भरने वाले किसी भी ड्रोन के लिए संबंधित एजेंसियों से अंतिम मंजूरी लेनी होगी क्योंकि उड़ने वाली वस्तु एक हवाई जहाज भी हो सकती है। बीते दिनों पंजाब में अंतरराष्ट्रीय सीमा पार कर भारतीय सीमा में दाखिल हुए कई छोटे ड्रोन देखे गए हैं। पाकिस्तान में मोजूद आतंकवादी चीन में निर्मित इन ड्रोनों का इस्तेमाल भारत में असॉल्ट राइफल और ड्रग्स की आपूर्ति के लिए कर रहे हैं।

फिरोजपुर के हुसैनीवाला सीमा चौकी पर सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों ने सोमवार रात को पाकिस्तानी सीमा से भारत में प्रवेश करते हुए एक ड्रोन देखा। पंजाब पुलिस को इस बारे में सूचित किए जाने के बाद एक सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया था। बीएसएफ सूत्रों ने कहा था कि स्थानीय पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

हुसैनीवाला बॉर्डर पर पाकिस्तानी ड्रोन दिखने के 21 घंटे बाद एक बार फिर फिरोजपुर सीमा पर ड्रोन मूवमेंट देखी गई। मंगलवार रात के बाद बुधवार रात को भी सरहदी गांव हाजरा सिंह वाला, टेन्डी वाला में पाकिस्तानी ड्रोन ने भारतीय सीमा में 4-5 किमी अंदर तक उड़ान भरी। बीएसएफ ने कई फायर कर ड्रोन गिराने की कोशिश की, पर 300 से 400 फीट की ऊंचाई पर होने के कारण वह सफल नहीं हो पाई।

पंजाब के पुलिस प्रमुख दिनकर गुप्ता ने 24 सितंबर को बताया था कि पाक से 9-16 सितंबर के बीच करीब 8 चीनी ड्रोन के जरिए 80 किलो विस्फोटक सामग्री पंजाब और जम्मू-कश्मीर भेजी गई। पाक के आतंकी संगठन पंजाब और जम्मू-कश्मीर में बड़े धमाकों की साजिश रच रहे हैं। इसके लिए पाक सेना और आईएसआई आतंकी संगठन खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स (केजेडएफ) का समर्थन कर रही है।

शुक्रवार को नार्दन कमांड के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने पंजाब में ड्रोन की मदद से हथियार पहुंचाने के सवाल पर कहा था, 'ये पाकिस्तान का नया तरीका है, लेकिन मैं आपको यह सुनिश्चित करना चाहता हूं कि भारतीय सेना पाकिस्तान की इस नापाक कोशिश को विफल करने में पूरी तरह से सक्षम है। उनके मंसूबों को सफल नहीं होने दिया जाएगा।'

कमेंट करें
rw9aq
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।