दैनिक भास्कर हिंदी: गोवा: CM मनोहर पर्रिकर की दिल्ली एम्स से छुट्टी, घर को अस्पताल में बदला

October 15th, 2018

हाईलाइट

  • विशेष विमान से दिल्ली से गोवा लाया गया
  • घर के बाहर 24 घंटे खड़ी रहेगी एंबुलेंस
  • 15 सितंबर को दिल्ली एम्स में हुए थे भर्ती

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। एक महीने तक एम्स में भर्ती रहे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को दिल्ली एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) से छुट्टी दे दी गई है। इसके बाद उन्हें विशेष विमान से गोवा ले जाया गया, जहां उनके घर को अस्पताल में तब्दील कर दिया गया है। घर के बाहर एक एंबुलेंस भी खड़ी कर दी गई है। इससे पहले रविवार सुबह दिल्ली एम्स में अचानक उनकी तबीयत ज्यादा खराब हो गई थी, जिसके बाद उन्हें इंटेंसिव केयर यूनिट (आईसीयू) में भर्ती कराया गया था। हालांकि, कुछ देर बाद ही उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया और एयर एंबुलेंस से उन्हें गोवा ले जाया गया। बता दें कि उन्हें पैनक्रियाज (अग्नाशय) की बीमारी के इलाज के लिए 15 सितंबर को दिल्ली एम्स में भर्ती कराया गया था। गोवा के सीएम पर्रिकर फरवरी से ही बीमार चल रहे हैं। उनका गोवा, दिल्ली, मुंबई और अमेरिका के कई अस्पतालों में इलाज हो चुका है। इसके बाद भी उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ।

 

इससे पहले सीएम पर्रिकर ने शुक्रवार को अस्पताल में ही नेताओं से मुलाकात की थी, जिसमें मंत्रियों के साथ-साथ समर्थन देने वाली महाराष्ट्र गोमांतक पार्टी (MGP) और गोवा फॉरवर्ड पार्टी (GFP) के मौजूद थे। इसमें एमजीपी नेता और लोक निर्माण मंत्री सुदिन धवलीकर, जीपीएफ नेता और शहरी योजना मंत्री विजय सरदेसाई, राजस्व मंत्री रोहन खाउंटे, कला और संस्कृति मंत्री गोविंद गवडे शामिल थे। 

 

बता दें कि पर्रिकर की बीमारी को लेकर विपक्षी कांग्रेस ने गोवा सरकार की स्थिरता पर सवाल उठाया था। कांग्रेस के 15 विधायकों ने 19 सितंबर को राज्यपाल मृदुला सिन्हा से मुलाकात कर फ्लोर टेस्ट की मांग की थी। इसी दिन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के नेताओं से मुलाकात भी की थी। उन्होंने कहा था कि पर्रिकर गोवा के मुख्यमंत्री बने रहेंगे और कैबिनेट में जल्द बदलाव हो सकता है। 

 

पर्रिकर के बीमार होने के बाद से गोवा राजनीति में उथल-पुथल मची हुई है। ऐसा माना जा रहा था कि गोवा सरकार चलाने के लिए बीजेपी सरकार की सहयोगी पार्टी महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के रामकृष्ण सुदीन धवलीकर को अस्थायी तौर पर सीएम का चार्ज दिया जा सकता है। पर्रिकर कैबिनेट में अभी सबसे वरिष्ठ मंत्री धवलीकर ही हैं। कुछ दिन पहले पर्रिकर ने बातचीत के लिए धवलीकर बुलाया था लेकिन लीडरशिप को लेकर कोई बात नहीं हुई। हालांकि इस संबंध में अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है कि पर्रिकर की जगह बीजेपी किस को कार्यभार सौंपेंगी। 40 सदस्यों वाली गोवा विधानसभा में भाजपा के 14 विधायक हैं। MGP (3), GFP (3) और NCP (1) के समर्थन से भाजपा ने सरकार बनाई थी। कांग्रेस के 16 विधायक हैं।

खबरें और भी हैं...