दैनिक भास्कर हिंदी: राजीव गांधी जयंती की तैयारियां तेज, कांग्रेस के बुलाई फ्रंटल संगठनों की बैठक

August 3rd, 2019

हाईलाइट

  • 20 अगस्त को है पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 75वीं जयंती
  • जयंती की तैयारियों पर चर्चा के लिए कांग्रेस ने अपने सभी फ्रंटल संगठनों की बैठक बुलाई है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 75वीं जयंती को यादगार बनाने के लिए तैयारियां तेज कर दी है। इसके लिए कांग्रेस ने आज (3 अगस्त) अपने सभी फ्रंटल संगठनों की बैठक बुलाई है। बैठक में जयंती की तैयारियों पर चर्चा की जाएगी। बैठक दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय में होगी। बता दें कि, 20 अगस्त को राजीव गांधी की जयंती पर देशभर के प्रदेश मुख्यालयों में कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे जबकि राजधानी दिल्ली में राष्ट्रीय स्तर पर बड़ा समारोह 21 अगस्त को होगा। यह फैसला गुरुवार को हुई पार्टी के महासचिवों और राज्य के प्रभारियों की बैठक में लिया गया।

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल के हस्ताक्षर वाले अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी द्वारा जारी एक पत्र कहा गया है, जैसा कि आप सभी जानते हैं हर साल, राष्ट्र हमारे दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का जन्मदिन 20 अगस्त को सद्भावना दिवस के रूप में मनाता है। राजीव गांधी ने देश के सबसे युवा प्रधान मंत्री के रूप में भारत के भीतर सांप्रदायिक सौहार्द, शांति और राष्ट्रीय अखंडता का प्रचार करने की कोशिश की और उन्हें दुनिया में एक सद्भावना राजदूत के रूप में जाना जाता है। इस साल पार्टी ने राजीव गांधी के जन्मदिन समारोह को बड़े पैमाने पर मनाने का फैसला किया है। जयंती की तैयारी पर चर्चा करने के लिए सभी फ्रंटल संगठनों, विभागों और प्रकोष्ठों के प्रमुखों की बैठक शनिवार 3 अगस्त को AICC कार्यालय में दोपहर 12 बजे आयोजित की जाएगी। 

दरअसल राजीव गांधी की 75 वीं जयंती पर कांग्रेस जनता के बीच पहुंचने की योजना बना रही है। पार्टी ने हमेशा दावा किया है कि डिजिटल इंडिया की नींव राजीव गांधी ने रखी थी। राजीव गांधी के इस विचार को फैलाने के लिए, वेणुगोपाल ने पार्टी के पदाधिकारियों को बड़े पैमाने पर आम जनता की भागीदारी के साथ राज्य, जिला और ब्लॉक स्तरों पर निरीक्षण करने का निर्देश दिया है। उन्होंने नेताओं को यह भी निर्देश दिया है कि, प्रार्थना सभाओं और पुष्पांजलि के अलावा, सामाजिक कार्यक्रम जैसे रक्तदान शिविर, पौधारोपण, संगोष्ठी, सम्मेलन आयोजित किए जाएं।

कांग्रेस इस संदेश को पार्टी के बारे में जनता की धारणा को बदलने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री के योगदान के बारे में जनता को याद दिलाने के लिए समाज के जमीनी स्तर पर भेजने की योजना बना रही है। गौरतलब है कि, मई 1991 में राजीव गांधी की हत्या लिबरेशन टाइगर्स ऑफ़ तमिल ईलम (LTTE) द्वारा तमिलनाडु के श्रीपेरंबुदूर में एक चुनावी रैली के दौरान कर दी गई थी।