comScore

कंग्रेस की मांग, एलएसी पर यथास्थिति बहाल हो

July 23rd, 2020 20:30 IST
 कंग्रेस की मांग, एलएसी पर यथास्थिति बहाल हो

हाईलाइट

  • कंग्रेस की मांग, एलएसी पर यथास्थिति बहाल हो

नई दिल्ली, 23 जुलाई (आईएएनएस)। ऐसी रिपोर्टे सामने आने के बाद कि भारत और चीन के कोर कमांडरों बीच चार दौर की बातचीत में सहमति बनने के बावजूद चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) गहराई वाले क्षेत्रों से पीछे नहीं हट रही है और एलएसी में करीब 40,000 सैनिक मौजूद हैं, कांग्रेस ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री की चुप्पी पर सवाल उठाया है।

कांग्रेस ने मई 2020 के पहले की यथास्थिति बहाल करने की मांग की है।

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए, कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता अजय माकन ने पूछा, मोदी सरकार मई 2020 से पहले की स्थिति को बनाए रखने और बहाल करने का प्रस्ताव कैसे करती है और इसकी नीति, रणनीति और आगे का रास्ता क्या है।

माकन ने कहा, हमारी क्षेत्रीय अखंडता या राष्ट्रीय सुरक्षा पर कभी कोई समझौता नहीं हो सकता। प्रधानमंत्री चीनी अतिक्रमण से अलग इन महत्वपूर्ण मुद्दों से पल्ला नहीं झाड़ सकते और हमारी सीमा पर चीनी सैनिकों की मौजूदगी हमारे क्षेत्र के लिए खतरा है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि यह मसला इस तथ्य के मद्देनजर महत्वपूर्ण है कि अभी 3 दिन पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने स्पष्ट रूप से कहा था कि जारी वार्ता के माध्यम से समाधान निकलने की कोई गारंटी नहीं है।

इस मुद्दे पर लोगों को गुमराह करने के लिए सरकार की आलोचना करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा या भारत की क्षेत्रीय अखंडता पर कोई समझौता नहीं हो सकता है।

कांग्रेस ने सरकार से छह सवाल किए। इसने कहा कि सर्दियां आ रही हैं और चीनी पीएलए के सैनिक नहीं हट रहे हैं।

माकन ने पूछा, क्या सरकार को 40,000 पीएलए सैनिकों के बारे में पता है जो अभी भी हमारे क्षेत्र से वापस नहीं जा रहे हैं? आरएम, एफएम और पीएम इस तरह के महत्वपूर्ण मसले के बारे में चुप क्यों हैं?

कांग्रेस ने पूछा कि इस रिपोर्ट के बाद क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को गुमराह किया है और रक्षा मंत्री के बयान का क्या मतलब है और क्या मोदी सरकार ने चीनी अतिक्रमण स्वीकार किया है और क्या यह भी स्वीकार किया है कि उनके पास चीनी सैनिकों को पीछे हटाने का कोई समाधान नहीं है।

कांग्रेस ने दौलत बेग ओल्डी और देपसांग सेक्टर में चीन के निर्मार्णो पर सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है और इस पर भी स्पष्टीकरण मांगा है कि क्या चीन ने फिंगर 4 से फिंगर 8 के बीच पैंगोंग त्सो झील क्षेत्र में हमारे क्षेत्र के 8 किलोमीटर क्षेत्र पर कब्जा करना जारी रखा है।

कमेंट करें
9XFew