comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

कांग्रेस जमीनी लड़ाई पर रखती है यकीन : अजय कुमार लल्लू

October 18th, 2019 11:45 IST
कांग्रेस जमीनी लड़ाई पर रखती है यकीन : अजय कुमार लल्लू

हाईलाइट

  • कांग्रेस जमीनी लड़ाई पर रखती है यकीन : अजय कुमार (साक्षात्कार)

लखनऊ, 18 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस अपना खोया जनाधार वापस लाने को बेताब है। कुशीगर जिले के तमकुही से दो बार विधायक रहे अजय कुमार लल्लू प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद काफी उत्साहित नजर आ रहे हैं। प्रियंका गांधी के करीबियों में शुमार लल्लू अब संगठन को मजबूत कर सत्ता के शिखर तक पहुंचाने की जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं।

लल्लू ने आईएएनएस से खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ट्विटर पर नहीं, बल्कि जमीन की लड़ाई पर यकीन रखती है। नई कमेटी घोषित होने के बाद पुराने और बुजुर्ग नेताओं की नाराजगी के सवाल पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस में सभी लोग एक विचारधारा के साथ जुड़े हैं। किसी को कोई नाराजगी नहीं है। सभी एक छत के नीचे रहने वाले लोग हैं। सबमें सामंजस्य है। मन भिन्नता हो सकती है, लेकिन कोई नाराज नहीं है। सभी पार्टी को आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं। किसी ने कोई इस्तीफा नहीं दिया है, यह इसे पुष्ट कर रहा है।

बकौल लल्लू, सोनभद्र उभ्भा की घटना के बाद कांग्रेस के आंदोलन से सरकार की चूल्हें हिल गई थीं। प्रियंका के नेतृत्व में कांग्रेस ने बड़ा आंदोलन किया। हमें चुनार के किले में बंद करवाया गया। यह धरातल की लड़ाई थी। उन्नाव कांड, चिन्मयानंद कांड और गांधी जयंती पर प्रियंका की पदयात्रा पर 50 हजार कार्यकर्ता सड़कों पर थे। इन सब आंदोलनों के अलावा बहुत सारे लोग हमसे उत्साही ढंग से आंदोलित हुए। कांग्रेस ने आम आदमी का ध्यान खींचा है। इस जमीन पर लड़ाई को हम आगे बढ़ाएंगे।

उन्होंने कहा, जनता ने हम पर भरोसा किया है। कांग्रेस अपने दम पर सत्तापक्ष की नीतियों के खिलाफ लड़ाई लड़ रही है। सरकार की विफलता, गन्ना किसान की समस्या, बदहाल कानून-व्यवस्था, गिरती अर्थव्यवस्था और उप्र सरकार के घमंड के खिलाफ हम जनता के बीच जा रहे हैं। जनता के साथ जुड़ रहे हैं। उन्हीं से गठबंधन कर रहे हैं। हम खोये विश्वास और जनाधार को पाने का प्रयास कर रहे हैं।

एक सवाल के जवाब में लल्लू ने कहा कि वर्ष 2022 का विधानसभा चुनाव कांग्रेस अकेले लड़ेगी। कांग्रेस का समझौता जनता से हो रहा है, किसी दल से नहीं।

उन्होंने कहा, मुझ जैसे साधारण कार्यकर्ता को सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी ने पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी दी है। प्रदेश कार्यकारिणी में ऐसे लोग लाए गए हैं, जिनका आंदोलन में इतिहास रहा है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, पार्टी में अभी तक जो संवादहीनता रही है, उसे हम दूर करने का प्रयास करेंगे। रचनात्मक, संरचनात्मक और आंदोलनात्मक ढंग से एक-एक कार्यकर्ता तक पहुंचेंगे। जनभागीदारी के माध्यम से हम बड़ा जन आंदोलन खड़ा करेंगे।

उन्होंने कहा कि अन्य दलों से भाजपा के लड़ने का सोशल मीडिया और संगठन का हथियार काफी मजबूत है, लेकिन यह सब हवा-हवाई साबित होगा। वजह यह कि हिंसा, नफरत और भ्रम फैलाकर कुछ दिन राज किया जा सकता है, बहुत दिनों तक नहीं। सत्य परेशान हो सकता है, हार नहीं सकता। अंत में जीत न्याय व अहिंसा की होगी। गांधी जी के विचारों को आगे ले जाने वाली कांग्रेस को वर्ष 2022 में जरूर जीत मिलेगी।

सोनिया, राहुल और प्रियंका के बीच में फंसी कांग्रेस को निकालने की बात पर उन्होंने कहा कि यह मीडिया का मापदंड है। तीनों लोग एकजुट हैं। पूरी पार्टी एकजुट है। सभी साथ बैठकर निर्णय लेते हैं।

लल्लू ने कहा, अनुशासनहीनता से कोई समझौता नहीं होगा। हरचंदपुर विधायक राकेश सिंह के खिलाफ सात माह पहले याचिका डाली जा चुकी है। निर्णय विधानसभा अध्यक्ष को लेना है। सरकार के दबाव में निर्णय नहीं ले पा रहे हैं। अदिति सिंह को भी नोटिस दिया गया है। जवाब अभी नहीं मिला है। संगठन के कार्य से मैं लगातार बाहर दौरे पर हूं। विधानसभा में पता कराता हूं कि क्या हुआ?

उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा समेत सभी छोटे बड़े नेता अनुशासन की डोर से बंधे हैं। पार्टी लाइन तोड़ने की इजाजत किसी को नहीं है।

भाजपा सरकार के बीते ढाई सालों के लेखा-जोखा के बारे में अजय कुमार ने कहा, भाजपा पूरी तरह फेल है। बेरोजगार नवयुवकों के साथ अत्याचार कर रही है। संविदा कार्मचारियों को परेशान कर रही है। 25 हजार होमगार्डो को निकाल शायद दिवाली का तोहफा दिया है। सारी भर्तियां कोर्ट में लंबित हैं। कानून-व्यवस्था बची ही नहीं है। प्रदेश आज अराजकता की भेंट चढ़ चुका है। अपराधियों को संरक्षण मिल रहा है। कांग्रेस सड़क से सदन तक आंदोलन कर सरकार की पोल खोलेगी।

कमेंट करें
xHjcs
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।