comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Corona Effect: 222 साल में पहली बार रद्द हुई हज यात्रा, भारतीय हज कमेटी ने रिफंड लौटाने का ऐलान किया

Corona Effect: 222 साल में पहली बार रद्द हुई हज यात्रा, भारतीय हज कमेटी ने रिफंड लौटाने का ऐलान किया

हाईलाइट

  • मार्च के बाद सऊदी अरब से कोई अपडेट नहीं
  • इससे पहले 1798 में हज रद्द किया गया था
  • हज यात्रा रद्द हुई तो सऊदी अरब को दोहरा नुकसान

डिजिटल डेस्क, मुंबई। भारतीय हज कमेटी ने 2020 हज के लिए पूरा रिफंड लौटाने का ऐलान कर दिया है। इसके साथ ही हजारों मुस्लिम जायरीनों का हज करने का सपना टूट गया है। महाराष्ट्र से लगभग 10,500 मुस्लिमों का चयन किया गया था, जिन्हें हज के लिए जाना था। बता दें कि 222 साल में पहली बार ऐसा हुआ है कि भारत की ओर से कोई भी जायरीन हज यात्रा के लिए नहीं जा पाएगा। हालांकि, सऊदी अरब सरकार की ओर से आगामी हज याात्रा को लेकर कोई सफाई नहीं दिए जाने और इंडोनेशिया और पाकिस्तान जैसे कई देशों द्वारा स्वेच्छा से अपनी योजनाओं को रद्द कर देने से इस वर्ष स्थिति संभावित हाजियों के लिए धूमिल दिखाई देती है।

मार्च के बाद सऊदी अरब से कोई अपडेट नहीं मिला
महाराष्ट्र राज्य हज समिति के अध्यक्ष जामिया सिद्दीकी ने आईएएनएस एजेंसी को बताया कि 13 मार्च को भारत में लॉकडाउन लगाए जाने से पहले, सऊदी अरब सरकार ने हज 2020 की तैयारियों को अस्थायी रूप से रोकने के लिए हमें सूचित किया था और उसके बाद इस बारे में कोई सूचना नहीं है। यह हज यात्रा नहीं होने को स्पष्ट कर देता है। सिद्दीकी ने कहा कि जायरीनों को पूरा रिफंड देने के सऊदी हज कमेटी के फैसले और सऊदी अरब से आगे कोई निर्देश नहीं आने के कारण, उन्हें लगता है कि हज 2020 मुसलमानों के लिए महज एक इच्छा भर बनकर रह सकता है, लेकिन किसी को भी इसके लिए दोषी नहीं ठहराया जा सकता है।

कोविड-19 महामारी की वजह से रद्द की यात्रा
सिद्दीकी ने कहा कि यह कोविड-19 महामारी की वजह से है, लेकिन हमें लगता है कि जायरीनों को नुकसान नहीं उठाना चाहिए। हमने केंद्र को पत्र लिखकर मांग की है कि चयनित लोगों को अगले साल जाने की अनुमति दी जाए। अगर केंद्र रिफंड दे रहा है, तो यह पर्याप्त मुआवजे के साथ होना चाहिए। उन्होंने यह जानना चाहा कि सऊदी अरब सरकार की ओर से 13 मार्च को भेजी गई सूचना के बाद जब हज 2020 पर प्रश्नचिह्न खड़ा हो गया था, फिर भी हज समिति ने शुल्क संग्रह जारी क्यों रखा।

इस साल दो लाख जायरीन जाने वाले थे हज
इस साल, भारत से अनुमानित 2 लाख मुस्लिम हज करने की योजना बना रहे थे, जिसमें हज समितियों के माध्यम से 1 लाख 25 हजार से अधिक और बाकी लगभग 47 हजार निजी हज टूर ऑपरेटरों के माध्यम से यात्रा करने की योजना बना रहे थे। इंडियन हज और उमरा टूर ऑपरेटर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष सैयद एआर मिल्ली ने कहा कि मुआवजे की मांग अनुचित है, लेकिन उन्होंने 2021 के हज सीजन के लिए इस साल के जायरीनों की सूची को आगे बढ़ाने की मांग का समर्थन किया।

इस साल चुने गए लोगों को अगले साल मिले मौका
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नसीम खान ने इसी तरह की भावना व्यक्त करते हुए कहा कि लोग वर्षों से आवेदन करते हैं, इसलिए इस वर्ष 2020 के लिए चुने गए लोगों को मुश्किल से मिलने वाले इस अवसर से वंचित नहीं किया जाना चाहिए और सरकार को उन्हें 2021 में हज पर भेजने के लिए विचार करना चाहिए। हज समितियों के माध्यम से जाने वाले जायरीन 201,000 रुपये का भुगतान करते हैं। ग्रीन श्रेणी के लोग 2.90 लाख रुपये का भुगतान करते हैं।

इससे पहले 1798 में हज रद्द किया गया था
कोरोना के चलते दुनियाभर के धार्मिक स्थलों को बंद किया गया है। इसका असर सऊदी अरब में मक्का-मदीना पर भी दिख सकता है। इससे पहले हज यात्रा 1798 में रद्द की गई थी। सऊदी सरकार ने 27 फरवरी को उमरा पर भी बैन लगा दिया था। उमरा हज की तरह ही होता है, लेकिन निश्चित इस्लामी महीने में मक्का और मदीना की यात्रा को हज कहा जाता है।

हज यात्रा रद्द हुई तो सऊदी अरब को दोहरा नुकसान
पिछले साल करीब 20 लाख लोग हज के लिए पहुंचे थे। सऊदी अरब को हज यात्रा से करीब 92 हजार करोड़ रुपए (12 अरब डॉलर) की इनकम होती है। अगर यात्रा रद्द होती है, तो सऊदी अरब की इकोनॉमी के लिए मुश्किल और बढ़ जाएगी, क्योंकि महामारी की वजह से तेल की कीमतें पहले ही काफी गिर चुकी हैं।

कैंसिलेशन के लिए क्या करें?
हज कमेटी की वेबसाइट से कैंसिलेशन फॉर्म डाउनलोड करें। फॉर्म भरकर ceo.hajcommittee@nic.in पर भेजना होगा।

रिफंड कैसे मिलेगा?
सीधे खाते में पैसे आएंगे। कैंसिलेशन फॉर्म के साथ बैंक पासबुक की कॉपी या कैंसिल चेक भी अटैच करना पड़ेगा।

कमेंट करें
5syt3
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।