comScore

Corona Airborne: वैज्ञानिकों का दावा- हवा से भी फैलता है कोरोना, WHO से गाइडलाइंस में संशोधन की मांग

Corona Airborne: वैज्ञानिकों का दावा- हवा से भी फैलता है कोरोना, WHO से गाइडलाइंस में संशोधन की मांग

हाईलाइट

  • 239 वैज्ञानिकों का दावा- हवा में भी रहता है वायरस
  • WHO से गाइडलाइंस में संशोधन करने की मांग

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। नोवल कोरोना वायरस एयरबोर्न (airborne) यानी हवा से भी फैलता है, यह दावा हाल ही में दुनियाभर के सैकड़ों वैज्ञानिकों ने किया है। 32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को एक खत लिखकर चेतावनी दी है और कोरोना की गाइडलाइंस में संशोधन करने की मांग की है। इन वैज्ञानिकों ने अपनी रिसर्च में यह पाया है कि, कोरोना वायरस के छोटे-छोटे कण हवा में भी जिंदा रहते हैं। ये कण भी लोगों को संक्रमित करते हैं।

दरअसल पहले WHO ने कहा था कि, कोरोना वायरस का संक्रमण हवा के जरिए नहीं फैलता है, लेकिन 'न्यूयॉर्क टाइम्स' में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने WHO से इस वायरस की सिफारिशों में तुरंत संशोधन करने का आग्रह किया है।  वैज्ञानिकों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को लिखे खुले पत्र में दावा किया है कि, इस बात के पर्याप्त सबूत हैं, जिससे यह माना जा सकता है, वायरस के छोटे-छोटे कण हवा में मौजूद रहते हैं, जो लोगों को संक्रमित कर सकते हैं। पत्र में वैज्ञानिकों ने कहा है, कोरोना वायरस हवा में लंबे समय तक रह सकता है और कई मीटर का सफर तय कर सकता है। 

बता दें कि, दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 1.15 करोड़ के पार पहुंच गया है। मरने वालों की संख्या पांच लाख 36 हजार 841 हो गई है। 65 लाख 37 हजार 765 मरीज ठीक भी हुए है। वहीं भारत में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या सात लाख के करीब पहुंच गई है। इनमें से 19 हजार 268 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 4 लाख 24 हजार 433 मरीज ठीक हुए हैं। कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से भारत दुनिया का तीसरा सबसे प्रभावित देश बन गया है।

कमेंट करें
k4riW