comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

धूल संकट पर केजरीवाल ने तोड़ी चुप्पी, पर्यावरण सचिव को बताया जिम्मेदार


हाईलाइट

  • सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में आए धूल संकट को लेकर अपनी चुप्पी तोड़ी दी है, केजरीवाल ने पर्यावरण सचिव पर मीटिंग में नहीं आने का आरोप लगाया है।
  • केजरीवाल ने एक वीडियो जारी किया है। जिसमें उन्होंने आईएएस बिरादरी को जिम्मेदार बताया है।
  • केजरीवाल ने कहा है कि हम तो कब से कोशिश कर रहे हैं कि जल्द ही इस समस्या का समाधान निकाल जाए, लेकिन पर्यावरण सचिव चार महीनों से मीटिंग में ही नहीं आ रहे हैं।
  • केजरीवाल ने मोदी जी को चिट्ठी लिखकर अपील की है कि दिल्ली आपकी भी है कुछ कीजिए।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में आए धूल संकट को लेकर अपनी चुप्पी तोड़ी दी है, केजरीवाल ने पर्यावरण सचिव पर मीटिंग में नहीं आने का आरोप लगाया है। केजरीवाल ने एक वीडियो जारी किया है। जिसमें उन्होंने आईएएस बिरादरी को जिम्मेदार बताया है। केजरीवाल ने कहा है कि हम तो कब से कोशिश कर रहे हैं कि जल्द ही इस समस्या का समाधान निकाल जाए, लेकिन पर्यावरण सचिव चार महीनों से मीटिंग में ही नहीं आ रहे हैं। पहले हर सप्ताह  पर्यावरण विभाग में  मीटिंग ली जाती थी। केजरीवाल ने मोदी जी को चिट्ठी लिखकर अपील की है कि दिल्ली आपकी भी है कुछ कीजिए। जब तक आईएएस अधिकारियों हड़ताल खत्म कर काम पर नहीं लौटेंगे तब तक सबकुछ ठीक हो पाना मुश्किल है।
 

[removed][removed]


बता दें कि सोमवार से दिल्ली-एनसीआर समेत पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के आसमान में धूल का गुबार छाया है उससे अगले 48 घंटे और राहत नहीं मिलने वाली है। दिल्ली में लोगों का सांस लेना मुश्किल हो रहा है। धूल की परत की वजह से औसत न्यूनतम तापमान में पांच डिग्री तक की बढ़ोतरी दर्ज हुई है और न्यूनतम पारा 28 डिग्री से 33 डिग्री हो चुका है। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो आसमान से जब तक राहत की फुहार नहीं बरसती है तब तक लोगों को ऐसे ही प्रदूषण से दो-चार होना पड़ेगा। 

Image result for air pollution in delhi


दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकारी ने बयान दिया है कि जल्द ही दिल्ली को इस संकट से निजात दिलाई जाएगी। इसके लिए 40 करोड़ रूपए खर्च किए जा रहे हैं। गडकरी ने 2 साल के भीतर दिल्ली से वायु और जल प्रदूषण को खत्म करने की बात कही है। इसके लिए सीएम, एजी, डीडीए, एनएचएआई के साथ इन सभी मुद्दो को लेकर बैठक होगी। 


निर्माण पर लगी रोक 
दिल्ली के उपराज्यपाल ने धूल से आए संकट से निपटने के लिए तत्काल प्रभाव से रविवार तक सभी तरह के निर्माण कार्य पर रोक लगा दी है, लेकिन एलजी के आदेश को दरकिनार करते हुए दिल्ली के आस-पास के इलाकों में निर्माण कार्य किया जा रहा है। जोकि बढ़ते प्रदूषण का कारण बन रहा है। बता दें कि बुराड़ी के सुनील कॉलोनी, भगत कॉलोनी, भट्टा रोड़, कौशिक एनक्लेव जैस इलाकों में धड़ल्ले से निर्माण कार्य किया जा रहा है। 

Image result for delhi BUILDING CONSTRUCTION AND POLLUTION

कमेंट करें
1pNfZ
कमेंट पढ़े
Xiao January 06th, 2019 10:50 IST

This is a test for comment moderation.

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।