दैनिक भास्कर हिंदी: दिल्ली: प्रदूषण और जाम से मुक्ति,शहर के बाहर से गुजरेंगी 50,000 गाड़ियां

November 20th, 2018

हाईलाइट

  • दिल्ली का वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे हुआ शुरु
  • अब शहर के बाहर से गुजरेंगी 50,000 गाड़ियां
  • प्रदूषण और सड़क हादसों में भी कमी आएगी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सोमवार को दिल्ली का वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे खुल गया है। इसके खुलने के साथ ही दिल्ली वासियों समेत दिल्ली पुलिस को भी राहत मिली है। इस नई सौगात के साथ ही दिल्ली के आउटर हिस्से में पूरी नई रिंग रोड बन गई है। गाड़ियां इस रास्ते से अब बिना शहर में दाखिल हुए ही यूपी से हरियाणा या हरियाणा से यूपी की तरफ आ-जा सकेंगी। इस नए एक्सप्रेस वे से  दिल्ली की सड़कों पर गाड़ियों का बोझ तो कम होगा ही साथ-साथ इसकी वजह से होने वाले प्रदूषण और सड़क हादसों में भी कमी आएगी।

भारी ट्रेफिक से मिलेगी निजात
दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के अनुसार वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे की मदद से दिल्ली में बाहरी राज्यों की करीब 50 हजार गाड़ियों का आना कम हो जाएगा। इसके कारण दिल्ली की सड़कों पर ट्रैफिक को नियंत्रित रखने में काफी मदद मिलेगी। अधिकारियों का कहना है कि मई में जब ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे खुला था, उसके बाद दिल्ली में रोज करीब 70 से 75 हजार वाहनों की एंट्री कम हो गई है। अब वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे के ओपन होने से रोजाना करीब सवा लाख गाड़ियों को दिल्ली से होते हुए नहीं जाना पड़ेगा। 

इन सड़को पर दिखेगा असर
इस एक्सप्रेस वे के खुलने से पहले यूपी और हरियाणा के बीच आने-जाने वाले भारी वाहनों को दिल्ली में रिंग रोड, आउटर रिंग रोड, मथुरा रोड, जीटी करनाल रोड, रोहतक रोड, एमजी रोड, एनएच-8, एनएच-1, एनएच-24, गाजीपुर रोड, नोएडा लिंक रोड जैसे रास्तों से गुजराना पड़ता था।  इन बड़े वाहनों के दिल्ली से होकर गुजरने के चलते  दिल्ली की सड़कों पर जाम और प्रदुषण जैसी समस्या बेहद गंभीर स्तर पर पहुंच गई थी। इस समस्या को हल करने के लिए दिल्ली की सीमा से दूर एक ऐसी रिंग रोड बनाने की योजना पर काम शुरू किया गया था,  जिससे ट्रकों को दिल्ली से होकर जाने की जरूरत ही ना पड़े, जिन्हें किसी और राज्य में जाना है।


 

खबरें और भी हैं...