comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

महाराष्ट्र: फडणवीस-राज ठाकरे मुलाकात पर भाजपा नेता खडसे का कटाक्ष


हाईलाइट

  • 23 जनवरी को मुंबई में मनसे का सम्मेलन
  • मनसे को साथ लेने की तैयारी में भाजपा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री एकनाथ खडसे ने विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस और मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे के बीच हुई मुलाकात पर कटाक्ष किया है। बुधवार को विधानभवन परिसर में पत्रकारों से बातचीत में खडसे ने कहा कि फडणवीस और राज की मुलाकात से शिवसेना से दूर हुए हिंदुत्ववादी वोटर एकजुट होंगे लेकिन भाजपा से जो दूर हुए लोगों को पार्टी के करीब आने में काफी समय लगेगा। खडसे ने कहा कि फडणवीस और राज के बीच हुई मुलाकात हिंदुत्ववादी राजनीति की ओर बढ़ाया गया पहला कदम है। शिवसेना ने राकांपा और कांग्रेस के साथ जाने का फैसला किया है। इसलिए शिवसेना से हिंदुत्ववादी वोटर दूर हुए हैं। दोनों नेताओं की मुलाकात से हिंदुत्ववादी वोटर एकजुट होंगे। ऐसे मेरा अनुमान है। वहीं भाजपा विधायक व पूर्व मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि मुझे नहीं लगता है कि दोनों नेताओं के बीच में राजनीति पर ज्यादा चर्चा हुई होगी। फडणवीस और राज के बीच शिष्टाचार मुलाकात हुई है। बैठक में राज्य के हित, महाराष्ट्र धर्म और देश धर्म के बारे में चर्चा हुई है। मुनगंटीवार ने कहा कि भविष्य में कुछ भी हो सकता है। तीन महीने पहले किसी को नहीं लगा था कि कांग्रेस और शिवसेना साथ आ जाएगी। 
 

फडणवीस-राज ठाकरे मुलाकात 

महाराष्ट्र में एकबार फिर नए समीकरण बनते हुए दिख रहे हैं। मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मनसे प्रमुख राज ठाकरे से मुलाकात की। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार फडणवीस और ठाकरे की मुलाकात मुंबई के लोअर परेल की इंडिया बुल्स बिल्डिंग में हुई। दोनों के बीच करीब एक घंटे बातचीत हुई। 

मनसे और भाजपा होंगे एक
दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात काफी अहम है, क्योंकि 23 जनवरी को मुंबई में मनसे एक सम्मेलन का आयोजन कर रही है। रिपोर्ट के अनुसार शिवसेना से धोखा मिलने के बाद बीजेपी हिंदुत्व के मुद्दे को बनाए रखने के लिए राज्य में मनसे का विश्वास जितने में लगी है। 

झंडे बदलेगा मनसे
रिपोर्ट के अनुसार मनसे अपना झंडे को बदलने वाला है। नया झंडा केसरिया होगा और उसपर छत्रपति शिवाजी महाराज की तस्वीर होगी। अगर मनसे बीजेपी का साथ देती है, तो यह काफी रोचक होगा। गौरतलब है कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव में राज ठाकरे ने पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा था। 

कमेंट करें
oLQir
कमेंट पढ़े
Girraj sahu September 01st, 2020 05:51 IST

Sahara refund kab mileage rajgarh

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।