दैनिक भास्कर हिंदी: CM फडणवीस पर संजय राउत का तंज, बोले - वादे से मुकर रही भाजपा, शाह नाराज

October 29th, 2019

हाईलाइट

  • देवेन्द्र फडणवीस होंगे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री !
  • मुख्यमंत्री पद के लिए कोई दूसरा विकल्प नहीं- फडणवीस
  • शिवसेना की मांगों पर मेरिट के आधार पर विचार हो रहा है- फडणवीस

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद को लेकर शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी के बीच सियासी घमासान अब और भी तेज हो गया है। इस बीच अब शिवसेना के दिग्गज नेता संजय राउत ने '50-50 फॉर्मूला' पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंंने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बताया कि सीएम फडणवीस अपने ही दिये गए बयान से पलट गए हैं। उन्होंने कहा कि 'मैं नहीं जानता कि सीएम फडणवीस ने क्या कहा है। यदि वह कह रहे हैं कि '50-50 फॉर्मूले' पर कभी चर्चा नहीं हुई है, तो मुझे लगता है कि हमें सच्चाई की परिभाषा बदलने की जरूरत है। जिस मुद्दे पर सीएम फडणवीस बात कर रहे हैं, उसके बारे में सभी जानते हैं।'

 

बयानबाजी से शाह नाराज, मुंबई का दौरा रद्द  

इस मामले में शिवसेना का अड़ियल रूख देखते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बुधवार को मुंबई जाने का अपना कार्यक्रम रद्द कर दिया है। जानकारी के मुताबिक भाजपा नेतृत्व शिवसेना सांसद संजय राउत की बयानबाजी से असहज है। उसका मानना है कि मौजूदा परिस्थिति में श्री शाह के मुंबई जाने का कोई मतलब नहीं है।
उधर मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़नवीस के भाजपा और शिवसेना के बीच 50-50 वाले फार्मूले की बात से इंकार करने के बाद शिवसेना कहीं ज्यादा आक्रामक हो गई है। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से शिवसेना की ओर से लगातार हो रही बयानबाजी से परेशान भाजपा भी अब कड़ा रूख अख्तियार करती दिख रही है। सूत्र बताते हैं कि इसी नाराजगी में अमित शाह ने मुंबई का अपना दौरा रद्द किया है और प्रदेश इकाई को निर्देश दिया है कि फिलहाल शिवसेना से वह अपने स्तर पर बात करे। भाजपा अब शिवसेना को यह संदेश देना चाहती है कि वह भी सरकार बनाने की जल्दी में नहीं है। महाराष्ट्र में जारी सियासी खींचतान में 54 सीट वाली राकांपा की भूमिका विशेष मानी जा रही है। भाजपा के रणनीतिकारों का मानना है कि राकांपा और कांग्रेस की अोर से मिल रही अंदरूनी शह की बदौलत ही शिवसेना ज्यादा नखरे दिखा रही है। ऐसे में सूत्र बताते हैं कि भाजपा का शीर्ष नेतृत्व राकांपा को सियासी तौर पर घेरने की जुगत में है ताकि उसे शिवसेना के नजदीक जाने से रोका जा सके।

 

उधर संजय ने बताया कि 'सीएम फडणवीस ने खुद '50-50 फॉर्मूला' की बात कही थी। अगर अब ये (फडणवीस) कहते हैं कि ऐसी कोई बात नहीं हुई है, तो मैं ऐसी बातों को प्रणाम करता हूं।' उन्होंने कहा कि 'सीएम फडणवीस कैमरे के सामने अपनी ही कही हुई बात से इंकार कर रहे हैं।'

 

BJP - शिवसेना की बैठक रद्द

 

 

संजय के मुताबिक मुख्यमंत्री पद को लेकर BJP और शिवसेना के बीच आज विचार-विमर्श होना था लेकिन सीएम फडणवीस के बयान के बाद दोनों पार्टियों के बीच कोई बात नहीं हो सकी। संजय ने बताया कि 'आज शाम 4 बजे दोनों पार्टियों के बीच चर्चा होनी थी। लेकिन यदि खुद सीएम कह रहे हैं कि '50 -50 फॉर्मूले' पर चर्चा हुई ही नहीं, तो हम क्या बात करेंगे? हमें किस आधार पर भाजपा से बात करनी चाहिए? इसलिए उद्धव जी ने आज की बैठक रद्द कर दी।'

बता दें कि सीएम फडणवीस ने कहा था कि 'शिवसेना 5 साल के लिए मुख्यमंत्री पद चाहती है, लेकिन मांगना और प्रैक्टिकल होना दो अलग बातें हैं। मुख्यमंत्री पद को लेकर कभी कोई 50-50 फॉर्मूला तय नहीं हुआ।' इसी बात पर शिवसेना के संजय राउत ने सीएम फडणवीस पर तंज कसा है। वहीं सीएम फडणवीस ने दो टूक कहा था कि 'ये बात स्पष्ट है कि मैं ही मुख्यमंत्री बनूंगा। शिवसेना की मांगों पर मेरिट के आधार पर विचार हो रहा है, हमारे पास कोई प्लान B या C नहीं है।' उन्होंने बताया था कि 'हमारे पास दस निर्दलीय विधायकों का समर्थन है, जल्द ही ये संख्या 15 तक पहुंचेगी। बता दें कि देवेंद्र फडणवीस का ये बयान तब आया, जब शिवसेना की ओर से लगातार मुख्यमंत्री पद को लेकर 50-50 फॉर्मूला अपनाने का दबाव बनाया जा रहा है।'

इससे पहले संजय ने आज कहा था कि 'उद्धव ठाकरे जी से मेरी बातचीत हुई है उन्होंने कहा है कि हमारे पास अन्य विकल्प भी हैं, लेकिन हम उस विकल्प को स्वीकार करने का पाप नहीं करना चाहते हैं। शिवसेना ने हमेशा सच्चाई की राजनीति की है, हम सत्ता के भूखे नहीं हैं। राउत ने स्पष्ट कर दिया है कि 'यहां हम हैं जो 'धर्म और सत्य' की राजनीति करते हैं, शरद पवार जिन्होंने बीजेपी और कांग्रेस के खिलाफ माहौल बनाया है जो कभी बीजेपी के साथ नहीं जाएंगे।'

खबरें और भी हैं...