दैनिक भास्कर हिंदी: आखिर किस डर से भारत नहीं आ पा रहा है भगोड़ा नीरव मोदी

December 1st, 2018

हाईलाइट

  • भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने भारत वापस आने की इच्छा तो जाहिर की है।
  • नीरव मोदी को भारतीय लोगों से हमले का डर सता रहा है।
  • नीरव मोदी को भगोड़ा कहना गलत, नीरव मोदी कानूनी तरीके से विदेश गए थे।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने भारत वापस आने की इच्छा तो जाहिर की है, लेकिन नीरव मोदी को डर है कि कहीं भारतीय लोग उस पर हमला न कर दे। इस बात की जानकारी नीरव मोदी के वकील ने मुंबई सेशन्स कोर्ट में सुनवाई के दौरान दी। वकील ने कहा कि नीरव मोदी भारत छोड़कर भाग नहीं है बल्कि भारत वापस आना चाहते हैं लेकिन उन्हें डर है कि भारतीय लोग उन पर हमला न कर दे।  


कोर्ट में सुनवाई के दौरान नीरव के वकील ने कहा, विदेशों में भी उनके कई बिजनेस है और वह अपने नियमित पासपोर्ट और वीजा के साथ विदेश गए हैं। जिससे यह साबित होता है कि वह देश छोडकर भागे नहीं हैं। उन्होंने कहा की नीरव को भगोड़ो कहने वाली सभी बाते गलत है। नीरव कानूनी तरीके से विदेश गए है। उन पर देश छोड़कर भागने के गलत आरोप लगाए जा रहे है। अगर उन्हें देश छोड़कर भागना ही होता तो वे वापस भारत आने की इच्छा जाहिर नहीं करते। सुनवाई के दौरान नीरव के वकील ने कहा, जांच एजेंसी ईडी नीरव मोदी का दफ्तर, घर, शोरूम समेत अन्य कई प्रॉपर्टी जब्त कर चुकी है, उनके स्टाफ को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। इस कारण वह और कोई कागजात पेश करने में असमर्थ हैं जिसके बाद कोर्ट ने सुनवाई स्थगित कर दी और अगली तारीख 5 दिसंबर तय कर दी। 


बता दें कि नीरव मोदी इस साल की शुरुआत में बैंक धोखाधड़ी मामला सामने आने के बाद से भारत से फरार है और इंटरपोल ने उसकी गिरफ्तारी के लिये हाल में वारंट जारी किया था। वहीं, भारत ब्रिटेन से उसके प्रत्यर्पण का प्रयास कर रहा है, जहां आखिरी बार उसे देखा गया था। एजेंसी ने अब तक देश में मोदी और उसके परिवार की 700 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति कुर्क की है। बता दें कि हीरा व्यापारी नीरव मोदी करोड़ों का कर्ज लेकर भारत से फरार हो गए है। फरारी के बाद जांच एजेंसियां नीरव मोदी को भारत लाने के लिए प्रयास कर रही है।  हालांकि अभी तक सफलता हाथ नहीं लगा है। 

खबरें और भी हैं...