दैनिक भास्कर हिंदी: साल का सबसे खूनी ऑपरेशन: नाले में गिरने के बाद भी जवानों ने 5 आतंकियों को ढेर किया, 5 सैनिक शहीद

April 7th, 2020

हाईलाइट

  • एक जवान ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ा
  • 4 जवानों की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हुई

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ नियंत्रण रेखा पर किसी भी ऑपरेशन में इस साल की सबसे बड़ी गोलाबारी रविवार को हुई, जिसमें सेना के पांच जवान शहीद हुए और पांच आतंकवादी मारे गए। रक्षा सूत्रों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर में एलओसी पर गोलाबारी में रविवार को घटनास्थल पर ही एक सैनिक शहीद हो गया था, जबकि 5 आतंकवादी मारे गए थे। वहीं चार घायल सैनिकों ने रविवार देर शाम अस्पताल में दम तोड़ दिया। आतंकवादियों ने पिछले दो दिनों से हो रही बर्फबारी के बीच खराब मौसम का फायदा उठाने का प्रयास किया था।

सेना के एक बयान में कहा गया कि अभी जो शुरुआती जानकारी मिली है, उसके मुताबिक 5 अप्रैल को बर्फ पर पदयात्रा के दौरान सैनिकों का एक दल यह नहीं समझ पाया कि वे नाले के ऊपर जमी बर्फ की सिल्ली पर हैं और वह टूट गई। वे नाले में गिर गए। दुर्भाग्यवश जहां वे गिरे, आतंकवादी वहीं पर बैठे थे। इसके बाद अंधेरे में गोलीबारी हुई। आर्मी टीम के बेहतर प्रशिक्षण मानकों के कारण, गिरने के बाद भी जावानों ने सभी पांचों आतंकवादियों को मार गिराया। हालांकि, इस कार्रवाई में दस्ते के पांचों सैनिक भी मारे गए।

घने वनाच्छादित क्षेत्र में छिपे हुए आतंकवादियों को बाहर निकालने का अभियान अभी भी जारी है, लेकिन अभी तक सेना के जवानों और आतंकवादियों के बीच गोलीबारी नहीं हुई है। 

जवानों की हुई पहचान
पांच शहीद सैनिकों की पहचान की गई है वे- सब संजीव कुमार, हवलदार दवेंद्र सिंह, सिपाही बाल कृष्ण, सिपाही अमित कुमार और सिपाही छत्रपाल सिंह हैं।

खबरें और भी हैं...