दैनिक भास्कर हिंदी: खत्म हुआ किसानों का चक्का जाम, 12 से 3 बजे तक कई राष्ट्रीय राजमार्गों पर बंद रही वाहनों की आवाजाही

February 6th, 2021

हाईलाइट

  • कृषि कानून के विरोध में अनशन पर अन्नदाता
  • आज देशभर में किसानों का चक्का जाम
  • किसानों के चक्का जाम को विपक्षी दलों का समर्थन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केन्द्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ 40 से ज्यादा किसान संगठन ने आज (शनिवार) देशव्यापी चक्का जाम किया। दोपहर 12 बजे से तीन बजे तक कई राष्ट्रीय राजमार्गों पर वाहनों की आवाजाही बंद रही। किसानों का ये विरोध प्रदर्शन शांति पूर्ण तरीके से खत्म हुआ। प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने पहले से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए थे। 

कानून-व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने में दिल्ली पुलिस की सहायता के लिए, सीमाओं सहित दिल्ली-एनसीआर के विभिन्न हिस्सों में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया था। हालांकि इस प्रदर्शन के दौरान दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में चक्का जाम नहीं किया गया। वहीं, मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने किसानों के इस प्रदर्शन का समर्थन किया। 

भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने प्रदर्शन से पहले कहा था कि दिल्ली-NCR, यूपी और उत्तराखंड में सड़कें जाम नहीं की जाएंगी। उन्होंने कहा कि दिल्ली में तो हर दिन जाम जैसे हालात रहते हैं, ऐसे में यहां जाम की क्या जरूरत है। हालांकि, उन्होंने यूपी और उत्तराखंड को इससे अलग रखने की वजह नहीं बताई। यह जरूर कहा कि इन दोनों राज्यों से किसानों को स्टैंडबाई पर रखा गया है और उन्हें किसी भी वक्त बुलाया जा सकता है।

Farmers protest live updates

जम्मू-पठानकोट हाइवे पर कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का चक्का जाम 

 

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कृषि कानूनों का विरोध करने वालों से किसानों के प्रदर्शन में शामिल होने की अपील की

 

 

बीजेपी नेता अमित मालवीय ने कहा कि पंजाब सरकार ने कॉन्ट्रैक्ट फॉर्मिंग के कानून बनाए हैं जिसमें जेल भेजने और जुर्माने का प्रावधान है, लेकिन पंजाब सरकार के खिलाफ प्रदर्शन क्यों नहीं किया जा रहा है।
 

 

खबरें और भी हैं...