दैनिक भास्कर हिंदी: आज आधी रात से लागू होगा नियम: आपके वाहन में नहीं लगा है फास्टैग तो पार नहीं कर पाएंगे टोल प्लाजा, खरीदनें के लिए ऐसे करें अप्लाई

February 15th, 2021

हाईलाइट

  • आज आधी रात से फास्टैग के बिना टोल प्लाजा पर नहीं होगा पेमेंट
  • FASTag नहीं होगा तो आप Toll Plaza पार नहीं कर पाएंगे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अगर आप चाहते हैं कि आपको सफर के दौरान किसी तरह की परेशानी ना आए तो अपने वाहन में जल्द ही FASTag लगवा लीजिए। क्योंकि कल से पूरे देश में FASTag अनिवार्य हो जाएगा। इसका मतलब ये होगा कि अगर आपके वाहन पर FASTag नहीं होगा तो आप टोल प्लाजा पार नहीं कर पाएंगे। 

सड़क परिवहन मंत्रालय ने नेशनल हाइवेज पर टोल की वसूली फास्टैग के जरिए अनिवार्य बनाने की डेडलाइन 15 फरवरी तक बढ़ाई थी। वो मियाद खत्म हो रही है और 15-16 फरवरी की आधी रात से फास्टैग को अनिवार्य किया जाएगा। इसे लेकर सरकार की तरफ से नोटिफिकेशन भी जारी किया जा चुका है।

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को कहा कि फास्टैग को अनिवार्य करने की समय सीमा को आगे नहीं बढ़ाया जाएगा। इसलिए वाहन मालिकों से अनुरोध है कि वे तुरंत ई-भुगतान सुविधा को अपनाएं। FASTags को 2016 में पेश किया गया था। इसके वाहन पर अनिवार्य करने से टोल प्लाजा पर लगने वाली लंबी लाइन से छूटकारा मिलेगा।

ऐसे खरीद सकते हैं फास्टैग
लोगों की सुविधा के लिए टोल प्लाजा पर विभिन्न बैंकों के एजेंट व एनएचएआई की तरफ से काउंटर लगाए गए हैं। लोग अपने वाहन की आरसी व ड्राइविंग लाइसेंस अथवा आधार कार्ड दिखाकर हाथों हाथ फास्टैग खरीद सकते हैं। वैसे तो FASTag लेने के बहुत से तरीके हैं लेकिन सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक से भी आप FASTag ले सकते हैं।

इसके लिए बैंक ने अलग से हेल्पलाइन नंबर (New Help Line no- 18004196610) जारी किया है। यह काम ऑनलाइन भी किया जा सकता है। इसके लिए पीएनबी की वेबसाइट पर जाना है और फास्टैग संबंधी एप्लिकेशन फॉर्म में पूरी जानकारी देनी है। इसके बाद पेमेंट करना है और बैंक आपके ऐड्रेस पर इसे भेज देगा। इसके लिए आपको कुछ दस्तावेज देने होते हैं जैसे रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट और KYC के लिए आधार कार्ड और पैन कार्ड।

कार, जीप, वैन और टाटा ऐस के लिए फास्टैग की कीमत 400 रुपए है, जिसमें सिक्यॉरिटी डिपॉजिट 200 रुपए है। फास्टैग जारी करने की फीस 100 रुपए है। बता दें कि गत एक वर्ष से करीब 70 प्रतिशत वाहन फास्टैग की मदद से डिजिटली तरीके से टोल का भुगतान कर रहे हैं। फास्टैग की शुरुआत 2016 में हुई थी। यह टोल प्लाजा पर शुल्क का भुगतान इलेक्ट्रॉनिक तरीके से करने की सुविधा है। फास्टैग को अनिवार्य किए जाने के बाद टोल प्लाजा पर वाहनों को रुकना नहीं पड़ेगा और टोल शुल्क का भुगतान इलेक्ट्रॉनिक तरीके से हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...