दैनिक भास्कर हिंदी: इंदौर में शिवराज सरकार पर गरजे मनमोहन, कहा- बीजेपी राज में मध्यप्रदेश पिछड़ा

November 21st, 2018

हाईलाइट

  • पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इंदौर में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी पर निशाना साधा है।
  • मनमोहन सिंह ने कहा कि पीएम मोदी इस देश की डेमोक्रेसी को कमजोर करने की सोची समझी साजिश रच रहे हैं।
  • मनमोहन सिंह ने कहा कि नोटबंदी एक संगठित लूट था।

डिजिटल डेस्क, इंदौर। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इंदौर में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में मध्यप्रदेश की बीजेपी सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने राज्य की शिवराज सरकार की कमियां गिनाते हुए कहा कि पिछले 15 सालों में एमपी आगे बढ़ने की बजाय अन्य राज्यों से पिछड़ चुका है। मनमोहन ने इस दौरान पीएम मोदी पर निशाना साधा। मनमोहन सिंह ने कहा कि पीएम मोदी इस देश की डेमोक्रेसी को कमजोर करने की सोची समझी साजिश रच रहे हैं। मनमोहन सिंह ने कहा, 'इस देश के लोग राफेल डील को लेकर भ्रमित हैं। विपक्षी पार्टियां और कई ऑर्गेनाइजेशन इसपर जॉइंट पार्लियामेंटरी कमेटी बनाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन मोदी सरकार इसके लिए तैयार नहीं है। इससे पता लगता है कि दाल में कुछ काला है।'

दो दिन पहले ही इंदिरा गांधी पीस प्राइज से नवाजे गए मनमोहन सिंह ने कहा कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के आने से संसद और CBI जैसे संस्थानों की विश्वसनीयता कम हुई है। उन्होंने कहा, 'रूल ऑफ लॉ पर भी हमले किए जा रहे हैं। अगर यह परिस्थिति नहीं बदली तो इतिहास कभी वर्तमान पीढ़ि को माफ नहीं करेगी।' इसके साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री ने पीएम मोदी पर प्रधानमंत्री पद का गलत इस्तेमाल करने का आरोप भी लगाया। मनमोहन ने कहा, 'एक प्रधानमंत्री को यह शोभा नहीं देता कि वह अपने विपक्षी नेताओं को गाली दें।'

नोटबंदी पर अपने विचार रखते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि यह एक संगठित लूट थी। मनमोहन ने कहा, 'नोटबंदी हो चुकी है और इसे अब बदला नहीं जा सकता। नोटबंदी छोटे-बड़े बिजनेस करने वाले, किसानों और घरेलू महिलाओं की आमदनी पर हमला था। नोटबंदी से ब्लैक मनी को व्हाइट मनी में कन्वर्ट किया गया है। इसमें करीब 120 गरीब लोगों ने अपनी जान गंवा दी। अब यह लोगों के हाथ में है कि जिस सरकार ने उनके साथ यह बर्ताव किया है, उससे वह छुटकारा पाना चाहते हैं या उसे बरकरार रखना चाहते हैं।' 

मनमोहन सिंह ने जॉब और व्यापम घोटाले को लेकर मध्यप्रदेश बीजेपी और शिवराज सिंह पर भी निशाना साधा। मनमोहन ने कहा, 'अच्छे दिन का वादा करने वालों ने युवाओं को जॉब उपलब्ध भी नहीं करवाई। MP में भी पिछले 14 सालों में बीजेपी ने कोई जॉब ऑफर नहीं निकाले। बेरोजगारी से मरने वालों में पहले नं पर मध्यप्रदेश है। MP में सुसाइड केस भी बढ़े हैं। वहीं व्यापम स्कैम ने करीब 77 लाख युवा छात्र और छात्राओं के भविष्य को बरबाद किया है। जबकि 50 लोगों ने इस घोटाले में अपनी जान गंवा दी।' 

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, 'मध्यप्रदेश में किसानों की हालत काफी दयनीय है। बीजेपी ने किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य देने का वादा किया था। वह भी अभी तक उन्हें उपलब्ध नहीं हो सका है। एक तरफ किसानों के साथ बुरा हो रहा है तो दूसरी तरफ महिलाओं और बच्चों के साथ दुर्व्यव्हार की घटनाएं बढ़ी हैं। NCRB डाटा बताता है कि MP में लड़कियों के साथ रेप और किडनैपिंग की संख्या बढ़ी है। हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर भी कमजोर हुई है। काफी समय बाद अब यह समय आ गया है कि MP में कांग्रेस पार्टी पर दोबारा भरोसा किया जाए।'