दैनिक भास्कर हिंदी: हंदवाड़ा एनकाउंटर: शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा को राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई, नम आंखों से बेटी और पत्नी ने किया सैल्यूट

May 5th, 2020

हाईलाइट

  • हंदवाड़ा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ में कर्नल आशुतोष शर्मा शहीद हुए थे
  • शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा को दो बार वीरता पुरस्तार मिल चुके थे

डिजिटल डेस्क, जयपुर। हंदवाड़ा एनकाउंटर (Handwara Encounter) में शहीद हुए कर्नल आशुतोष शर्मा (Colonel Ashutosh Sharma) को आज सुबह जयपुर मिलिस्ट्री स्टेशन में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। कर्नल को अंतिम विदाई देने के लिए भाजपा नेता राजवर्धन सिंह राठौर और मुख्यमंत्री अशोल गहलोत भी पहुंचे। बता दें रविवार को आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में मेजर सहित कुल पांच जवान शहीद हो गए थे। करीब 15 घंटे चले ऑपरेशन में दो आतंकी भी मारे गए। 

गर्व है कि आशुतोष शर्मा की पत्नी हूं
शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा की पत्नी पल्लवी शर्मा ने कहा कि मेरी आंखों में आंसू नहीं है। मुझे उनपर गर्व हो रहा है। मुझे गर्व है कि मैं आशुतोष शर्मा की पत्नी हूं। मैं उनके नाम से जानी जाऊंगी, इस बात का मुझे गर्व और खुशी है। 

दो बार मिला वीरता पुरस्कार
बता दें कर्नल आशुतोष शर्मा को दो बार वीरता पुरस्कार मिल चुका है। एक ऑपरेशन में आतंकी अपने कपड़ों में ग्रेनेड छिपाकर जवानों की तरफ बढ़ रहा था। उस समय कर्नल आशुतो। ने आतंकी को काफी नजदीक से गोली मारी थी। 

मुझे कुछ नहीं होगा भाई
कर्नल आशुतोष के बड़े भाई पीयूष कहा कि चाहे कितनी मुश्किलें आएं, वह उस चीज को हासिल करता था। उन्होंने बताया कि मेरी अपने भाई से एक मई को बातचीत हुई थी। उस दिन राष्ट्रीय राइफल्स का स्थापना दिवस था। उसने हमें बताया कि उन लोगों ने कोरोना वायरस महामारी के बीच कैसे स्थापना दिवस मनाया। मैं उसे समझाता था, लेकिन उसके पास एक ही जवाब होता था मुझे कुछ नहीं होगा भाई।