दैनिक भास्कर हिंदी: जबलपुर में बन रही होटल गिरी, 23 मजदूर दबे, 2 की मौके पर मौत

April 16th, 2018

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। जबलपुर के बरगी हिल्स में बन रहे केमतानी ग्रुप के कौशल्या माय होम्स में निर्माणाधीन होटल में सोमवार की दोपहर 50 फीट की ऊंचाई पर बन रहे रूफटॉप के स्लैब के पिलर अचानक भरभराकर गिर गए। घटना के वक्त 50 से ज्यादा मजदूर मौके पर काम कर रहे थे, जिनमें से 23 मजदूर लोहे-सीमेंट के साथ सेंटिंग के मलबे में दब गए। दो लोगों की मौके पर मौत हो गई, जबकि 17 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों में 5 मजदूरों की कमर और रीढ़ की हड्डियों में घातक चोटें पहुंचीं हैं, जिससे उनके जीवन भर अपंग होने का अनुमान लगाया जा रहा है।

तीन मजदूर मलबे में 3 घंटे से ज्यादा देर तक फंसे रहे जिन्हें SDRF की टीम ने दो घंटे रेस्क्यू के बाद बाहर निकाला, लेकिन एक मजदूर की अस्पताल पहुंचने पर मौत हो गई। सोमवार की दोपहर करीब सवा 3 बजे हुए इस हादसे की खबर मिलने पर महापौर स्वाति गोडबोले, आईजी अनन्त कुमार सिंह, कलेक्टर छवि भारद्वाज, एसपी कुमार सौरव, नगर निगम कमिश्नर वेदप्रकाश, अपर कलेक्टर छोटे सिंह, एएसपी संजय साहू के अलावा दर्जनों पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए। रेस्क्यू खत्म होने तक सभी अधिकारी मौके पर मौजूद रहे।

 

 

मृतक और घायलों के नाम
इस हादसे में बेलबाग निवासी मजदूर बिन्नू बारी उर्फ विनय 36 वर्ष और पनागर पटरा उमरिया निवासी सुनील दुबे की मौत हो गई। जबकि घायलों में बसंती बाई, 40 वर्ष, प्रतिमा देवी यादव 34, शिवकुमार झारिया, 29 वर्ष, लक्ष्मी बाई गौंड़ 26 वर्ष, जुगल किशोरी मरावी 33 वर्ष, रूपेश कंजड़ 42, नरेश नेताम 33 वर्ष, कुलझर बाई, 30 वर्ष, शांति बाई  20 वर्ष, पुनिया बाई 34 वर्ष, भागवती बाई, मिथलेश समुंद्रे, कालूराम पटैल, बिहारीलाल ठाकुर, कांति ठाकुर, गणेश पटैल, कमल सिंह और भोला सिंह शामिल हैं।

मृतकों को 4-4 लाख की आर्थिक सहायता- घटना के बाद कलेक्टर छवि भारद्वाज ने मृतकों के परिवारों को 4-4 लाख रुपए की आर्थिक मदद और घायलों को मुफ्त इलाज की घोषणा की।

 

 

लापरवाही की ठोस जांच के निर्देश- कलेक्टर छवि भारद्वाज ने इस हादसे को लेकर अपर कलेक्टर छोटेे सिंह के साथ एएसपी ग्रामीण संजय साहू को ठोस जांच के निर्देश दिए हैं, प्राथमिक जांच के बाद पुलिस ने प्रोजेक्ट के ठेकेदार गुड्डा राय और संतोष शिवहरे काे हिरासत में ले लिया है। कलेक्टर छवि भारद्वाज का कहना है कि विस्तृत जांच के बाद जिन लोगों की लापरवाही होगी, उनके िखलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाएगा।

5वीं मंजिल पर बन रहा था एनटायर स्लैब
केमतानी ग्रुप की निर्माणाधीन होटल की एन्ट्रेंस लॉबी  (एन्ट्रेंस फोयर) में 50 फीट की ऊंचाई पर एनटायर बीम के स्लैब का काम चल रहा था। जिसके लिए भूतल से दो फ्लोर तक बल्लियों की सेंटिंग का कच्चा लेंटर डाला गया था। इसके लिए लॉबी के चार बड़े पिलरों में लोहे का बड़ा जाल बिछाया गया था।  सुबह 10 बजे से मजदूर बीम में कांक्रीट  का मसाला भर रहे थे। दोपहर करीब सवा तीन बजे अचानक स्लैब भरभराकर गिर गया, जिसमें मजदूर दब गए।